मामला जहरीली शराब कांड का : मंदसौर पुलिस ने किया अंतर्राज्यीय गिरोह का पर्दाफाश
मामला जहरीली शराब कांड काराज एक्सप्रेस, ब्युरो

मामला जहरीली शराब कांड का : मंदसौर पुलिस ने किया अंतर्राज्यीय गिरोह का पर्दाफाश

मंदसौर, मध्यप्रदेश : पूरे प्रदेश में चर्चित पिपलियामंडी क्षेत्र में हुआ जहरीली शराब कांड मामले में मंदसौर जिला पुलिस ने बड़ी सफलता हासिल की है।

हाइलाइट्स :

  • कई जिलो में चल रहा अवैध शराब का नेटवर्क पुलिस ने किया खुलासा।

  • जहरीली शराब पीने से हुई लोगो की मौतों का मामला सामने आने के 9 दिन में पुलिस ने 21 लोगों को किया गिरफ्तार, 2 व्यक्ति फरार।

  • नकली शराब बनाने में जहरीले मैथोनाल (मिथाईल अल्कोहल) का किया गया उपयोग।

  • श्याम सिंह ने उपलब्ध कराया था राजेंद्र सिंह को मैथोनाल।

  • राजस्थान निवासी राजेंद्र सिंह ने जिले के पिपलियामंडी क्षेत्र में अवैध शराब विक्रेताओं कों दी थी नकली शराब।

  • खरगोन के कालका नामक व्यक्ति ने टेस्ट कर मिथाईल अल्कोहल को बताया था पीने योग्य।

मंदसौर, मध्यप्रदेश। पूरे प्रदेश में चर्चित पिपलियामंडी क्षेत्र में हुआ जहरीली शराब कांड मामले में मंदसौर जिला पुलिस ने बड़ी सफलता हासिल की है। 25 जुलाई को वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा के विधानसभा क्षेत्र के गांव खखरई में जहरीली शराब पीने से 3 लोगों की मौत हुई थी। इस मामले को चेलेंज के रूप में लेकर जिला पुलिस अधीक्षक सहित जिले की पुलिस टीम ने 9 दिन बाद मामले का पूरा खुलासा किया है।

मंदसौर जिला मुख्यालय के पुलिस कंट्रोल रूम मीटिंग हॉल में मंगलवार की शाम आयोजित पत्रकारवार्ता में पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ चौधरी ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि इस मामले में अवैध शराब का अन्तर्राज्यीय संगठित गिरोह शामिल था। मामले में 21 लोगों को पुलिस अब तक गिरफ्तार कर चुकी है। 2 आरोपी अभी फरार है। उन्होंने बताया कि यह संगठित गिरोह मंदसौर के अलावा प्रदेश के कई जिलों में अवैध शराब बेचने वालों को नकली शराब उपलब्ध कराता था। नकली शराब बनाने के लिए मैथोनाल (मिथाईल अल्कोहल) का उपयोग किया गया। यह केमिकल जहरीला होता है। यह केमिकल इंदौर के श्याम सिंह ने राजस्थान के गांव डाबडा थाना हथुनिया जिला प्रतापगढ़ राजस्थान को विक्रय किया था। उसने इस मैथोनाल से नकली शराब बनाकर पिपलियामंडी क्षेत्र में अवैध शराब बेचने वाले जयपाल और पिंटू बना को बेंची। उन्होंने कुल 25 पेटी नकली शराब राजेंद्र सिंह से खरीदी थी। जिसमें 6 पेटी शराब किराना दुकानों अथवा ढाबों पर अवैध शराब बैचने वालों बैची थी। इसी जहरीली शराब को पीने से पिपलियामंडी क्षेत्र में 13 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि पुुलिस ने जहरीली शराब पीने से मरने वालों लोगों की संख्या 8 बताई है। पुलिस ने जहरीली शराब से लोगों के मरने पर पुलिस के सक्रिय होने पर शराब के अवैध कारोबारी ने 18 पेटी शराब नष्ट कर दी।

