Indore : चिंटू हत्याकांड में पुलिस को मिली सफलता, नर्मदा से अवशेष हुए बरामद
चिंटू हत्याकांड में पुलिस को मिली सफलतासांकेतिक चित्र

Indore : चिंटू हत्याकांड में पुलिस को मिली सफलता, नर्मदा से अवशेष हुए बरामद

इंदौर : गर्ल फ्रेंड से अवैध संबंध के शक में जिलाबदर नारू ने साथियों के साथ मिलकर चिंटू की हत्या कर ड्रम में लाश जलाने एवं अवशेष नर्मदा में फैंकने के मामले में पुलिस को महत्वपूर्ण सफलता मिली।

हाइलाइट्स :

  • आरोपियों के दो सहयोगियों सहित पांच हुए गिरफ्तार।

  • पुलिस ने जुटा लिये सनसनीखेज हत्याकांड के सबूत।

इंदौर, मध्यप्रदेश। गर्ल फ्रेंड से अवैध संबंध के शक में जिलाबदर नारू ने साथियों के साथ मिलकर चिंटू की हत्या कर ड्रम में लाश जलाने एवं अवशेष नर्मदा में फैंकने के मामले में पुलिस को महत्वपूर्ण सफलता मिल गई है। आरोपियों ने चिंटू की बाइक और मोबाइल भी गणेश घाट में फैंक दिए थे। पुलिस ने हत्या के मजबूत सबूत एकत्र कर लिए हैं। तीन आरोपियों के साथ ही उनके दो सहयोगियों सहित पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने नारायण वर्मा उर्फ यश उर्फ नारू पिता उदय सिंह वर्मा , अनुराग उरिया उर्फ अन्नू पिता अजय उरिया, कृष्णकान्त वाघमारे उर्फ चीकू पिता हिमांशू बाघमारे, विवेक दूबे पिता प्रमोद कुमार दुबे एवं गौरव सुनेरिया उर्फ बब्बू पिता नितिन सुनेरिया को गिरफ्तार कर । मृतक की जली हुई हड्डिया, मांस के जले हुए लोथडे, नारायण वर्मा के घर का अधजला फर्नीचर का पाया, फर्नीचर में लगने वाला लोहे का हैंडल, फर्नीचर में लगने वाला लोहे का एक एल टाइप का सपोर्ट, मृतक के जींस पेंट का बटन, अधजले हुए कंडे, फोर्ड फीगो कार आरोपीगण व फरियादी के मोबाइल, मृतक भूपेन्द्र उर्फ चिन्टू की मोटर सायकल जली हुई हालात में बरामद कर लिए गए हैं। एक्सपर्टस का कहना है कि पुलिस इन साक्ष्यों के आधार पर हत्या का केस अदालत में मजबूती से रख सकेगी।

क्या है मामला :

पुलिस थाना द्वारकापुरी पर 26 नवंबर 2021 को सूचनाकर्ता शरद वर्मा पिता मांगीलाल वर्मा सांईबाबानगर ने अपने बेटे भूपेन्द्र वर्मा उर्फ चिन्टू पिता शरद वर्मा के लापता होने की शिकायत दर्ज करवाई थी। जांच के दौरान गुमशुदा की तलाश की गई किन्तु कोई जानकारी नहीं मिली। 8 जनवरी 2022 को मुखबिर से सूचना मिली कि नारायण वर्मा, अनुराग उरिया व कृष्णकांत ने मिलकर गुमशुदा भूपेन्द्र उर्फ चिन्टू वर्मा को नारायण वर्मा के जिम वाले कमरे पर ले जाकर मारपीट कर हत्या कर दी है । साक्ष्य मिटाने के उद्देश्य से शव को जलाकर कहीं फेंक दिया है। पुलिस ने छानबीन के बाद नारायण वर्मा उर्फ नारू, अनुराग उर्फ अन्नु ओरिया, कृष्णकान्त उर्फ चीकू के विरुद्ध धारा 302, 201, 34 में केस दर्ज कर इनवेस्टीगेशन शुरू की।

बड़े अफसर भी हुए सक्रिय :

