रेप व हत्या का खुलासा : 12 घंटे के अंदर हत्या व दुष्कर्म का आरोपी गिरफ्तारी
रेप व हत्या का खुलासाAkhilesh Dwivedi

रेप व हत्या का खुलासा : 12 घंटे के अंदर हत्या व दुष्कर्म का आरोपी गिरफ्तारी

सिंगरौली, मध्य प्रदेश : पुलिस अधीक्षक ने सोन नदी के किनारे खाई में मूक बधिर युवती के साथ दुष्कर्म व हत्या के सनसनी खेज घटना का 12 घंटे के अंदर पुलिस अधीक्षक कार्यालय सभागार में खुलासा किया।

सिंगरौली, मध्य प्रदेश। पुलिस अधीक्षक बीरेन्द्र कुमार सिंह ने जिले के गढ़वा थानांतर्गत ग्राम खटाई स्थित सोन नदी के किनारे खाई में मूक बधिर युवती के साथ दुष्कर्म व हत्या के लोमहर्षक एवं सनसनी खेज घटना का 12 घंटे के अंदर रविवार की शाम पुलिस अधीक्षक कार्यालय सभागार में खुलासा किया। मूकबधिर युवती की हत्या उसके पड़ोसी द्वारा ही शराब के नशे में दुष्कर्म के पश्चात, दुष्कर्म को छिपाने की नीयत से दुपट्टा से गला दबाकर की गई थी। हत्या के बाद शव को घटना स्थल से कुछ दूर घसीटकर खाईनुमा नाले में फेंक दिया था।

पुलिस अधीक्षक कार्यालय में रविवार की शाम आयोजित पत्रकार वार्ता में उक्त सनसनी व लोमहर्षक का खुलासा करते हुये पुलिस अधीक्षक बीरेन्द्र कुमार सिंह द्वारा घटना को बेहद चुनौती पूर्ण बताते हुये कहा गया कि हमारी पुलिस टीम ने अथक परिश्रम कर दुष्कर्म एवं हत्या के आरोपी को 12 घंटे के अंदर गिरफ्तार करने में सफलता पायी है। इधर पुलिस ने प्रेसनोट जारी कर बताया कि विवेचना के दौरान पुलिस को जानकारी मिली कि ग्राम खटाई निवासी दीनू सिंह उर्फ इन्द्रेश पिता विजय बहादूर सिंह उर्फ लल्ला उम्र 27 वर्ष को घटना स्थल के पास देखा गया था। संदेह के आधार पर उसे अभिरक्षा में लेकर कड़ाई से पूछताछ की गई। पूछताछ के दौरान आरोपी दीनू सिंह ने बताया कि 1 जनवरी को वह खटाई पंचायत भवन के पास सायं 5 बजे खड़ा था, तभी वहां से मूकबधिर 22 वर्षीय युवती हाथ में पानी का डिब्बा लेकर शौच के लिये जाती दिखी। आरोपी उसके पीछे-पीछे घटना स्थल पर पहुंचा तथा दिव्यांग के साथ जबरदस्ती दुष्कर्म किया। पीड़िता द्वारा विरोध करने एवं सबको बताने का इशारा करने पर आरोपी दीनू सिंह द्वारा पीड़िता के दुपट्टे से गला दबाकर उसकी हत्या कर दी गई तथा उसके शव को नदी के कटाव में झाड़ियों के नीचे छुपा दिया। आरोपी के मेमोरेण्डम कथन के आधार पर एवं साक्ष्य संकलित कर दुष्कर्म एवं हत्या का आरोपी दीनू सिंह को गिरफ्तार किया गया। आरोपी के खिलाफ गढ़वा थाना में भादवि की धारा 302, 376, 201 के तहत मामला पंजीबद्ध कर ज्यूडिशियल रिमाण्ड पर भेज दिया गया। इस मौके पर एएसपी अनिल सोनकर, सीएसपी विंध्यनगर देवेश पाठक, एसडीओपी चितरंगी श्रीनाथ सिंह बघेल, बैढ़न कोतवाली थाना प्रभारी अरुण कुमार पाण्डेय, गढ़वा थाना प्रभारी शंखधर द्विवेदी, मोरवा थाना प्रभारी मनीष त्रिपाठी, सरई थाना प्रभारी संतोष तिवारी, नवानगर थाना प्रभारी यूपी सिंह, चितरंगी थाना प्रभारी आरपी रावत एवं मीडिया के लोग मौजूद रहे।

