Indore : बाणगंगा पुलिस ने 48 घंटे में सुलझाई गार्ड के अंधे कत्ल की गुत्थी
उधारी चुकाने के लिए कर दी थी साथी गार्ड की हत्याRavi Verma

Indore : बाणगंगा पुलिस ने 48 घंटे में सुलझाई गार्ड के अंधे कत्ल की गुत्थी

इंदौर, मध्यप्रदेश : सुरक्षा गार्ड की हत्या के आरोपी को पुलिस ने 48 घंटे के अंदर गिरफ्तार कर लिया। बेटी की शादी एवं पिता की तेरहवीं की उधारी चुकाने के लिए की थी साथी गार्ड की हत्या।

इंदौर, मध्यप्रदेश। सुरक्षा गार्ड की हत्या के आरोपी को पुलिस ने 48 घंटे के अंदर गिरफ्तार कर लिया। आरोपी नें अपनी बेटी की शादी एवं पिता की तेरहवीं की उधारी चुकाने के लिये गार्ड के के खाते से 49 हजार रुपए के लिए 6 बार गार्ड के एटीएम का उपयोग किया था। पैसे निकालने की खबर किसी को नहीं मिले इसके लिए आरोपी ने गार्ड के मोबाइल की सिम भी तोड़ दी थी। आरोपी के पास से गार्ड का एटीएम कार्ड और 45 हजार रुपए नकद भी जब्त किए गए हैं।

गुरुवार सुबह 6 बजे एलएनसीटी कॉलेज ग्राम रेवती में सुरक्षा गार्ड तिलक सिंह नरवरिया का रक्तरंजित शव मिलने पर अन्य सुरक्षा गार्ड द्वारा थाना बाणगंगा पर सूचना दी गई। पुलिस द्वारा प्राथमिक जांच पर पाया कि एलएनसीटी कॉलेज बिल्डिंग में नाईट गार्ड तिलक सिंह पिता भूपसिंह नरवरिया (64 )निवासी ग्राम रेवती की बुधवार-गुरुवार की दरमियानी रात्री में किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा सिर में चोट पहुंचाकर उसकी हत्या कर दी गई। जिसका पीएम अरविंदो अस्पताल में कराया गया । बाणगंगा पुलिस ने केस दर्ज कर मामले की जांच शुरु कर दी।

आरोपी को पकड़ने के लिए एएसपी जयवीर सिंह भदौरिया एवं सीएसपी निहित उपाध्याय के मार्गदर्शन में थाना बाणगंगा प्रभारी राजेन्द्र सोनी के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया । प्रकरण में अज्ञात आरोपी की गिरफ्तारी पर दस हजार रुपए का इनाम भी घोषित किया गया। पुलिस टीम द्वारा एलएनसीटी कॉलेज के अन्य सुरक्षा गार्ड्स से पूछताछ की गई एवं तिलक सिंह के व्यक्तिगत जीवन के बारे मे जानकारी जुटाने पर पता चला कि गार्ड तिलक सिंह को एटीएम से पैसे निकालने नही आते थे और वह नजदीकी सुरक्षा गार्ड भागीरथ पटेल एवं संतोष रघुवंशी से पैसे निकलवाता था।

ऐसे खुला हत्या का राज :

मृतक तिलकसिंह के बैंक खाता का स्टेटमेंट निकालने पर ये बात सामने आई कि उसकी हत्या के बाद भी उसके पीएनबी बैंक के एटीएम से 10 नवंबर को अरविंदो गेट एसबीआई से 25,000 रुपये एवं 11 नवंबर को गोमटगिरी टाटा इंडीकेश एटीएम से 4,000 रुपये एवं मंगल पाण्डे गेट एसबीआई एटीएम से 20,000 रुपये निकाले गए हैं। पुलिस टीम द्वारा पीएनबी बैंक के क्षेत्रीय कार्यालय एवं एसबीआई बैंक के क्षेत्रीय कार्यालय के माध्यम से उक्त एटीएम ट्रांसेक्शन की डिटेल्स प्राप्त की गई एवं तीनों एटीएम सेंटर की लोकेशन डिकोड कराई जाकर उक्त एटीएम सेंटर के आसपास के सीसीटीवी फुटेज चैक किए। फुटेज से ये खुलासा हुआ कि गार्ड का साथी भागीरथ पटेल ही उक्त तीनों एटीएम से पैसे निकालकर ले गया है। इसके आधार पर भागीरथ पटेल को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई।

बाइक बेचकर चुका दी 50 हजार की उधारी :

आरोपी भागीरथ पटेल पिता खिलान पटेल, ग्राम रेवती, स्थाई पता ग्राम हनौता पारीछत, सागर ने बताया कि उसने अप्रेल 2021 में अपनी बेटी की शादी के लिये 90,000 रुपये उधार लिए एवं मई 2021 में पिता की मृत्यु होने पर तेरहवी के लिये 35,000 रुपये उधार लिए थे। उधारी चुकाने के लिए अपनी मोटर साईकिल बेचकर 50,000 रुपये की उधारी चुका दी थी उसे शेष उधारी चुकाना थी। भागीरथ पटेल को जानकारी थी कि तिलक सिंह के बैंक खाते में करीबन 85,000 रुपये जमा हैं। तिलक सिंह के बैंक खाते से उक्त रकम निकालने के लिये आरोपी भागीरथ पटेल द्वारा तिलकसिंह नरवरिया की हत्या कर दी गई एवं उसका एटीएम लेकर 49,000 रुपये निकाल लिये। आरोपी ने पुलिस को गुमराह करने के लिए तिलकसिंह के मोबाईल में लगी हुई सिम भी तोड़ दी जिससे कि एटीएम से पैसा निकालने पर मोबाईल में मैसेज नहीं आए। आरोपी भागीरथ पटेल के कब्जे से पुलिस टीम द्वारा 45,000 रुपये एवं मृतक का एटीएम कार्ड जप्त किया गया। हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने में बाणगंगा थाना प्रभारी सोनी के साथ ही सब इंस्पेक्टर स्वराज डाबी, एसएल भंवर, आलोक मिठास, दिनेश त्रिपाठी, जबरसिंह यादव, शैलेन्द्र मीणा, राजीव यादव, शम्भुदयाल शर्मा, राजकुमार चौबे, रविन्द्र रघुवंशी, हीरामणि मिश्रा, प्रदीप शर्मा, राहुल भदौरिया, बादलसिंह, दीपक जाट की उल्लेखनीय भूमिका रही। सायबर सेल के कांस्टेबल विकास बचानिया व अमित मौर्य ने भी आरोपी तक पहुंचने में महत्वपूर्ण सहयोग किया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co