Indore : क्राइम ब्रांच ने मुंबई की युवती को दस लाख की एमडी के साथ दबोचा
क्राइम ब्रांच द्वारा जब्त एमडी ड्रग्सRavi Verma

Indore : क्राइम ब्रांच ने मुंबई की युवती को दस लाख की एमडी के साथ दबोचा

इंदौर, मध्यप्रदेश : कमिश्नर सिस्टम लागू होने के बाद आपरेशन प्रहार के तहत क्राइम ब्रांच ने पूर्व एयर होस्टेस को दस लाख रुपए की सौ ग्राम जानलेवा एमडी ड्रग्स के साथ गिरफ्तार किया है।

इंदौर, मध्यप्रदेश। कमिश्नर सिस्टम लागू होने के बाद आपरेशन प्रहार के तहत क्राइम ब्रांच ने पूर्व एयर होस्टेस को दस लाख रुपए की सौ ग्राम जानलेवा एमडी ड्रग्स के साथ गिरफ्तार किया है। युवती ने ये एमडी बच्चे के डायपर के बीच में छिपा रखी थी। वह मुंबई से ये ड्रग्स लेकर इंदौर आई थी और नए वर्ष की पार्टी के दौरान इसे खपाने वाली थी। वैसे आरोपी युवती अब तक एक से दो किलो एमडी खपा चुकी है। वह खुद एमडी ड्रग्स एडिक्ट हुई और उसके बाद ही इसकी तस्करी करने लगी।

सूत्रों के मुताबिक एयर होस्टेस की नौकरी करते हुए मुंबई की मानसी का परिचय कुछ एमडी ड्रग्स सप्लायर्स से हुआ। धीरे-धीरे उसे भी एमडी की लत लग गई। उसके बाद तो वह भी इसकी तस्करी करने लगी। वह करीब दो तीन साल से एमडी लाकर इंदौर में बेच रही है और अभी तक डेढ-दो किलो एमडी खपा चुकी है। ये भी आशंका है कि इसके तार किसी बड़े तस्कर गैंग से जुड़े हो सकते हैं। इसके मामले में क्राइम ब्रांच इनवेस्टीगेशन कर रही है। इसका पति पुणे में रहता है उससे भी इस बारे में पूछताछ की जा सकती है।

विशेष इनफारमर्स की टीम है सक्रिय :

आपरेशन प्रहार के तहत पुलिस ने विशेष इनफारमर्स की टीम को सक्रिय किया है। इस टीम की सूचना पर अभी तक सैकड़ों नशे के कारोबारी पकड़े जा चुके हैं। इनमें गांजा, चरस, हेरोईन, ब्राउन शुगर की तस्करी करने वाले भी शामिल हैं। इस मामले में पुलिस और क्राइम ब्रांच ने पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ के बाद कई अन्य तस्करों को भी गिरफ्तार किया है। नशे के कारोबार से जुड़े तत्व देश के कई हिस्सों में फैले हुए हैं। वहां से ये नशा लाकर इंदौर में बेचा जाता है। विशेष इनफारमर्स की टीम की सूचना के बाद ही इस तस्कर युवती को तीन इमली चौराहा से पकड़ा गया। वहां तलाशी लेने पर इसके बैग से ये एमडी बरामद हुई है। आरोपी युवती से पूछताछ कर ये भी पता लगाया जा रहा है कि वह इंदौर में किन-किन लोगों को एमडी सप्लाय कर चुकी है। इंदौर में क्या कोई एमडी का कोई और तस्कर भी सक्रिय है। वह ये ड्रग्स मुंबई में किन लोगों से लाई थी। एक माह में वह कितनी बार मुंबई से इंदौर आती है,इन सब के बारे में क्राइम ब्रांच पूछताछ कर रही है।

बिगड़ैल रईसजादों को लगा है एमडी का चस्का :