पुलिस अधीक्षक चौधरी ने बताया कि शराब नष्ट होने के साक्ष्य पुलिस ने एकत्र किए हैं। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि यह जांच का विषय है कि सरकारी लायसेंस की शराब दुकानों पर नकली शराब कैसे पहुंची और शराब ठेकों से नकली शराब किसने बेंची हैं उन्होंने कहा कि ठेकों पर नकली शराब बिकने संबधी मामले को लेकर उन्होंने आबकारी विभाग के उच्च अधिकारियों को पूरी जानकारी दे दी है। पुलिस ने नकली शराब बनाने के उपकरण के साथ शराब के होलोग्राम, ढक्कन , खाली बोतलें व अन्य सामग्री जप्त की है। पुलिस ने इंदौर क्षेत्र की मैथोनाल उपलब्ध कराने वाली फैक्ट्री के संचालक एवं उससे मैथोनाल खरीदने वाले श्याम सिंह सहित लगभग 21 लोगों को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है। एसपी चौधरी ने बताया कि जहरीली शराब पीने वाले 8 लोगों में से 6 की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ चुकी है। इसमें से 2 लोगों की विसरा रिपोर्ट भी मिल चुकी है। इसमें पाया गया है कि मरने वालों के शरीर में मैथोनाल की मात्रा पाई गई। पत्रकारवार्ता में यह भी खुलासा किया की श्यामसिंह ने सोनम धीमान की फर्म ASD इन्टरप्राईसेस, इंदौर से मोहित यादव के माध्यम से 25 ड्रम केमिकल एम देना बताया है। इसका मतलब कि मैथोनाल ही होता है। हालांकि अभी इस केमिकल की पुष्टी करना बाकी है। श्याम सिंह ने केमिकल खरीदने से पहले खरगोन के कालका नामक व्यक्ति को केमिकल का सेंपल टेस्ट कराया था। उसने सेंपल को सही बताया था। इसके बाद ही श्याम सिंह ने यह केमिकल खरीदा था। खरगोन में अवैध शराब के मामले में कालका का नाम सामने आया है।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि श्याम सिंह आगर में भी नकली शराब बनाने के लिए केमिकल देने वाला था। वहीं अलीराजपुर में भी नकली शराब बनाने के लिए केमिकल देने का सौदा कर रहा था। पत्रकारवार्ता में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमित वर्मा, एसडीओपी टीएस पंवार, शेरसिंह भूरिया, नाहरगढ़ थाना प्रभारी अविनाष श्रीवास्तव, उपनिरिक्ष भरत चावड़ा भी उपस्थित थे।

घटना का विवरण :

25 जुलाई को निर्मल बावरी नामक व्यक्ति नें अपने पिता घनश्याम बावरी एवं गुलाबचन्द्र मेघवाल नामक व्यक्ति नें अपने भतीजे श्यामलाल मेघवाल दोंनो निवासी खखऱई की जहरीली शराब से मृत्यु होना बताई थी। इस पर पिपलियामडी थाने में मर्ग कायम किया गया। मामले की जांच के बाद आरोपी महिपालसिंह उर्फ नेपालसिंह पिता गोपालसिंह राजपुत, पिन्टू पिता महिपालसिंह उर्फ नेपालसिंह राजपूत, गजेन्द्रसिंह पिता महिपालसिंह उर्फ नेपालसिंह राजपूत निवासी खंखरई के विरूद्ध विभिन्न धाराओं में प्रकरण दर्ज कर तीनों को गिरफ्तार किया था। पूछताछ में उन्होंने दो पेटी शराब जयपाल सिंह व राजेंद्र सिंह दोनों निवासी सुजानपुरा से लेना बताया। इस पर दोनों को गिरफ्तार किया गया। जयपाल सिंह ने उक्त दो पेटी शराब जितेन्द्र सिंह निवासी सुजानपुरा से खरीदना बताया। पुलिस ने जितेन्द्र सिंह को गिरफ्तार कर पूछताछ की। उसने बताया कि कुल 24 पेटी शराब राजेन्द्र सिंह एवं उसके भाई नेपाल सिंह दोनों निवासी डाबडा राजस्थान से लेकर दो पेटी जयपाल सिंह व राजेन्द्र सिंह दोनों निवासी सुजानपुरा को एवं 22 पेटी मेहन्द्र सिंह निवासी सोनी व लाला उर्फ भँवरसिंह निवासी जेतपुरा को देना बताया है। महेन्द्र सिंह एवं लाला उर्फ भंवरसिंह की गिरफ्तारी की जा चुकी है। दोनों ने बताया कि 10 पेटी शराब जितेन्द्र सिंह को वापस करना एवं 8 पेटी शराब नष्ट करना बताया है।

