इंदौर : नाईजीरियन युवक ने हैदराबाद की महिलाओं को भी ठगा
नाईजीरियन युवक ने हैदराबाद की महिलाओं को भी ठगासांकेतिक चित्र

इंदौर : नाईजीरियन युवक ने हैदराबाद की महिलाओं को भी ठगा

इंदौर, मध्यप्रदेश : सोशल मीडिया पर महिलाओं से दोस्ती कर भावनात्मक रूप से आर्थिक शोषण करने वाले नाईजीरियन युवक को दिल्ली से सायबर सेल इंदौर ने गिरफ्तार किया है।

इंदौर, मध्यप्रदेश। सोशल मीडिया पर महिलाओं से दोस्ती कर भावनात्मक रूप से आर्थिक शोषण करने वाले नाईजीरियन युवक को दिल्ली से सायबर सेल इंदौर ने गिरफ्तार किया है। आरोपी से रिमांड पर पूछताछ की जा रही है। सायबर सेल को आशंका थी कि आरोपी ने देश में इस तरह की अन्य वारदातें भी की हैं, जिस पर उसका विवरण विभिन्न राज्यों में भेजा गया था। यह देख हैदराबाद सायबर सेल ने भी इस तरह की दो वारदातें अपने यहां दर्ज होना बताया है, जिसमें महिलाओं से ठगी की गई है। जल्द ही हैदराबाद की टीम आरोपी से पूछताछ करेगी।

राज्य सायबर सेल इंदौर के एसपी जितेन्द्र सिंह ने बताया कि गत वर्ष 18 नवंबर को मालवामिल निवासी 62 वर्षीय महिला ने लिखित में शिकायत की थी। शिकायत में उन्होंने बताया कि एक विदेशी युवक जिसने अपना नाम डेविस लारेन्स बताया था। आरोपी ने फेसबुक मैसेंजर के माध्यम से दोस्ती, विभिन्न विदेशी नंबरों से व्हाटसएप चैटिंग के माध्यम से एक करोड़ 95 लाख के उपहार भेजने के नाम पर 31 लाख 64 हजार रुपए ठग लिए हैं। आरोपी ने और रुपए की मांग करते हुए विभिन्न बैंक खातों का विवरण भी दिया था। सायबर सेल ने शिकायत दर्ज कर निरीक्षक अम्बरीश मिश्रा एवं प्रधान आरक्षक मनोज राठौड़ को जांच सौपी। पुलिस ने संदिग्ध मोबाईल नंबर और बैंक खातों की जांच कर धारा 419,420 भादवि एवं 66 डी आईटी एक्ट का पंजीबद्ध कर विवेचना शुरू की। बैंक खातों व मोबाईल नंबरो का तकनीकी विश्लेषण करने पर ज्ञात हुआ कि दिल्ली में रहने वाला नाइजीरियन युवक जिसका नाम विस्डम पिता चिमेझी ओबिन्ना नि. क्वारी स्टेट, आईएमओ कंट्री नाईजीरिया, हामु एकता एनक्लेव बुरारी दिल्ली की अपराध मे संलिप्तता पाई गई। सायबर सेल एक टीम ने तकनीकी आधार पर विस्डम को दिल्ली से गिरफ्तार किया था तथा रिमांड लेकर विधिवत पूछताछ की। आरोपी से कई चौकाने वाली जानकारी सायबर सेल को पता चली।

टैक्स/पेनल्टी के नाम पर रुपयों की मांग :

आरोपी फर्जी नामों से फेसबुक आईडी/ इंस्टाग्राम आईडी/ मेट्रेमोनियल साईट्स/डायवोर्स मेट्रेमोनियल साइट्स बनाकर विशेष कर भारतीय युवती एवं महिलाओं से चैटिंग कर उनको भावनात्मक रूप से झांसे मे लेकर उनसे दोस्ती करते हैं और जब उन महिलाओं को उन पर पूरा विश्वास हो जाता है, तो उनको महंगे गिफ्ट व उपहार का लालच देते हैं। फिर गिरोह के अन्य सदस्य कस्टम अधिकारी बनकर पीडि़ता से पार्सल छुडवाने की एवज में टैक्स व पेनल्टी के नाम पर विभिन्न बैंक खातों में रुपए ट्रांसफर करवाते है। जो महिलाएं रुपये नहीं देती उनको ये कानूनी कार्रवाई का डर दिखाकर जेल जाने की धमकी देकर लाखों ऐंठ लेते है।

एसपी जितेन्द्रसिंह के अनुसार पूछताछ के आधार पर संभावना थी कि आरोपी ने इस प्रकार के अपराध देश के विभिन्न राज्यों में किए हैं। इस पर आरोपी से अपराध में प्रयुक्त मोबाइल फोन, लेटपटाप, सिम, डोंगल एवं अन्य ईलेक्ट्रॉनिक सामान आरोपी से जप्त किए गए तथा प्राथमिक तौर पर उक्त ईलेक्ट्रानिक सामानों की लिस्ट तैयार कर विभिन्न प्रदेशों की पुलिस एवं सायबर सेल एजेंसियों के साथ आरोपी का डाटा साझा किया गया। परिणामस्वरूप गुरुवार को हैदराबाद सायबर सेल पुलिस थाने में दर्ज अपराध क्र. 353/2020 तथा 2259/2020 में आरोपी की संलिप्तता पता चली है। हैदराबाद सायबर पुलिस ने इन्दौर सायबर सेल से अपराध के संबंध में संपर्क कर और जानकारी मांगी है। जल्द ही हैदराबाद सायबर सेल की टीम इंदौर आकर आरोपी से पूछताछ कर सकती है।

उक्त अपराध की विवेचना मे निरीक्षक अंबरीश मिश्रा, निरी. राजेन्द्र जाट, प्र.आर. मनोज राठौङ, रामप्रकाश वाजपेयी, रामपाल, आर. राहुल सिंह गौर, विजय बडोदकर, विवेक मिश्रा, रमेश भिडें का योगदान रहा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co