Indore : सर्राफा का दुकानदार 30 लाख का सोना लेकर फरार

कमिश्नर सिस्टम लागू होने के बाद पुलिस आरोपियों को दबौचने के लिए हाईटेक तरीके भी आजमा रही है, इस मामले में भी पुलिस ने हाईटेक तरीके से 30 लाख की धोखाधड़ी करने वाले आरोपी की तलाश शुरु कर दी है।
सर्राफा का दुकानदार 30 लाख का सोना लेकर फरार
सर्राफा का दुकानदार 30 लाख का सोना लेकर फरारसांकेतिक चित्र

इंदौर, मध्यप्रदेश। सर्राफा के दुकानदार पर भरोसा करते हुए परिचित ने उसे 30 लाख का सोना दे दिया। दुकानदार परिचित के 30 लाख रुपए के 600 ग्राम सोने सहित कई लोगों से उधार पैसे लेकर दुकान बंद कर फरार हो गया। पीड़ित ने फोन लगाया तो उसने आश्वासन दिया कि वह जल्द ही सोना लौटा देगा। लंबे अरसे के बाद भी दुकानदार नहीं लौटा तो पीड़ित पुलिस की शरण में पहुंचे। अन्नपूर्णा पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी की तलाश शुरु कर दी है। कमिश्नर सिस्टम लागू होने के बाद पुलिस आरोपियों को दबौचने के लिए हाईटेक तरीके भी आजमा रही है, इस मामले में भी पुलिस ने हाईटेक तरीके से 30 लाख की धोखाधड़ी करने वाले आरोपी की तलाश शुरु कर दी है।

पुलिस के मुताबिक मिश्र नगर में रहने वाले महेंद्र कुमार पिता स्व.अभय कुमार जैन ने बताया कि मेरे माता-पिता 8 साल पहले ट्रेन से नाकोड़ाजी राजस्थान जा रहे थे। उसी दौरान उनका ट्रेन में मूल रुप से राजस्थान के रहने वाले एवं तात्कालीन समय इंदौर में किराए के मकान में रहने वाले चंदनसिंह से परिचय हुआ। चंदनसिंह की सर्राफा में सोने चांदी की दुकान थी। इस यात्रा के बाद चंदनसिंह ने दोस्ती बढ़ाई और वह घर पर भी आने जाने लगा। पिताजी और चंदनसिंह के बीच गहरी दोस्ती हो चुकी थी।

महेंद्र कुमार के पिता अभयकुमार जैन एजुकेशन डिपार्टमेंट में बाबू के पद से रिटायर्ड हुए। चंदनसिंह ने उन्हें रिटायर्टमेंट के पैसे से सोना खरीदने की सलाह दी। चंदनसिंह की सर्राफा मातेश्वरी गोल्ड के नाम से सोने-चांदी की दुकान थी। पिता ने भरोसा कर उसे 30 लाख रुपए का सोना रखने के लिए दे दिया। चंदनसिंह बार-बार यही कहता था कि जब भी आपको सोना चाहिए बोल देना मैं सोना दे दूंगा। जैन का 500 ग्राम सोना चंदनसिंह के पास था। सोना देने के दो साल बाद सितंबर 2017 में अभय कुमार जैन का निधन हो गया। उसके बाद भी चंदनसिंह का घर पर आना जाना जारी रहा। परिवार के सभी लोग उस पर विश्वास करते थे इसी बात का फायदा उठाकर चंदनसिंह अभय कुमार की पत्नी पद्मादेवी से 100 ग्राम सोना और ले गया।

कुछ अरसे पहले अभयकुमार के बेटे महेंद्रकुमार को पता चला कि चंदनसिंह ने सर्राफा की दुकान बंद कर दी है। कई लोगों से पैसा-सोना उधार लेकर वह गायब हो गया है। ये जानकारी मिलते ही महेंद्र कुमार के होश उड़ गए। उन्होंने तत्काल चंदनसिंह को फोन लगाया तो चंदनसिंह ने बताया कि वह फिलहाल मुंबई में है आपका सोना सुरक्षित है। मैं जब भी इंदौर आऊंगा सोना लौटा दूंगा। लंबे अरसे से वह इसी तरह के आश्वासन देता रहा और अंतत:उसने मोबाइल ही बंद कर लिया। इसके बाद महेंद्र कुमार ने अन्नपूर्णा पुलिस को पीड़ा सुनाई। पुलिस ने चंदनसिंह के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

हाईटेक तरीके से तलाशेंगे चंदनसिंह को :

पता चला है कि मामला 30 लाख रुपए का सोने का होने के कारण पुलिस के बड़े अफसरों तक भी ये बात पहुंच गई है। पुलिस ने दावा किया है कि चंदनसिंह को हाईटेक तरीके से पकड़ लिया जाएगा। सायबर सेल और क्राइम ब्रांच की टीम भी इसमें सहयोग करेगी। उल्लेखनीय है कि इसके पहले भी सोना लेकर फरार हुए बंगाली कारीगरों को इंदौर पुलिस, क्राइम ब्रांच की टीम बंगाल से पकड़कर ला चुकी है। चंदनसिंह की काल डिटेल आदि की मदद से उसकी लोकेशन का पता लगाई जा रही है। उसे जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co