Bhopal : इंस्टाग्राम पर सस्ते मोबाइल बेचने के नाम पर ठगी, राजस्थान से 3 गिरफ्तार
इंस्टाग्राम पर सस्ते मोबाइल बेचने के नाम पर ठगी, राजस्थान से 3 गिरफ्तारसांकेतिक चित्र

Bhopal : इंस्टाग्राम पर सस्ते मोबाइल बेचने के नाम पर ठगी, राजस्थान से 3 गिरफ्तार

भोपाल, मध्यप्रदेश : राजधानी की सायबर क्राइम ब्रांच पुलिस ने राजस्थान से तीन ऐसे साबयर अपराधियों को गिरफ्तार किया है जो इंस्टाग्राम पर महंगे मोबाइल सस्ते दाम में बेचने के नाम पर ठगी करते थे।

भोपाल, मध्यप्रदेश। राजधानी की सायबर क्राइम ब्रांच पुलिस ने जयपुर राजस्थान से तीन ऐसे साबयर अपराधियों को गिरफ्तार किया है जो फर्जी सिम की मदद से इंस्टाग्राम पेज बनाकर महंगे मोबाइल सस्ते दाम में बेचने का विज्ञापन देते थे और फिर दिलचस्पी दिखाने पर कस्टमर के साथ ठगी करते थे। आरोपी अब तक डेढ़ दर्जन से अधिक लोगों से लाखों रुपए की ठगी कर चुके हैं।

पुलिस के मुताबिक जेपी कॉलोनी अयोघ्या बायपास निवासी संचित कुशवाह (18) ने विगत दो फरवरी 2022 को लिखित शिकायत दर्ज कराते हुए बताया कि उसे एक मोबाइल खरीदना था। इसके लिए उसने ऑनलाइन इंस्टाग्राम पर द हबसिटी नामक आईडी पर सर्च किया तो पता चला कि महंगे मोबाइल कम दाम में मिल रहे हैं। लिहाजा संचित ने मोबाइल खरीदने में दिलचस्पी दिखाते हुए इंस्टाग्राम पर मैसेज कर बात की। इसके बाद अज्ञात सायबर आरोपियों ने अलग-अलग तरीके से धोखाधड़ी कर 47 हजार 605 रुपए की चपत लगा दी। आवेदन की जांच के दौरान फर्जी पे-टीएम के वालेट, बैंक अकाउंट व इंस्टाग्राम में फर्जी पेज बनाकर इस्तेमाल करने वालों के खिलाफ धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी। विवेचना के दौरान तकनीकी विश्लेषण से मिले साक्ष्यों के आधार पर जयपुर राजस्थान से तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपियों के नाम अजय मीणा निवासी ग्राम लुनियावास जयपुर राजस्थान, संकल्प राव निवासी आदर्श नगर जनता कालोनी जयपुर व सोमवीर सिंह निवासी ग्राम राजपुरा जिला झुंझनु राजस्थान बताए गए हैं। तीनों आरोपी स्नातक की पढ़ाई कर चुके हैं और बेरोजगार हैं। आरोपियों के कब्जे से छह मोबाइल, 13 सिम कार्ड व 7 अलग-अलग बैंक के डेबिट कार्ड बरामद हुए हैं।

तरीका-ए-वारदात :

पुलिस ने बताया कि फर्जी सिमों का इस्तेमाल कर आरोपी फर्जी इंस्टाग्राम आईडी बनाकर महंगे मोबाइल सस्ते दाम में बेचने का विज्ञापन करते थे। जब कोई कस्टमर लालच में आकर सस्ते दाम में मोबाइल खरीदने में दिलचस्पी दिखाता है, तो आरोपी अग्रिम राशि के रूप में कुछ पैसा खाते में डलवा लेते हैं। इसके बाद मोबाइल बुक होने का बहाना बनाकर दुबारा रकम डिलीवरी एड्रेस पर भेजने के नाम पर राशि फर्जी खातों में डलवा ली जाती थी। इस प्रकार अलग-अलग बहाने बनाकर आरोपी अपने खरीदे हुए खातों में रकम डलवा कर हज़ारों रुपए का चूना लगा देते। पैसा खाते में आने के बाद आरोपी अपना मोबाइल बंद कर लेते थे।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.