जितेन्द्र सिंह ने बताया कि 10 पेटी शराब वापस लेकर नष्ट कर दी है। इस प्रकार महेन्द्र व लाला के पास रखी गई 22 पेटी में से 18 पेटी शराब नष्ट होने के साक्ष्य प्राप्त हुए हैं। दो पेटी शराब महेन्द्र सिंह ने खेरची बेचने के लिये अपने पास रखी थी जिसमें से 01 पेटी रामसिंह सौंधिया राजपूत निवासी जोणनी एवं एक पेटी मानसिंह बंजारा निवासी भैसाखेडा को देना बताया है। रामसिंह सौंधिया राजपूत एवं मानसिंह बंजारा को अभिरक्षा मे लिया जाकर पूछताछ करने पर दोनों ने अपने पास उपलब्ध क्वार्टर खेरची विक्रय कर देना बताया है तथा दोनों ने अपने पास शेष बचे हुए क्रमश: 4 व 5 क्वार्टर जप्त कराये हैं। लाला के पास की शेष दो पेटी लाला नें सतीश चौधरी निवासी पिपलियामंडी एवं जगदीश सैनी निवासी खात्याखेडी को देना बताया है। सतीश चौधरी को गिरफ्तार किया जाकर पूछताछ करने पर उसने 30 क्वार्टर प्रहलाद डाबी निवासी पिपलिया पंथ को देना बताया है। सतीश चौधरी , प्रहलाद डाबी एवं जगदीश सैनी नें अपने पास उपलब्ध क्वार्टर खेरची विक्रय कर देना बताया है तथा तीनों ने अपने पास शेष बचे हुए क्रमश: 2,3 व 4 क्वार्टर जप्त कराये हैं। राजेन्द्र सिहं तथा नेपाल सिंह दोनों निवासीयान डाबडा राजस्थान को गिरफ्तार किया जा चुका है। दोनों ने पूछताछ पर श्याम सिंह निवासी इंदौर एवं उसके दो ड्रायवर जालम सिहं एवं एक अन्य के साथ लगभग 20-25 दिन पहले 5 ड्रम केमिकल एम पिकअप वाहन से लाकर राजेन्द्र सिहं व नेपाल सिंह को देना बताया है। श्याम सिंह एवं जालम सिंह को अभिरक्षा में लिया जाकर पूछताछ जारी है। श्याम सिंह ने कुल 25 ड्रम केमिकल एम. मोहित यादव निवासी इंदौर के माध्यम से सोनम धीमान निवासी इंदौर से लिया जाना बताया है। मोहित यादव एवं सोनम धीमान को अभिरक्षा में लिया जाकर पूछताछ जारी है। सोनम धीमान ने अपनी फर्म। ASD इन्टरप्राईसेस, इंदौर से मोहित यादव के माध्यम से श्याम सिंह को 25 ड्रम केमिकल एम. देना बताया है। सोनम धीमान ने अपनी फर्म। ASD इन्टरप्राईसेस, इंदौर के लिये उक्त 25 ड्रम केमिकल एम श्रेया इंटर प्राईसेस के मालिक रवीन्द्र नागर नि. इंदौर से लेना बताया है। रवीन्द्र नागर को पुलिस अभिरक्षा में लिया जाकर पूछताछ जारी है। रवीन्द्र नागर नें स्वयं की फर्म श्रेया इंटरप्राईसेस का केमिकल की ट्रेडिंग का व्यवसाय बताया है एवं उक्त 25 ड्रम केमिकल एम सोनम धीमान की फर्म को बेचना स्वीकार किया है। राजेन्द्र सिहं व नेपाल सिंह दोनों निवासीयान डाबडा (राज) ने बताया है कि शराब निर्माण के लिये समस्त कच्चा माल श्याम सिंह निवासी इंदौर उपलब्ध कराता था। श्याम सिहं ने पूछताछ पर बताया है कि उसके पास उपलब्ध खाली क्वार्टर एवं ढक्कन उसने पुलिस के डर से उसी के साथी ढाबला तंवर थाना बडोद निवासी प्रेमसिंह सौंधिया राजपूत की जानकारी में जंगल में छिपाये हैं। सूचना पर से 20 कट्टे खाली क्वार्टर एवं 04 कार्टून ढक्कन प्रेमसिहं की निशादेही से जप्त किये जा चुके हैं। राजेन्द्र सिहं व नेपाल सिंह के पास से शराब बनाने के उपकरण जप्त किये जा चुके हैं।

जप्तशुदा साम्रगी :

40 क्वार्टर जहरीली शराब के, 442 अधजले हुए खाली क्वाटर, 360 जले हुए ढक्कन, एक मोटर सायकल रजि.क्रमांक MP-14-BB-3400 तथा एक क्वीड कार रजि.क्रमांक MP-14-CC-6281 तथा 20 कट्टे में भरे खाली क्वार्टरों के, 4 कार्टून में भरे क्वार्टरों के ढक्कन, जहरीली शराब बनाने के उपकरण इत्यादी सामाग्री जप्त की गई।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.