एमडी ड्रग्स का चस्का इंदौर के कई बिगड़ैल रईसजादों को लग चुका है। एमडी तस्करों से इनके तार सीधे जुड़े रहते हैं और ये उनसे एमडी लेकर अपनी नशे की लत को पूरा करते हैं। कुछ अरसा पहले ही क्राइम ब्रांच ने 70 करोड़ रुपए मूल्य की एमडी ड्रग्स जब्त कर चार आरोपियों को गिरफ्तार किया था। इसके बाद तो एमडी ड्रग्स तस्करी के तार पूरे भारत में जुड़े पाए गए। अब तक एमडी ड्रग्स की तस्करी करने वालों में करीब पांच दर्जन आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इनमें कई महिलाएं भी शामिल हैं। मुंबई,तेलंगाना,गुजरात आदि के कई तस्कर पुलिस की पकड़ में आ चुकी है। कई कु यात अपराधी भी इस तस्करी में शामिल रहे हैं। पुलिस मु यालय से निर्देश के बाद कुछ अरसा पहले पुलिस ने आपरेशन प्रहार शुरु किया था। उस अभियान के तहत क्राइम ब्रांच द्वारा 2021 में एमडी ड्रग्स के संबंध में चार बड़ी कार्रवाईयां की गई हैं जिसमें 70.5 किलो ड्रग्स, 100 ग्राम, 1 किलो एवं 100 ग्राम ड्रग्स की कार्रवाई शामिल है। इसके अलावा भी कई ऐसे रईसजादों को सलाखों के पीछे किया है जिन्हें एमडी ड्रग्स की लत लगी हुई है।

महंगा और जानलेवा है एमडी का शौक :

एमडी ड्रग्स महंगा होने के साथ ही जानलेवा भी साबित हो सकता है। बिगड़ैल रईसजादे इसका उपयोग रेव पार्टी में करते हैं। इस ड्रग्स मिथाइलीन डाइ ऑक्सी मेथैमफेटामाइन याने एमडीएमए को शॉर्ट फॉर्म में एमडी कहा जाता है। इस ड्रग्स मेफेड्रोन को कई देशों में अलग-अलग नामों से बेचा जाता है। इसे सूंघकर और पानी में मिलाकर भी लिया जाता है। नशे के बाजार में इस तरह के 1 ग्राम ड्रग की कीमत इंटरनेशनल मार्केट में 6 हजार से लेकर 15 हजार तक होती है। नशेडिय़ों के बीच इसके कई कोड नेम प्रचलन में है। इस ड्रग्स का ओवरडोज जानलेवा भी साबित हो सकता है । एमडी को याऊं- याऊं नाम से भी कई तस्कर सप्लाय करते हैं। इसका नाइजीरिया और अफगानिस्तान में सबसे 'यादा उत्पादन होता है। यह ड्रग 2010 से चलन में है। सरकार ने 2015 में इसे बैन किया है। उसके बाद भी इसकी अवैध रुप से तस्करी के कई मामले सामने आते रहते हैं।

पुलिस की नार्को हेल्पलाइन :

पुलिस ने नशे के कारोबारियों पर शिकंजा कसने के लिए नार्को हेल्पलाइन भी शुुरु कर दी। इस हेल्पलाइन पर किसी भी नशे के सौदागर के बारे में सूचना दी जा सकती है। सूचना देने वाले का नाम पूरी तरह से गुप्त रखा जाता है। पुलिस का मानना है कि आमजनता के सहयोग से इस नशे के कारोबार पर प्रभावी अंकुश लगाया जा सकता है। क्राइम ब्रांच द्वारा अवैध मादक पदार्थ के विरूद्ध पुलिस कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्र द्वारा निर्देशित एवं संचालित नार्को हेल्पलाईन 7049108283 के तहत भी कार्यवाही की जा रही है। पता चला है कि इस हेल्पलाइन पर कई नशे के सौदागरों के बारे में सूचना मिल रही है उन पर भी कार्रवाई की जा रही है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co