Anuppur : चोरों को पकड़ने में नाकाम है कोतवाली पुलिस
चोरों को पकड़ने में नाकाम है कोतवाली पुलिसSitaram Patel

Anuppur : चोरों को पकड़ने में नाकाम है कोतवाली पुलिस

अनूपपुर, मध्यप्रदेश : 8 महीने में दो दर्जन से ज्यादा हुई चोरियां, महज दिखावे भर का निराकरण। कोतवाली से लगभग 300 मीटर में 2 लाख 95 हजार की फिर हुई चोरी।
Summary

बीते 8 महीनो में जिस तरह से कोतवाली अंतर्गत लगातार चोरियां हुई हैं और चोरों को पकडने में नाकाम रही पुलिस से प्रतीत होता है कि चोरों से भी कमजोर कोतवाली पुलिस हो गई है। दो दर्जन से ज्यादा चोरियां होने के बाद आज भी दर्जन भर चोरियां पुलिस के लिए रहस्य बनी हुईं हैं।

अनूपपुर, मध्यप्रदेश। कोतवाली पुलिस की कार्यक्षमता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि थाने से कुछ ही दूरी पर लाखों की चोरी हो जाती है और पुलिस ढूंढते ही रह जाती है। जिस चोरी में चोर आसानी से मिल जाते हैं उन पर कार्यवाही कर के अपनी पीठ थप-थपा लेती है, लेकिन जिस चोरी में चोरों को ढूंढने में मेहनत लगे उन चोरों को आज तक नही पकड़ पाई। बीते कुछ माह पूर्व एक ही महीने में कोतवाली के दस्तावेज में दर्जनों चोरियां दर्ज की गई थीं, लेकिन दो-चार पर ही कार्यवाही को अंजाम दिया था, उसके बाद मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया और एक बार फिर चोरी का सिलसिला शुरू होने लगा है।

सीसीटीवी के बाद भी नहीं मिलते चोर :

कोतवाली पुलिस को अगर किसी के ऊपर फर्जी एफआईआर करनी हो तो बिना जांच व पूछताछ के कई धाराएं दर्ज कर देती है, लेकिन जब चोरों की बारी आती है तो न तो उन्हें सीसीटीवी दिखाई देता है और न ही कोई सुराग मिल पाता है, जांच कर्ता अधिकारी नौ दिन चले अढाई कोस वाले सिस्टम में अपनी विवेचना को करती है, जिसके कारण महीनों तक चोरों का नामो निशान और पहचान नही कर पाते हैं।

फिर हुई तीन लाख की चोरी :

मुख्यालय में संचालित प्रतिष्ठित युवा कंप्यूटर संस्थान सैकड़ों युवाओं को तकनीकी शिक्षा देकर डिजिटल इंडिया के सपने को साकार करने में अपना योगदान दे रहा था, लेकिन चोरों ने मूल्यवान दस्तावेज के साथ लगभग 2 लाख 95 हजार ताला तोड़ कर ले उड़े। मामला 20 अगस्त की रात्रि का है, जहां रेलवे फाटक व कोतवाली से कुछ ही दूरी पर मौजूद यह संस्थान सुरक्षित स्थान पर हैं, फिर भी पुलिस की लापरवाही के कारण चोरो ने लाखो रूपए पार कर दिया।

तलाश में जुटी पुलिस :

संस्थान के संचालक अमरदीप सिंह बघेल के द्वारा इस पूरे घटना क्रम की जानकारी 21 अगस्त को कोतवाली में जा कर दी, पुलिस ने धारा 457, 380 के तहत एफआईआर दर्ज करते हुए मामले की जांच में जुटी हुई है, जांच अधिकारी एसआई बी.एल. गौलिया संस्थान की छान-बीन और अन्य स्थानों पर लगे सीसीटीवी खंगाल कर चोरों तक पहुंचने का प्रयास तो कर रहे हैं, लेकिन 5 दिन बाद भी उनके हाथ में एक भी सुराग नहीं लग पाया है।

चोरों ने तोड़े कई ताले :

संस्थान में चोरी करने के लिए चोरों ने नीचे लगे चैनल गेट का ताला तोड़ा, उसके बाद अंदर प्रवेश किया, फिर कमरे में जाने के लिए दरवाजे का ताला तोड़ा, कांउटर के दराज में रखे पैसे को निकालने के लिए लॉकर को तोड़ कर प्रवेशित छात्रो द्वारा दी गई शुल्क जो नगदी के रूप में रखा हुआ था उसे पार कर दिया, आखिर कार इतने पैसे की जानकारी किसे रही होगी, प्रथम दृष्टया तो जानकार ही ऐसा घटनाक्रम को अंजाम देते हैं, अगर पुलिस सुक्ष्मता से जांच करें तो जल्द ही चोरों तक पहुंचा जा सकता है।

इनका कहना है :

पुलिस जांच में जुटी है, पता साक्षी करते हुए विभिन्न जगहों के सीसीटीवी भी जांच की जा रही है।

बी.एल. गौलिया, एस.आई. कोतवाली, अनूपपुर

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co