ग्वालियर : पैसा लेकर विवाह करानी वालीं गैंग पकड़ी
पैसा लेकर विवाह करानी वालीं गैंग पकड़ीसांकेतिक चित्र

ग्वालियर : पैसा लेकर विवाह करानी वालीं गैंग पकड़ी

ग्वालियर, मध्य प्रदेश : बिना अनुमति के एक सैकड़ा से अधिक जोड़ों का करा रहे थे विवाह, महिला बाल विकास विभाग की टीम जांच पड़ताल में जुटी। पकड़े गए तीन लोगों पर आज हो सकती है एफआईआर।

ग्वालियर, मध्य प्रदेश। शहर में पैसे लेकर विवाह कराने का धंधा लंबे समय से चल रहा है। इसकी सूचना मिलते ही महिला बाल विकास की टीम जब महिला बाल विकास अधिकारी राजीव सिंह के नेतृत्व में पड़ताल करने पहुंची तो कई स्थानों पर ऐसे आयोजन मिले, जिनकी प्रशासन से कोई अनुमति नहीं ली गई थी। जांच पड़ताल में बाल विवाह की आशंका भी व्यक्त की जा रही है। इस मामले में तीन लोगों को पकड़ा गया है, जिन पर बुधवार को एफआईआर हो सकती है।

कोविड-19 के चलते शहर में किसी भी संस्था को सामूहिक विवाह समारोह की परमीशन नहीं दी गई थी, लेकिन इसके बावजूद पैसे कमाने की चाह में शहर में कई संस्थाएं जो पूर्व से सामूहिक विवाह सामारोह आयोजन कर पसा कमाने में जटी हैं, उन पर छापामार कार्रवाई की गई। अधिकांश ऐसे आयोजन मांडरे की माता के समीप कैंसर पहाड़ी पर मिले। यहां बिना अनुमति के एक सैकड़ा से अधिक लोगों का विवाह समारोह आयोजित किया। विवाह के लिए बाकायदा पेंपलेट छपवाए गए थे और वर-वधु दोनों पक्ष से पैसे लिए गए थे। जब महिला बाल विकास विभाग की टीम ने मौके पर जाकर पूछताछ की तो वे किसी भी सवाल का संतोषजनक जबाव नहीं दे सके। पड़ताल में पता चला है कि पैसा लेकर विवाह कराने का गिरोह सिर्फ ग्वालियर में ही नहीं बल्कि समूचे प्रदेश में काम कर रहा है।

महिला बाल विकास की टीम ने मौके पर जाकर जो कागजों की पड़ताल की उसमें बाल विवाह के संकेत मिले हैं। बुधवार तक इस संबध में स्थिति स्पष्ट हो सकेगी। विवाह समारोह में जो वर-वधु शामिल थे, उनमें से कुछ देखने से भी नाबालिग नजर आ रहे थे।

इनका कहना है :

हमें बाल विवाह की सूचना मिली थी। मौके पर पहुंचे तो मांडरे की माता, कैंसर पहाड़ी स्थिति मुक्तिधाम के समीप, बगुलामुखी धाम सहित आधा सैकड़ा स्थानों पर बिना अनुमति सामूहिक विवाह समारोह आयोजित होते मिले। प्रथम दृष्टया जांच में यह स्पष्ट हुआ है कि ये पैसा लेकर विवाह कराते हैं। बाल विवाह से भी इंकार नहीं किया जा सकता है। जांच पड़ताल के बाद स्थिति स्पष्ट होगी।

राजीव सिंह, महिला बाल विकास अधिकारी

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co