6 नंबरो में प्रोफेसर की प्रेम कहानी, प्रोफेसर पर लगे दुष्कर्म के आरोप
6 नंबरो में प्रोफेसर की प्रेम कहानीSitaram Patel

6 नंबरो में प्रोफेसर की प्रेम कहानी, प्रोफेसर पर लगे दुष्कर्म के आरोप

अनूपपुर, मध्यप्रदेश : आईजीएनटीयू को बदनाम करने में एक बार फिर सामने राकेश सिंह। पीड़ित ने दी प्रोफेसर के 6 मोबाइल नंबरो से चैट व बातचीत करने की जानकारी।
Summary

आईजीएनटीयू में वर्षो से पदस्थ प्रोफेसर राकेश सिंह के दामन में ऐसे दाग लगे हुये हैं कि पूरा विश्वविद्यालय प्रबंधन चाह कर भी नहीं धुल सकता है, पहले घर पर काम करने वाली लड़की के साथ दुष्कर्म व आत्महत्या के लिये प्रेरित करना फिर भगवान को जूते मारने के आरोप, अब शोध छात्रा के साथ शारीरिक संबंध बनाने का दाग अपने जीवन में लगाकर विश्वविद्यालय के लिये मिशाल पेश किये हैं।

अनूपपुर, मध्यप्रदेश। इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय अमरकंटक में विभिन्न मुख्य पदों पर अपनी सेवाएं देने वाले प्रोफेसर राकेश सिंह के कारनामे विश्वविद्यालय स्टाफ व छात्रों से भी नहीं छिपी है, लेकिन आज तक विश्वविद्यालय के छवि को बचाने के लिये किसी ने भी ऐसे बदनाम सुधा प्रोफेसर के खिलाफ आवाज तक नहीं उठाई। प्रोफेसर राकेश सिंह जनजातीय विश्वविद्यालय में इतिहास विभाग के विभागाध्यक्ष, सामाजिक विज्ञान संकाय के संकायाध्यक्ष, समाज कार्य विभाग के विभागाध्यक्ष, डॉ अम्बेडकर चेयर प्रकोष्ठ के प्रभारी निदेशक, शिक्षा परिषद के सदस्य और कार्य परिषद के सदस्य जैसे पदों पर शुसोभित कर रहे हैं।

फिर लगे शोषण के आरोप :

पीड़ित छात्रा ने शहडोल महिला थाना में शिकायत पत्र देते हुये उल्लेख किया कि छात्रा विश्वविद्यालय से पीएचडी कर रही है, इस दौरान शहडोल स्थित पाण्डवनगर के जैन बिल्डिंग में रहती थी। मार्च 2020 में कोरोनाकाल के दौरान प्रोफेसर राकेश सिंह पीड़ित छात्रा के कमरे में आए और बातचीत करते हुए इच्छा के विरूद्ध शारीरिक संबंध बनाने का प्रस्ताव रखा, पीड़ित द्वारा इस बात का विरोध किया गया, परन्तु प्रोफेसर के द्वारा अपनी पसंदिगी व पत्नी के रूप में स्वीकार करने की बात करते हुए जबरन संबंध बनाया गया।

6 नंबरो में प्रोफेसर की प्रेम कहानी :

विश्वविद्यालय के प्रोफेसर राकेश सिंह पर जिस शोध छात्रा ने जबरन शारीरिक संबंध बनाने व पत्नी बनाकर अपने संग जीवन भर रखने के वादों का आरोप लगाया है उसने ही शिकायत पत्र में प्रोफेसर के मोबाइल नंबर का उल्लेख किया है जिनमें वाट्सअप के जरिये व फोन कॉल के माध्यम से उनकी प्रेम कहानी की दास्तां लिखी हुई है। राकेश सिंह के 6 मोबाइल नंबर कुछ इस प्रकार हैं 9407343427, 8815702722, 6394126207, 8840107255, 8889042710, 9415268276 जिससे लगातार छात्रा के मोबाइल नंबर में मैसेज व बातें संधारित हैं।

होटल में की मुलाकात :

कोरोनाकाल के बाद प्रोफेसर छात्रा को अपने आगोश में लेकर कई बार होटल एवं अपने कमरे में लेकर गये हैं, 25 सितम्बर 2021 को प्रोफेसर राकेश सिंह के द्वारा छात्रा को शहडोल से अमरकंटक ले जाया गया जहां होटल महेन्द्रम में रूम लेकर रोका गया था, जहां छात्रा की आईडी के अनुसार रजिस्टर में नाम उल्लेख होना शिकायत पत्र में दर्शाया गया है।

अन्य प्रोफेसर व पुत्र का उल्लेख :

पीड़ित छात्रा ने यह भी उल्लेख किया कि राकेश सिंह होटल में शारीरिक संबंध बनाने के बाद अपने रूम में लेकर गये थे, जहां विश्वविद्यालय के अन्य प्रोफेसरों में प्रोफेसर राजपूत, जयंत बहरा के साथ अन्य प्रोफेसर भी मौजूद थे, इतना ही नहीं छात्रा की मुलाकात प्रोफेसर राकेश सिंह के पुत्र स्वेतब सिंह से भी हुई थी। जिनके सामने राकेश सिंह ने छात्रा को अपनी पत्नी का हक देने की बात कही थी।

पति से हुआ तलाक :

पीएचडी कर रही शोध छात्रा ने शिकायत पत्र में उल्लेख किया कि जब उसने प्रोफेसर द्वारा जबरन शारीरिक संबंध बनाने की बात अपने पति को बताई तो पति के द्वारा लड़ाई-झगड़ा करते हुए न्यायालय अनूपपुर से तलाक भी दे दिया गया। इतना ही नहीं इस बात की छात्रा के घरवालों को जानकारी लगने के बाद उन्होंने भी दूरियां बना लीं। जिसके बाद छात्रा अकेले जीवन यापन करने को मजबूर है। छात्रा ने महिला थाना शहडोल में शिकायत करते हुए न्याय की गुहार लगाई है।

इनका कहना है :

विश्वविद्यालय के समक्ष अभी तक ऐसी कोई जानकारी नहीं आई है, अगर इस तरह की जानकारी छात्रा या थाना स्तर से आती है तो कार्यवाही के लिये प्रबंधन को अवगत कराया जायेगा।

विजय दीक्षित, जनसंपर्क अधिकारी, आईजीएनटीयू, अमरकंटक

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.