Narmadapuram : सुबह गुमा मोबाइल, रात में होटल कर्मचारी ने पैसा लेकर किया वापस
सुबह गुमा मोबाइल, रात में होटल कर्मचारी ने पैसा लेकर किया वापसPrafulla Tiwari - RE

Narmadapuram : सुबह गुमा मोबाइल, रात में होटल कर्मचारी ने पैसा लेकर किया वापस

नर्मदापुरम, मध्यप्रदेश : होटल संचालक के दबाव में आकर कृषि अधिकारी ने एक हज़ार रुपये देकर छुड़वाया अपना मोबाइल। घटना नर्मदापुरम के मीनाक्षी चौक की।

नर्मदापुरम, मध्यप्रदेश। गुरुवार की सुबह कोठी बाजार स्थित नोगा वेस्ट थैरेपी सेन्टर में थैरेपी कराने गये कृषि अधिकारी का मोबाइल रास्ते में गुम हो गया। काफी खोजबीन के बाद भी मोबाइल नहीं मिला तो कृषि अधिकारी ने सायबर सेल में शिकायत दर्ज कराकर लगातार मोबाइल पर कॉल किया, लेकिन किसी ने फोन नहीं उठाया। लेकिन रात 9 बजे अचानक मीनाक्षी चौक स्थित अग्रवाल होटल के संचालक श्री अग्रवाल का फोन आया कि मोबाइल हमारे कर्मचारी के पास रखा हुआ है। आप उसे एक हजार रुपये देकर मोबाइल वापिस ले जाओ। जिस पर मोबाइल लेने के लिये कृषि अधिकारी सुनील कुमार उईके होटल संचालक के पास गये और होटल संचालक से निवेदन किया कि मैं एक पैरालेसिस (लकवा) ग्रस्त मरीज हूं। मुझे मेरा मोबाइल वापिस कर दो। जिस पर होटल संचालक अग्रवाल कहने लगे कि मेरे नौकर को मोबाइल मिला है उसको एक हजार रूपये की राशि इनाम के तौर पर दे दो। तब आपको मोबाइल दिलवाऊंगा। उक्त अधिकारी ने एक हजार रुपये की राशि अग्रवाल होटल संचालक के कर्मचारी धीरज गोरखा निवासी नेपाल को दी, तब जाकर उनका मोबाइल उन्हें वापस दिया गया।

मालूम हो कि कृषि अधिकारी सुनील कुमार उईके ने दोपहर को सायबर सेल पुलिस अधीक्षक कार्यालय में ऑनलाईन एफआईआर दर्ज कराई थी। यह बात दुकान संचालक और मोबाइल जिसके पास था उक्त गोरखा को बताई भी, लेकिनउसने कहा कि आप रिपोर्ट कर दो या कुछ भी कर लो कुछ नहीं होता, मुझे मोबाइल एक आटो वाले ने लाकर दिया है। उसे भी कुछ देना पड़ेगा। प्रश्न इस बात का उठता है कि यह मोबाइल कहां गिरा, किसने उठाया, आटो वाला कौन है और अग्रवाल होटल का संचालक कौन होता है जो अपने नौकर को एक हजार रुपये की राशि दिलवा रहा है। यह सब बातें की कड़ी कहीं न कहीं मोबाइल चोरों से जुड़ी हुई है। हाल ही में सब्जी बाजार में कई लोगों के मोबाइल जेब से निकाल लिये गये और उन मोबाइलों का आज तक पता नहीं चला । क्या इस मोबाइल की कड़ी भी इससे जुड़ी है, यह सब बातें मोबाइल चोरी करने वाला मोबाइल उठाने वाला और एक हजार की राशि लेने वाला, इन सब की जांच होना चाहिये। बताया जाता है कि उक्त होटल संचालक अग्रवाल बाहर का रहने वाला हैं, किसी भाईजान की दुकान किराये से लेकर होटल संचालित कर रहा है, जहां पर दिन भर लोगों की भीड़ रहती है, होटल में असामाजिक तत्वों का जमावड़ा भी रहता है। बताया जाता है कि होटल संचालक अग्रवाल का भाई किसी आपराधिक मामले में जेल में बंद रहा है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि होटल संचालक का चोरों से कहीं न कहीं गठजोड़ हैं। सूत्रों के अनुसार कुछ समय पहले भी यहां एक मोबाइल चोरी हुआ था, उससे भी पैसे लेकर मोबाइल वापिस दिये जाने की बात सामने आई है।

मालूम हो कि कृषि अधिकारी सुनील कुमार उईके पैरालैसिस (लकवा) के मरीज हैं और स्वभाव से काफी सीधे और सज्जन व्यक्ति हैं और उनके मोबाइल में सरकारी डाटा, बैंक जानकारी सहित अन्य निजी सामग्री थी, जो उनके लिये बेहद जरूरी थी। इसी का फायदा उठाकर होटल संचालक द्वारा श्री उईके पर दबाव बनाकर पैसे ले लिये और उन्होंने भी मजबूरी में पैसा दे दिया। जबकि श्री उईके इसी होटल पर प्रतिदिन सामग्री खरीदने जाते हैं और होटल संचालक भी उन्हें पहचानता है। इसके बाद भी जबरन वसूली की गई है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.