कमिश्नर हरिनारायणचारी मिश्र एवं अति. पुलिस आयुक्त मनीष कपूरिया द्वारा घटना को जघन्य व गंभीरतम प्रकरण होने से अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त राजेश व्यास को स्वयं घटना की मानीटरिंग कर शीघ्र सभी आरोपीगणों की गिरफ्तारी एवं मृतक भूपेन्द्र के शव बरामद करने के निर्देश दिये गए। घटना स्थल पर तत्काल ही अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त एवं सहायक पुलिस आयुक्त अन्नपूर्णा बीपीएस परिहार ने मौके पर पहुंचकर घटना स्थल का निरीक्षण किया । एफएसएल वैज्ञानिक व उनकी टीम भी मौके पर पहुंची तथा आवश्यक वस्तुएं जप्त की गई। एक टीम आरोपी नारायण वर्मा की गिरफ्तारी हेतु जिला होशंगाबाद भेजी गई थी। 9 जनवरी 2022 को ही आरोपी नारायण वर्मा व अन्य आरोपी अनुराग उर्फ अन्नू उरिया को गिरफ्तार कर लिया गया। जिन्होंने घटना स्वीकार की तथा मृतक भूपेन्द्र को एक महिला से संबंध होने की शंका पर कृष्णकांत के साथ मिलकर लाठी, डंडा इत्यादि से मारपीट कर हत्या करना तथा शव को लोहे के ड्रम में रखकर जला देना बताया। शव को नर्मदा नदी बडवाह के पास मोरटक्का बडा पुल से फेंक देना बताया। पुलिस टीम मोरटक्का बडवाह रवाना होकर वहां मोरटक्का पुल के आस पास एवं नर्मदा नदी में नाव से तलाश की गई किन्तु कोई शव बरामद नहीं हो पाया।

जेल से लाकर पूछताछ, घाट से बरामद जली बाइक :

इसी दौरान कृष्णकांत जो पूर्व में ही एक अन्य अपराध में जेल में था, जिसका रिमाण्ड लिया जाकर पूछताछ के लिए थाने लाया गया। लाया गया इसी दौरान आरोपी नारायण वर्मा व अनुराग उरिया का पुलिस रिमाण्ड लेकर लगातार पूछताछ की गई तब आरोपीगणों ने संपूर्ण घटनाक्रम बताया तथा यह बताया कि मृतक भूपेन्द्र के मरने के बाद उसके शव को आग लगाने के उपरांत 26 नवंबर 2021 को सुबह ही आरोपी कृष्णकांत मृतक की मोटर सायकल एवं मोबाइल को लेकर मानपुर तथा धामनोद के बीच गणेश घाट के पास उक्त साक्ष्य को मिटाने के लिये ले गए थे। मृतक की मोटर सायकल वहीं खाई में जलाकर जंगल में मोबाइल फेंक दिया है जो उप निरीक्षक अशरफ अली अंसारी की टीम ने स्पाट पर जाकर 12 जनवरी को बरामद कर लिया है।

सहयोगी भी हुए गिरफ्तार :

दूसरी ओर लगातार चार दिनों से बडवाह व मोरटक्का में टीआई सतीश द्विवेदी की टीम को भी सफलता मिली जब आरोपी नारायण वर्मा ने बताया कि मृतक को मारने के बाद उसने शव का डिस्पोजल करने के लिये अपने मित्र गौरव सुनेरिया व विवेक दुबे को 26 नवंबर 2021 को घर बुलाकर उनको साथ लेकर एक किराये की कार इन दोनों ने फोर्ड फीगो कार बुलाई थी तथा उसके शव तथा अन्य अवशेषों को तीन पैकेटों में भरकर किराये की कार में रखकर तीनों बडवाह के पास, नर्मदा नहर में दो पैकेट बहा दिये तथा एक पैकेट नर्मदा नदी एक्वाडक्ट बडा नहर पुल ऊपर से नीचे फेंक दिया है। पुलिस टीम द्वारा लगातार आस पास सघन सर्चिंग की गई तथा आरोपीगण नारायण वर्मा के बताए स्थान के आस पास तलाश करने पर मृतक भूपेन्द्र के जले हुए अवशेष जिसमें जली हुई हड्डिया, मांस के जले हुए लोथडे, नारायण वर्मा के घर का अधजला फर्नीचर का पाया, लोहे का हैंडल, एक फर्नीचर का एल टाइप का सपोर्ट, मृतक के जींस पेंट का बटन, अधजले हुए कंडे इत्यादि सामान जप्त हुआ है। मृतक भूपेन्द्र के शव को साक्ष्य मिटाने की नीयत से आरोपी विवेक दुबे व गौरब सुनेरिया उर्फ बब्बू ने भी अपराध किया है उन्हें भी गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपियों को गिरफ्तार करने में सतीश द्विवेदी, अशरफ अली अंसारी, मीना चौहान, मंगलेश्वर बघेल, ओम प्रकाश दीपक, मोहन, अमर पाल,तन्मय, स्वदीप, शशांक ,अर्पिता, राहुल खोडे की विशेष भूमिका रही।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co