एप इंस्टाल करते ही खाते से गायब हो गए दो लाख रुपए
एप इंस्टाल करते ही खाते से गायब हो गए दो लाख रुपएसांकेतिक चित्र

Gwalior : एप इंस्टाल करते ही खाते से गायब हो गए दो लाख रुपए

कस्टमर केयर एग्जीक्यूटिव द्वारा एप इंस्टाल करने को कहा गया, एप इंस्टाल करते ही गायब हो गए दो लाख रुपए। ठगी का पता चलते ही पीड़िता क्राइम ब्रांच की साइबर सेल पहुंची और मामले की शिकायत की।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। शेयर ट्रेडिंग कर रही महिला को एक कंपनी के शेयर काफी सस्ती कीमत पर दिखे तो उसने उन्हें परचेज करने का प्रयास किया, लेकिन उन्हें खरीदने में कुछ परेशानी आई तो उसने कंपनी के कस्टमर केयर पर बात की, बात करते ही कस्टमर केयर से बात कर रहे युवक ने उन्हें एक एप इंस्टाल करने को कहा, जैसे ही उन्होंंने एप इंस्टाल किया उनके खाते में जमा रुपए गायब हो गए। ठगी का पता चलते ही पीड़िता क्राइम ब्रांच की साइबर सेल पहुंची और मामले की शिकायत की। साइबर सेल ने उनकी शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया है।

ग्वालियर निवासी साधना बिसौरिया ने शिकायत की है कि वह गृहिणी है और शेयर ट्रेडिंग का काम करती है। चार दिन पहले वह शेयरों की ट्रेडिंग कर रही थी, तभी उसकी नजर एक कंपनी के शेयरों पर गई जो काफी कम कीमत में बिक्री के लिए शो हो रहे थे। जिस पर उसने उन्हें खरीदने का प्रयास किया तो वे शेयर उसे नजर नहीं आ रहे थे, मैन साइट पर शेयर शो नहीं होने पर उसने कस्टमर केयर का नंबर तलाशा और कॉल किया। कॉल करने वाले ने पहले उसे बिजी होने का कहकर इंतजार कराया और फिर उससे उसकी परेशानी पूछी तो उसने शेयर मेन साइट पर ओपन ना होने की बात कही। उसकी समस्या सुनने के बाद कॉल करने वाले ने उसे बताया कि उसका डीमेट एकाउंट अपडेट नहीं है, इसलिए उसे शेयर मेन साइट पर नहीं दिख रहे है। इसके बाद उसने अपडेट करने का झांसा देकर उससे एनी डेस्क एप डाउन लोड कराया और इसके कुछ देर तक उससे मोबाइल पर बात करता रहा, तभी अचानक साधना को शंका हुई और उसने अपना खाता चेक किया तो पता चला कि उसके खाते से दो लाख रुपए निकल गए हैं। तुरंत ही उसने बैंक कॉल कर खाते को ब्लॉक कराया।

पैसे मांगे तो की अभद्रता :

जब पीड़िता ने दोबारा उसी नंबर पर कॉल किया तो कॉल करने वाला उससे अपशब्द बोलकर अभद्रता करने लगा। ठगी का शिकार पीड़िता थाने पहुंची और मामले की शिकायत की। साइबर सेल ने उसकी शिकायत पर मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश शुरू कर दी है।

हमेशा यह रखें सावधानी :

  • ऑन लाइन कस्टमर केयर पर बात करते समय सावधान रहना चाहिए।

  • ठग लोगों को ठगने के लिए फर्जी साइड बनाकर अपना मोबाइल नंबर डालते है।

  • किसी भी कंपनी का कस्टमर केयर नंबर मोबाइल की डिजिट में नहीं होता है, यह पांच अंक का होता है या फिर दस से ज्यादा अंकों का होता है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co