दुष्कर्म व हत्या का आरोपी दीनू गिरफ्तार :

गढ़वा क्षेत्र  में दिव्यांग के साथ दुष्कर्म एवं अंधी हत्या  की इस लोमहर्षक के आरोपी को गिरफ्तार करना बेहद चुनौती पूर्ण था। जिसे पुलिस अधीक्षक बीरेन्द्र कुमार सिंह के नेतृत्व में विशेष टीम द्वारा घटना की सूचना के 12 घंटे में आरोपी दीनू सिंह की गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस की इस त्वरित कार्रवाई से स्थानीय लोगो द्वारा प्रशंसा की जा रही है।

मृतिका की आंख निकालने की सूचना अफवाह :

पुलिस अधीक्षक श्री सिंह ने खुलासा के दौरान बताया कि दिव्यांग युवती की हत्यारोपी द्वारा आंख निकालने की अफवाह मनगंढ़त व झूठी है। पोस्ट मार्टम रिपोर्ट में मृतिका के आंख की पुतली मृत्यु के बाद चिंटियों द्वारा काटने से प्रभावित होना बताया गया। पोस्ट मार्टम की रिपोर्ट में मृतिका के साथ दुष्कर्म व गला दबाने से मृत्यु होना पाया गया है।

पांच थाना प्रभारियों की गठित हुई थी टीम :

एसपी श्री सिंह ने बताया कि नये साल के पहले दिन ही चुनातीपूर्ण एवं उक्त लोमहर्षक घटना के आरोपी की  धरपकड़ के लिये जिले के पांच थाना प्रभारियों की टीम गठित की गई थी। जिसमें गढ़वा थाना प्रभारी शंखधर द्विवेदी, चितरंगी थाना प्रभारी आरपी रावत, मोरवा थाना प्रभारी मनीष त्रिपाठी, सरई थाना प्रभारी संतोष तिवारी एवं नवानगर थाना प्रभारी यूपी सिंह शामिल रहे।

आईजी रीवा द्वारा पुरस्कृत करने की घोषणा :

जिले के गढ़वा थाना अंतर्गत ग्राम खटाई में दिव्यांग युवती के साथ दुष्कर्म व हत्या की घटना की सूचना के 12 घंटे के अंदर दुष्कर्म व हत्यारोपी को गिरफ्तार करने पर जिले की टीम को उत्कृष्ट कार्य हेतु रीवा रेंज आईजी उमेश जोगा द्वारा पुरस्कृत करने की घोषणा की गई है। एसपी श्री सिंह बीरेन्द्र सिंह के मार्गदर्शन में गठित उक्त जांच टीम का नेतृत्व एएसपी अनिल सोनकर द्वारा किया गया। जिसमें एसडीओपी चितरंगी एसएन सिंह बघेल गढ़वा थाना प्रभारी शंखधर द्विवेदी, चितरंगी थाना प्रभारी आरपी रावत, मोरवा थाना प्रभारी मनीष त्रिपाठी, सरई थाना प्रभारी संतोष तिवारी एवं नवानगर थाना प्रभारी यूपी सिंह, नौडिहवा चोकी प्रभारी अभिनव सिंह, बगदरा चौकी प्रभारी विनोद सिंह, एसआई मनोज सिंह चौहान, एफएसएल यूनिट प्रधान आरक्षक नरेन्द्र प्रताप सिंह, फिंगर प्रिंट उपनिरीक्षक मांडवी पाण्डेय, सायबर सेल आरक्षक विजय खरे व अन्य पुलिस कर्मियों की भूमिका सराहनीय रही।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co