काला मंगलवार: कलंकित हुए खून और समाज के रिश्ते
काला मंगलवार: कलंकित हुए खून और समाज के रिश्तेSyed Dabeer-RE

काला मंगलवार: कलंकित हुए खून और समाज के रिश्ते

शहडोल, मध्य प्रदेश : झिरिया में सगे भाई ने तो, बुढ़ार में पत्नी ने करवाई जघन्य हत्या। तीन घंटो के अंतराल में तीन हत्याएं, आरोपी पुलिस की जद में।

शहडोल, मध्य प्रदेश। मंगलवार की शाम 8:30 से 10:30 के बीच अलग-अलग थाना क्षेत्रो में तीन हत्याओं के मामले सामने आये हैं, तीनों मामलों ने खून और समाज के रिश्तों को कलंकित कर दिया। वहीं पुलिस अधीक्षक की सूझबूझ के कारण अगले 12 घंटों में तीनों घटनाओं के आरोपी भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिये।

मंगलवार की शाम जिले के सोहागपुर, बुढ़ार और जयसिंहनगर थाना अंतर्गत 8:30 से 10:30 के बीच तीन हत्याओं के मामले सामने आये हैं, तीनों ही मामलों में रिश्तेदार ही हत्या के सूत्रधार रहे, पुलिस अधीक्षक अवधेश कुमार गोस्वामी व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मुकेश वैश्य के निर्देशन में तीनों ही थाना प्रभारियों और उनकी टीम ने घटना के अगले घंटो में आरोपियों तक पहुंच गई और मामले से पर्दा उठाने में भी सफल रही। मंगलवार की रात हुई तीनों घटनाओं ने पति-पत्नी, सगे भाईयों और समाज के रिश्तों को कलंकित कर दिया। वहीं पुलिस की सूझबूझ और तत्परता भी तीनों ही मामलों में सराहनीय रही।

मामला नंबर-1 :

मंगलवार की रात करीब 8:30 बजे बुढ़ार थाना क्षेत्र अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 43 पर सनसनीखेज वारदात को चंद बदमाशों ने मिलकर अंजाम दिया, जितनी देर अपराधियों ने हत्या को सुनियोजित करने और घटना को अंजाम देने में लगाया था, उतने से आधे समय में पुलिस ने पूरे हत्याकांड को सुलझा लिया और आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया, मृतक मुकेश की पत्नी ने अपने प्रेमी व रिश्तेदार अमित सिंह के साथ मिलकर हत्या की साजिश रची और पति को खुद व ब'ची के आंखों के सामने निर्मम हत्या करवा दी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मुकेश वैश्य ने बताया कि पत्नी की पति से अनबन थी व हत्यारे के साथ उसके प्रेम संबंध थे। सुनियोजित तरीके से वह पति के साथ शहडोल इलाज कराने गई, रास्ते में भाई के साले अमित व उसके मित्र भोलू केवट को इशारा कर, दो पहिया वाहन रूकवा कर शौच के लिए चली गई और मौका पाकर लोहे औजार से दोनों ने मुकेश का सर कुचलकर जघन्य हत्या कर दी। घटना को दुर्घटना या लूट दिखाने का प्रयास किया गया, लेकिन पुलिस की सूझबूझ ने महज 4 घंटो में हत्यारों को सीखचों के पीछे पहुंचा दिया, यह बात भी सामने आई कि हत्या के प्रमुख आरोपी अमित ने भोलू को 50 हजार रूपये की लालच देकर साथ लाया था और उसे भी हत्या का आरोपी बनवा दिया।

मामला नंबर-2 :

सोहागपुर थाना में मंगलवार को सूचना मिली कि राजभान सिंह उर्फ पप्पू उम्र 32 वर्ष निवासी गोरतारा झिरिया टोला थाना सोहागपुर को उदयभान उर्फ बबलू पिता स्व. ललन सिहं गोड़ निवासी गोरतरा झिरिया टोला द्वारा लाठी डण्डे से मारकर हत्या कर दी। उपनिरीक्षक उमाशंकर चतुर्वेदी बल के साथ मौके पर पहुंचे तो राजभान सिंह उर्फ पप्पू कि मृत्यू हो चुकी थी। फरियादिया चन्द्रवती पति ललन सिंह गोड़ उम्र 60 वर्ष निवासी गोरतरा के रिपोर्ट पर हत्या कि देहाती नालसी कायम किया गया, वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया। फरियादिया ने बताया कि मंगलवार की रात्रि करीब 6-7 बजे पप्पू उर्फ राजभान अपने बड़े भाई बबलू उर्फ उदयभान के घर आकर उससे वाद-विवाद करने लगा, बोला कि तू जीजा हेमराज के भाई के मरने पर उसके घर क्यों नही गया, विवाद न हो इसलिये मैंने पप्पू उर्फ राजभान को डांटकर घर से भगा दिया था। और में टीबी देखने दुकान तरफ तरफ चली गई थी, रात्रि करीब 08 बजे गांव के एक लड़के ने बताया कि तुम्हारे घर में दोनो भाई लड़ाई झगड़ा कर रहे है। तब मैं दलपत सिंह को घर बुलाकर लायी तो, देखी कि घर के सामने रोड के किनारे छोटा लड़का पप्पू पड़ा था। सिर से खून बहकर जमीन पर फैला था, शरीर में लाठी डण्डा के काफी निशान थे, राजभान उर्फ पप्पू मर चुका था। उदयभान उर्फ बबलू ने छोटे भाई पप्पू की हत्या कर घर से भाग गया है। रिपोर्ट पर हत्या का प्रकरण पंजीबद्ध किया गया, वरिष्ठ अधिकारियों को घटना से अवगत करा उनके निर्देशन पर आरोपी उदयभान को गिरफ्तार किया गया एवं हत्या में प्रयुक्त डण्डा जप्त किया गया।

मामला नंबर-3 :

जयसिंहनगर थाना अंतर्गत ब्लाक मुख्यालय से लगभग 30 किलोमीटर दूर ग्राम फुडरहा में गोड़ जाति के युवाओं के बीच किसी बात को लेकर विवाद निर्मित हुआ, घटना मंगलवार की रात करीब 10 बजकर 30 मिनट की बताई गई है, सूत्रों पर यकीन करें तो, गांव में रहने वाले राम गोपाल गोड़ के 35 वर्षीय पुत्र राजेन्द्र उर्फ राजू गोड़ को दूर के रिश्तेदार और अपने ही समाज के कथित युवक के द्वारा गंभीर मारपीट की गई। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई, ग्रामीणों की मानें तो मृतक को लात और घूसों से गंभीर चोटे पहुंचाई गई, हालांकि जब पुलिस मौके पर पहुंची तो, आरोपी फरार हो चुके थे और मृतक के शरीर पर कोई चोट के निशान नहीं थे। समाचार लिखे जाने तक चिकित्सकों ने अपनी रिपोर्ट पुलिस को नहीं सौंपी थी, संभवत: इसी कारण पुलिस आरोपियों तक पहुंचने के बाद भी, गिरफ्तारी का दावा नहीं कर सकी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co