मंत्रालय में नौकरी लगाने के नाम पर युवती से डेढ़ लाख की ठगी
मंत्रालय में नौकरी लगाने के नाम पर युवती से डेढ़ लाख की ठगीSocial Media

Bhopal : मंत्रालय में नौकरी लगाने के नाम पर युवती से डेढ़ लाख की ठगी, आरोपी दंपति समेत तीन आरोपी फरार

भोपाल, मध्यप्रदेश : वल्लभ भवन मंत्रालय में कम्प्यूटर ऑपरेटर की नौकरी लगवाने के नाम पर दंपति समेत तीन लोगों ने एक युवती से एक लाख 60 हजार रुपए ठग लिए। पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। वल्लभ भवन मंत्रालय में कम्प्यूटर ऑपरेटर की नौकरी लगवाने के नाम पर दंपति समेत तीन लोगों ने एक युवती से एक लाख 60 हजार रुपए ठग लिए। धोखाधड़ी का खुलासा तब हुआ जब पीड़ित युवती 15 दिन की ट्रेनिंग का फर्जी लेटर लेकर वल्लभ भवन पहुंची। वहां पता चला कि इस तरह की कोई नौकरी नहीं निकली और न ही कोई ऐसा लेटर जारी किया जाता है। युवती ने लिखित शिकायती आवेदन अरेरा हिल्स पुलिस को दिया था। पुलिस ने जांच के बाद धोखाधड़ी व अमानत में खयानत की धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है। घटना के बाद से ही तीनों आरोपी फरार हैं।

एसआई एस धाकड़ ने जानकारी देते हुए बताया कि मूलरूप से होशंगाबाद निवासी अमरीन खान (24) स्नातक हैं और उन्होंने एमबीए भी किया है। सरकारी नौकरी की तलाश के चलते उसकी मुलाकात स्कूल की सहेली के चाचा गिरीश सिटोके व चाची नूपुर सिटोके से हुई थी। सिटोके दंपति ने अमरीन को वल्लभ भवन में कम्प्यूटर ऑपरेटर की नौकरी लगवाने का प्रलोभन दिया। इसके एवज में आरोपी दंपति ने एक लाख 60 हजार रुपए की मांग की। अमरीन नौकरी के लिए राशि देने के लिए राजी हो गई। जनवरी 2022 से मार्च 2022 के बीच अमरीन ने एक लाख रुपए नगद व 60 हजार रुपए गिरीश सिटोके के बैंक खाते में डाल दिए थे। बताया जा रहा है कि कुछ दिन बाद आरोपी सिटोके दंपति ने अमरीन को एक लेटर देते हुए कहा था कि यह लेटर लेकर वल्लभ भवन चली जाना। यह 15 दिन की ट्रेनिंग का लेटर है। ट्रेनिंग के बाद वहीं पर पोस्टिंग भी हो जाएगी। लेटर लेकर फरियादिया वल्लभ भवन पहुंची तो वहां लोग हैरान रह गए। लेटर फर्जी था। वहां से पता चला कि इस तरह का कोई भी लेटर मंत्रालय की ओर से जारी नहीं होता।

मोहन कोहली ले गया दिल्ली :

फरियादिया अमरीन खान ने बताया कि सिटोके दंपति के साथ उनका एक साथी मोहन कोहली भी है जो खुद को वल्लभ भवन का प्राइवेट कर्मचारी बताता था। लेकिन इस नाम का कोई भी व्यक्ति वल्लभ भवन में प्राइवेट नौकरी नहीं कर रहा है। पीड़िता ने बताया कि मामले का खुलासा होने के बाद जब वह न्यू सुभाष नगर स्थित सिटोके दंपति के घर पहुंची तो वहां ताला लगा मिला। पड़ोसियों से पूछताछ करने पर पता चला कि आरोपियों ने और भी कई लोगों से नौकरी लगवाने के नाम पर पैसा ऐंठा है। अमरीन ने बताया कि आरोपी मोहन कोहली नौकरी लगवाने के नाम पर दिल्ली भी ले गया था। तीनों आरोपियों गिरीश सिटोके, नूपुर सिटोके व मोहन कोहली की खोजबीन शुरू कर दी गई है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co