अनूपपुर : रेत माफियाओं ने वनकर्मियों पर किया पत्थर से हमला
रेत माफियाओं ने वनकर्मियों पर किया पत्थर से हमलाShrisitaram Patel

अनूपपुर : रेत माफियाओं ने वनकर्मियों पर किया पत्थर से हमला

अनूपपुर, मध्य प्रदेश : सीएम साहब! जमुना-भालुमाड़ा के माफियाओं को कौन लगायेगा ठिकाने? रेत माफियाओं के हौसले हो रहे बुलंद। ड्यूटी कर रहे अफसरों पर कर रहे हमला।

अनूपपुर, मध्य प्रदेश। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भले ही माफियाओं को ठिकाने लगाने की ऊंची आवाजों में माइक के सामने चिल्ला रहे हो, लेकिन प्रदेश में जिस तरह से माफियाओं का राज चल रहा है उससे भी आगे माफिया निकल कर वर्दी में ड्यूटी निभा रहे वनकर्मियों को ही कुचलने का प्रयास करते नजर आये। यह घटना थाना भालुमाड़ा अंतर्गत रात्रि 1:30 बजे की है, जहां रेत माफियाओं ने अपने रेत से भरे ट्रैक्टर को बचाने के लिए भू-संपदा की रक्षा करने वाले परिक्षेत्र सहायक के साथ ही मारपीट कर दी।

सूचना के बाद पहुंचे से तस्दीक में :

फरियादी परिक्षेत्र सहायक लतार दिलीप कुमार ओगरे पिता स्व. झामलाल ओगरे उम्र 45 वर्ष निवासी जमुना डबल स्टोरी, हमराह बीटगार्ड हरद कुशल प्रसाद मानिकपुरी, वनरक्षक वन चौकी लतार मनोज कुमार चौधरी के उपस्थिति में थाना भालुमाड़ा में रिपोर्ट दर्ज कराई कि 14 जनवरी की रात्रि करीब 1.30 बजे बीट हरद जंगल में अवैध रेत निकालने की सूचना मिली थी, जिसके सूचना पर तस्दीक हेतु परिक्षेत्र सहायक दिलीप कुमार ओगरे व कुशलमानिक पुरी और मनोज कुमार चौधरी को साथ लेकर टाटा टियेगो कार से रवाना हुए, हरद जंगल के अंदर चकरी मोड़ नदी के पास पहुचे तो देखा कि एक ट्रेक्टर रेत से भरा हुआ आता दिखाई दिया।

ओमनी कार में थे माफिया :

वनकर्मियों ने ट्रेक्टर को देखकर जानने का प्रयास किया तभी सामने से सिल्वर रंग की ओमनी गाड़ी आ रही थी, जिसमें सवार व्यक्ति उतरे, गाड़ी के लाईट से देखा तो जमुना के बबुआ मुसलमान व अमीन मुसलमान व दुर्गा बसोर थे। उन्होंने वनकर्मियों की गाड़ी को रास्ते में ही रोक लिया उनसे जब वनकर्मियों ने बोला कि क्यो रोका है तो बबुआ, अमीन व दुर्गा तीनों वनकर्मियों को बुरी-बुरी गालियां देने लगे।

फिर किया पत्थर से वार :

वनकर्मियों ने इस घटना का विरोध किया और गाली देने से मना किया तो ये सभी मारपीट करने लगे तथा बबुआ ने वहीं पड़े पत्थर को उठाकर मारा जो दिलीप के दाहिने गाल में आंख के नीचे लगा और खून बहने लगा, तब-तक उनके साथी तीन अन्य लोगों को लेकर आ गये वे लोग भी गंदी-गंदी गाली देकर हाथ मुक्का से मारपीट करने लगे।

जान से मारने की धमकी :

रेत माफियाओं का विरोध करना व भू-संपदा की सुरक्षा करना वनकर्मियों के लिए काल बनकर खड़ा हो गया, मारपीट करने के बाद भी माफियाओं के हौसले इतने बुलंद है कि जान से मारने की धमकी भी देते गये। माफिया बोल रहे थे कि तुम लोग यदि दुबारा इधर रेत का ट्रेक्टर पकड़ने आओगे तो जान से खत्म कर देंगे। उन लोगों ने रेत के ट्रेक्टर पर कार्यवाही करने से वनकर्मियों को रोककर रखा, जिससे शासकीय कार्य में बाधा उत्पन्न हुई। तब वे लोग रेत का ट्रेक्टर लेकर ले गये, मारपीट से परिक्षेत्र सहायक के दाहिने आंख के नीचे, गाल में तथा बाये पैर के घुटने के नीचे चोट आई, मनोज कुमार के दाहिने तरफ पीठ में, कुशल मानिकपुरी के दाहिने हाथ के कोहनी में दर्द है।

उच्चाधिकारियों को दी जानकारी :

उक्त घटना के संबंध में रात्रि को ही वनकर्मियों ने रेंजर कल्याण सिंह को दी, जिसके बाद थाना भालुमाड़ा पहुंच कर शिकायत की, जहां पुलिस ने एफआईआर दर्ज करते हुए तीन नामजद और तीन अज्ञात के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 341, 353, 294, 323, 506, 34 के तहत् मामला कायम कर विवेचना की जा रही है, जिसमें मुख्य रूप से बबुआ मुसलमान, अमीन मुसलमान, दुर्गा बसोर है, जिनकी तलाश की जा रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co