Anuppur : धोखाधड़ी के आरोप में सूदखोर गिरफ्तार
धोखाधड़ी के आरोप में सूदखोर गिरफ्तारSitaram Patel

Anuppur : धोखाधड़ी के आरोप में सूदखोर गिरफ्तार

अनूपपुर : पुलिस अधीक्षक के निर्देशन पर सूदखोरों के विरुद्ध चलाये जा रहे विशेष अभियान के अंतर्गत प्राप्त शिकायतों के आधार पर चिन्हित करते हुए 4 सूदखोरों के विरुद्ध अपराधिक प्रकरण पंजीबद्ध किये गए।
Summary

ब्याजखोरी का अवैध धंधा करने वालों पर पुलिस अधीक्षक अखिल पटेल के नेतृृत्व में दो दर्जन से ज्यादा सूदखोंरो को जेल भेजा गया है। कोयलांचल के अलावा जिला मुख्यालय में कार्यवाही करते हुए चार सूदखोरों पर शनिवार को आपराधिक प्रकरण दर्ज किया गया। वर्षो से सदूखोरी कर पीड़ितों को डराया-धमकाया जा रहा था, शिकायत के बाद कप्तान ने आरोपियों के विरुद्ध धारा 386, 34 ता.हि. एवं म.प्र. ऋणियों का संरक्षण अधिनियम 1937 की धारा 3/4 प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है।

अनूपपुर, मध्यप्रदेश। पुलिस अधीक्षक अखिल पटेल के निर्देशन पर सूदखोरों के विरुद्ध चलाये जा रहे विशेष अभियान के अंतर्गत प्राप्त शिकायतों के आधार पर चिन्हित करते हुए 4 सूदखोरों के विरुद्ध अपराधिक प्रकरण पंजीबद्ध किये गए हैं। फरियादियों के द्वारा इनके विरुद्ध धोखाधड़ी कर पैस लेकर फर्जी दस्तावेज के आधार पर भयभीत करते हुये पैसे मांगने का आरोप लगाया गया है।

यह थी शिकायत :

इस संबंध में कोतवाली अंतर्गत फरियादी संजीव कुमार केशरवानी पिता मुरारी लाल केशरवानी निवासी आरसीएम रोड अनूपपुर इस आशय की लिखित शिकायत प्रस्तुत किया था कि यह 10 फरवरी 2018 को शैलेन्द्र तिवारी एवं प्रभा तिवारी दोनो निवासी अनूपपुर से 150000 रुपये कर्ज में लिया था तथा हर माह मूलधन व ब्याज की राशि सहित पैसा देता रहा, फिर भी मूलधन यथावत रहने के कारण पुन: 368000 रूपए कर्ज में लिया था, जिसके एवज में 4732090 रूपए दे चुका हॅू, फिर भी दोनों द्वारा 280000 रूपए की मांग की जा रही है, मेरे द्वारा मना करने पर मेरे बेटे को जान से मारने एवं पहले से रखे हुये चेक को बाउंस करवाकर झूठे प्रकरण में फसाने की धमकी दी जा रही है।

दी जा रही थी धमकी :

संजीव कुमार केशरवानी पिता मुरारी लाल केशरवानी द्वारा लिखित शिकायत प्रस्तुत किया था कि प्रार्थी मनीष कुमार मालू निवासी अनूपपुर से कुल मिलाकर 6109903 रूपए कर्ज में लिया था, जिसके एवज में 10799463 रूपए दे चुका हूँ फिर भी मनीष कुमार के द्वारा 04 लाख रूपये की मॉग की जा रही है। मेरे द्वारा रुपये देने से मना करने पर जान से मारने की धमकी दे रहा है। इसके साथ ही मुकेश चेजारा निवासी अनूपपुर से 132000 रूपए कर्ज पर लिया था, जिसके एवज में 75000 दे चुका है किन्तु मुकेश चेजारा द्वारा 250000 और मांग की जा रही है। मेरे द्वारा मना करने पर जेल भेजवाने एवं जान से मारने की धमकी दी जा रही है।

पुलिस ने किया मामला पंजीबद्ध :

उक्त शिकायतों के आधार पर उपरोक्त आरोपियों के विरुद्ध धारा 386, 34 ता.हि. एवं म.प्र. ऋणियों का संरक्षण अधिनियम 1937 की धारा 3/4 प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है। उपरोक्त आरोपियों के द्वारा फरियादियों को निरंतर भय में डालते हुए उनसे प्राप्त पासबुक एवं एग्रीमेंट वापस नहीं किए जा रहे थे। प्रकरण के चारो आरोपियों शैलेन्द्र तिवारी, प्रभा तिवारी, मनीष कुमार मालू एवं मुकेश चेतारा को गिरफ्तार किया किया जा चुका है।

टीम का रहा सराहनीय योगदान :

पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर कोतवाली पुलिस द्वारा चलाये जा रहे विशेष अभियान के अंतर्गत सूदखोरों के विरुद्ध जन जागरुकता एवं शिकायत निवारण हेतु 2 शिविर पूर्व में ही लगाये जा चुके है। जिसके सकारात्मक परिणाम सामने आये है एवं सूदखोरी के विरुद्ध महत्वपूर्ण सूचना पुलिस को प्राप्त हुई है। उक्त कार्यवाही में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक राजन के निर्देशन अनुविभागीय अधिकारी पुलिस सुश्री कीर्ति बघेल, थाना प्रभारी कोतवाली अमर वर्मा, उनिरीक्षक प्रवीण साहू, उपनिरीक्षक सोनम सोनी एवं गठित टीम का सराहनीय योगदन रहा।

संजीव ने कई लोगों से लिया था कर्ज :

इस पूरे मामले में फरियादी रहे संजीव कुमार केशरवानी पिता मुरारी लाल केशरवानी बस्ती रोड अनूपपुर में किराना दुकान का संचालन करता था, कई वर्षो से लोगों को चेक देकर कर्ज ले लेता था, जानकारी के अनुसार संजीव के खिलाफ भी लोगों ने फर्जी चेक देकर पैसे लेने के आरोप लगाये है, जो पुलिस के लिए जांच का विषय है, लेकिन एक किराना व्यापारी करोड़ों रूपए कर्ज लेकर पैसो को किस तरह आदान प्रदान करता था, जांच के बाद भी सामने आयेगा।

राजकुमार ने भी की है मनीष और मुकेश की शिकायत :

फरियादी राजकुमार राठौर पिता रामनरेश राठौर निवासी अनूपपुर वार्ड नं-10 ने पुलिस अधीक्षक को शिकायत करते हुए उल्लेख किया था कि मुकेश चेजारा पिता रामस्वरूप चेजारा व मनीष कुमार मालू उर्फ मनीष गुप्ता उर्फ मनीष खण्डेलवाल पिता प्रदीप कुमार मालू के द्वारा ब्याजखोरी का अवैध धंधा कर मुझे विश्वास में लेकर धोखा किया है, चूंकि कोरोना कोल के दौरान दुकान बंद होने के कारण 4 लाख रूपए 10 प्रतिशत के दर से लिया था, वर्तमान में 14 लाख रूपए वापस कर चुका है, उसके बावजूद भी 3 लाख की मांग की जाती रही और न देने पर चेक अनादरण कर देने की धमकी भी दी जाती रही है। फिलहाल राजकुमार पुलिस अधीक्षक से न्याय की आस लगाये बैठा है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co