ग्वालियर : तिजोरी लेकर गायब हुआ किशोर धनेली में मिला, अपहरणकर्ता दबोचा गया
तिजोरी लेकर गायब हुआ किशोर धनेली में मिलाफाइल फोटो

ग्वालियर : तिजोरी लेकर गायब हुआ किशोर धनेली में मिला, अपहरणकर्ता दबोचा गया

ग्वालियर, मध्यप्रदेश । नगदी और सोने से भरी तिजोरी लेकर गायब हुआ किशोर धनेली गांव में मिला है। क्राइम ब्रांच ने एक अपहरणकर्ता को भी दबोच लिया है।

हाइलाइट्स

  • तिजोरी में 8 लाख रूपए और थे सोना-चांदी के गहने

  • जिन पर संदेह जताया, वहीं निकले अपहरणकर्ता

  • सवा लाख का मोबाइल और 20 हजार के जूते खरीदे

ग्वालियर, मध्यप्रदेश । टाइल्स कारोबारी के बेटे के अपरहण का पर्दाफाश हो गया है। क्राइम ब्रांच ने लड़के की बरामदगी के साथ एक अपहरणकर्ता को भी दबोच लिया है। इसके बाद से जेवर और कुछ रकम भी बरामद कर ली है। पुलिस अब अपहृत के 164 में बयान दर्ज कराने की बात कह रही है।

महाराजपुरा थाना क्षेत्र के शताब्दीपुरम भदावर बिल्डिंग मटेरियल निवासी देवेन्द्र सिंह भदौरिया का बिल्डिंग मटेरियल, टाइल्स व सेनेट्री का कारोबार है। वह प्रदेश के सहाकरिता मंत्री अरविंद सिंह भदौरिया के चचेरे भाई हैं। उनका इकलौता बेटा गौरव भदौरिया (17) 11वीं का छात्र है जो संदिग्ध हालात में लापता हो गया। व्यापारी पुत्र अपने ही अलमारी से तिजोरी ले कर गया था। तिजोरी में 8 लाख रुपए नकद और 20 तोला सोना, डायमंड, चांदी के सिक्के और कागजात थे। व्यापारी ने 6 युवकों पर अपहरण का आरोप लगाया था। हाईप्रोपाइल जुड़े परिवार के किशोर के अपहरण की खबर से पुलिस सक्रिय हुई और इस मामले को सुलझाने के लिए एसपी अमित सांघी ने टास्क, क्राइम ब्रांच को सौंपा। पुलिस ने सबसे पहले गौरव भदौरिया और जिन पर अपहरण का आरोप था इनके परिजन और रिश्तेदारों पर दबाव बनाया। इसके बाद पता चला कि यह लोग दिल्ली में। यहां से यह लोग ग्वालियर पहुंचे। यहां से पुलिस इन्हें गिरफ्तार कर लिया।

सवा लाख का मोबाइल और 20 हजार के जूते खरीदे :

पुलिस को प्रारंभिक पूछताछ में पता चला कि गौरव ने तिजोरी उठाई और घर के पीछे वाले हिस्से में कार में मौजूद धीरेंद्र गुर्जर, रविंद्र गुर्जर और पोजू को सौंप दी। इसके बाद जेवर से भरा बैग सौंपा और बाउंड्रावॉल फांदकर कार में जा बैठा। यहां से यह लोग मुरैना स्थित धीरेंद्र गुर्जर के घर पहाड़ी गांव पहुंचे यहां धीरेंद्र ने जेवर अपने पिता को सुपुर्द किए। यहां से यह सब बस से दिल्ली पहुंचे। दिल्ली में सवा लाख का एपल फोन, एक लाख के कपड़े, 20 हजार के जूते खरीदे। फिर दिल्ली से बाय कार ग्वालियर पहुंचे यहां से शनिवार को धनेली गांव पहुंच गए।

संदिग्धों के नाम से पुलिस को मिली सहायता :

पीड़ित परिवार ने पहले ही 6 युवकों पर संदेह जताया था। इससे पुलिस को आरोपियों के परिजन तक पहुंचने में देर नहीं लगी। पुलिस ने ताबड़तोड़ छापेमारी कर आरोपियों के परिजनों को थाने में बैठा लिया। इसकी जानकारी आरोपियों को लगी तो वह ग्वालियर लौट आए। पुलिस ने इन्हें स्टेशन रोड स्थित एक गेस्ट हाउस से राउंडअप किया। जहां से इनकी निशानदेही पर तड़के 3 बजे धनेली गांव से गौरव की बरामदगी कराने के साथ जेवर बरामद करा दिए।

इनका कहना है :

गौरव धनेली गांव में मिल गया है। पुलिस अभी इससे और जानकारी लेने के बाद 164 में बयान दर्ज कराएगी।

अमित सांघी, एसपी

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co