Indore : बाणगंगा में पत्नी और सौतेले बेटे की हत्या का पर्दाफाश
बाणगंगा में पत्नी और सौतेले बेटे की हत्या का पर्दाफाशसांकेतिक चित्र

Indore : बाणगंगा में पत्नी और सौतेले बेटे की हत्या का पर्दाफाश

इंदौर, मध्यप्रदेश : बाणगंगा इलाके में हुई मां-बेटे की हत्या करने वाले आरोपी को अकोला से गिरफ्तार कर लाया गया। मोबाइल लोकेशन से उसकी पल-पल की जानकारी एकत्र की गई और उसे दबोचा गया।

इंदौर, मध्यप्रदेश। बाणगंगा इलाके में हुई मां-बेटे की हत्या करने वाले आरोपी को अकोला से गिरफ्तार कर लाया गया। मोबाइल लोकेशन से उसकी पल-पल की जानकारी एकत्र की गई और उसे दबोचा गया। हत्या के कारणों में आरोपी जो महिला का पांचवा पति था, इस बात से नाराज था कि वह उसे छोड़कर चौथे पति के साथ रहना चाहती थी। उसने पत्नी और उसके बेटे की हत्या कर दी और फोन पर चौथे पति से कहा कि अब मैं भी मरूंगा और तुम भी मरोगे..तुम शारदा के पास ही रहना अब..। इसके बाद वह फरार हो गया था।

कब हुई थी मां-बेटे की हत्या :

बुधवार को मंगेश पिता अनंतराव गावंडे ने बाणगंगा थाने पहुंचकर पुलिस को बताया कि वह गणेश धाम कालोनी में किराये के मकान में रहता है। तीन दिन पूर्व उसके परिचित कुलदीप दिघे अपनी पत्नि शारदा गुर्जर व पुत्र आकाश के साथ जिला अकोला महाराष्ट्र से इन्दौर में काम की तलाश में उसके पास आये थे। ये तीनों उसके साथ ही उसके कमरे पर रुके थे। शाम को साढ़े चार बजे करीबन जब वह काम से वापस कमरे पर आया तो उसे कमरे में शारदा गुर्जर व आकाश की खून से सनी हुई लाशें मिलीं। उसने शंका जाहिर की कि कुलदीप दोनों की हत्या कर मौके से फरार हो गया। पुलिस ने हत्या का केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी। आरोपी पर इनाम भी घोषित कर दिया गया।

मराठी में हुई बातचीत का हिन्दी अनुवाद करवाया तो :

घटना के मुख्य साक्षी मंगेश गावंडे से प्रकरण के संबंध में पूछताछ की गई। मंगेश गावंडे द्वारा आरोपी कुलदीप एवं उसकी पत्नी-बेटे को ग्राम सिरसौली जिला अकोला महाराष्ट्र का होना बताया एवं शारदा व आरोपी कुलदीप से कुछ दिन पूर्व ही उसके मोबाईल पर संपर्क करना बताया। मंगेश एवं आरोपी के बीच घटना दिनांक को शाम चार बजे मोबाईल पर हुई बातचीत की रिकार्डिंग्स को सुनने पर मराठी भाषा में हुई उक्त बातचीत को मराठी भाषी व्यक्ति से हिंदी मे अनुवाद करवाया गया। जिसमें मंगेश एवं शारदा के बीच अवैध संबंधों का खुलासा हुआ। बातचीत में आऱोपी कुलदीप नें मंगेश से कहा कि मेरा जीवन अच्छा चल रहा था तूने हमको इंदौर क्यों बुलाया, शारदा तो हरामी है ही लेकिन तुमने मेरे साथ गद्दारी की, तुम भी मरोगे और मैं भी मरूंगा आज ही, कमरे की चाबी संडास के बाजू में खांड में रखी है। दरवाजा खोलो, आपको उसके पास में नींद अच्छी आयेगी, तुम शारदा के पास ही रहना अब।

6 माह तक रही थी साथ :

पूछताछ में मंगेश द्वारा बताया गया कि वह पिछले तीन सालों से शारदा को जानता है एवं कुलदीप के पहले शारदा मंगेश के साथ ही करीबन 6 माह तक रही थी और इसलिये मंगेश ने शारदा को अपने साथ में रहने के लिये इन्दौर बुलवाया था। शारदा कुलदीप से पीछा छुड़ाना चाहती थी। कुलदीप उसको नही छोड़ रहा था, इसी बात पर दोनों का झगड़ा भी होता था। कुलदीप हत्या करने के बाद में मंगेश के नाम की सिम वाला मोबाईल लेकर गया है। उक्त आधार पर कुलदीप के मोबाईल की लोकेशन निकलवाई गई।

मोबाइल लोकेशन ट्रेस से लेकर टीम की कार्रवाई :

कुलदीप के मोबाईल नंबर को ट्रेस करने पर लोकेशन निंबोरा जिला जलगांव,की मिली। उक्त लोकेशन को गुगल मैप पर ट्रेस करने पर निंबोरा रेल्वे स्टेशन के पास होना पाया। मोबाईल लोकेशन के समय के आधार पर खंडवा व भुसावल स्टेशन के बीच ट्रेन सर्च करने पर निंबोरा रेल्वे स्टेशन के पास में कामायनी एक्सप्रेस ट्रेन की लोकेशन मिली। साक्षी मंगेश के अनुसार आरोपी अपने घर जाने के लिये भुसावल रेल्वे स्टेशन पर उतरकर अकोला के लिये ट्रेन या बस का उपयोग करेगा। बाद में दुबारा आरोपी कुलदीप के मोबाईल की लोकेशन प्राप्त करने पर जिला अकोला जाने वाले रुट पर ग्राम मल्कापुर एवं ग्राम शेगांव जिला बुलढाना, महाराष्ट्र मिली। इसके आधार पर पाया कि आरोपी कुलदीप भुसावल से अकोला बस के माध्यम से जा रहा है। आरोपी की लोकेशन बाद पुलिस टीम महाराष्ट्र के लिए रवाना की गई। पुलिस टीम द्वारा लगातार मोबाईल लोकेशन के आधार पर 400 किमी का दुर्गम सफर मात्र 8 घण्टे में तय किया एवं आरोपी कुलदीप के निवास के पते ग्राम सिरसौली पहुंचने के पहले ही ग्राम सिरसौली पहुंचकर लोकल पुलिस चौकी अडगांव थाना हिवरखेड की सहायता से आरोपी कुलदीप की धर-पकड़ हेतु जाल बिछाया। आरोपी कुलदीप जैसे ही अपने घर गांव सिरसौली पहुंचा पुलिस टीम ने कुलदीप पिता विश्वनाथ निवासी ग्राम लोनाग्रा थाना उरळ जिला अकोला महाराष्ट्र को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया।

इंदौर आते ही बदल गए थे शारदा के तेवर :

कुलदीप ने बताया कि शारदा गुर्जर के साथ में उसकी शादी 2 वर्ष पूर्व हुई थी। उसकी शादी के पूर्व में शारदा के चार पति रहे हैं। शारदा का पहला पति तानाजी लोकरे निवासी सिरसोली था जिससे कोई संतान नहीं थी। दूसरा पति मदन कारंडे निवासी अकोला था, जिससे पुत्र गणेश हुआ। तीसरा पति विजय गुर्जर निवासी ग्राम खामगांव था जिससे पुत्र आकाश हुआ था। चौथा पति मंगेश गावंडे था जिसके साथ में करीबन 6 माह रही थी उसके बाद में पांचवा पति कुलदीप आरोपी था जिसके साथ में उसकी शादी दो साल पूर्व हुई थी। तब से ही शारदा और उसका पुत्र आकाश उसके साथ रह रहे थे। शारदा गुर्जर नें नये साल में 1 जनवरी से मंगेश से पुन: बातचीत शुरु कर दी थी एवं कुछ दिन पूर्व शारदा गुर्जर नें काम की तलाश हेतु पूछा तो मंगेश ने इंदौर आने के लिये कहा। तब कुलदीप एवं शारदा गुर्जर व उनका 11 वर्षीय पुत्र आकाश इंदौर काम की तलाश में अकोला महाराष्ट्र से इंदौर आ गये थे। जो मंगेश के साथ ही उसके कमरे पर गणेश धाम कालोनी में रुके हुए थे। शारदा एवं मंगेश के बीच बढ़ती नजदीकियों के कारण कुलदीप परेशान हो गया था। शारदा और मंगेश के बीच पुन: अवैध संबंध स्थापित हो गये इसके साथ ही शारदा कुलदीप को छोड़ने की धमकी देने लगी थी। इसी के चलते कुलदीप ने बुधवार को सुबह करीबन 7 बजे मंगेश के काम पर जाने के बाद में कमरे मे सो रहे शारदा व सौतेले बेटे आकाश को पहले गैस टंकी से सिर में मारा उसके बाद कमरे मे रखे सब्जी काटने के चाकू से दोनों का गला काट कर उनकी हत्या कर दी।

इनकी रही सराहनीय भूमिका :

हत्याकांड का पर्दाफाश कर आरोपी की गिरफ्तारी में टीआई बाणगंगा राजेन्द्र सोनी, सब इंस्पेक्टर स्वराज डाबी, योगेश गरासिया, जगदीश मालवीय, सुखलाल भंवर, एएसआई सर्वेश फुकरे, मोहन कौशल, दिनेश त्रिपाठी, महेश चौहान, हेड कांस्टेबल शैलेन्द्र मीणा, शंभुदयाल शर्मा, राजीव यादव, हीरामणि मिश्रा, मालाराम सिकरवार, राजकुमार चौबे, मुनेश बैस, जानेन्द्र बघेल, बादल बैस की उल्लेखनीय भूमिका रही। सायबर सेल के विकास बचानिया व अमित मौर्य ने भी आरोपी का सुराग लगाने में महत्वपूर्ण सहयोग किया गया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co