Shahdol : नाबालिग से दुष्कर्म एवं हत्या का आरोपी गिरफ्तार
नाबालिग से दुष्कर्म एवं हत्या का आरोपी गिरफ्तारसांकेतिक चित्र

Shahdol : नाबालिग से दुष्कर्म एवं हत्या का आरोपी गिरफ्तार

शहडोल, मध्यप्रदेश : जिले के जयसिंहनगर थाना क्षेत्रान्तर्गत 13 वर्षीय नाबालिग के साथ पुरानी रंजिश का बदला लेने दिया घटना को अंजाम।

शहडोल, मध्यप्रदेश। जिले के जयसिंहनगर थाना क्षेत्रान्तर्गत 13 वर्षीय नाबालिग के साथ उसके दिशा मैदान जाने के दौरान अज्ञात व्यक्ति द्वारा बलात्कार कारित कर उसकी गला दबा कर हत्या किये जाने की घटना घटित हुई थी। पुलिस अधीक्षक अवधेश कुमार गोस्वामी द्वारा गठित विशेष टीम द्वारा कार्यवाही करते हुए आरोपी सूरज यादव पिता शंकरिया यादव उम्र 27 वर्ष निवासी ग्राम ठेगरहा तहसील एवं थाना जयसिंहनगर को घटना से मात्र 48 घंटे के अन्दर गिरफ्तार कर प्रकरण का पर्दाफाश करने में सफलता मिली।

यह है मामला :

जयसिंहनगर थाना क्षेत्रान्तर्गत गांव की 13 वर्षीय नाबालिग लड़की 9 जनवरी को दोपहर लगभग 3 से 3:30 बजे के बाद अपने घर से लोटा लेकर दिशा मैदान के लिए घर के पास के खेत की तरफ गई हुई थी। जिसके काफी समय तक घर नहीं लौटने पर परिजनों द्वारा उसकी खोजबीन की गई, किन्तु बारिश की वजह से ज्यादा पता नहीं कर सके थे। शाम को मृतका की बड़ी मॉं द्वारा दिशा मैदान के लिए हरिहर के खेत की तरफ जाने पर उसकी नाबालिग बेटी का अर्ध-नग्न शव पाया जाने से पुलिस को सूचना दिये जाने पर मर्ग कायम कर जांच की जा रही थी।

पुराना था विवाद :

प्रकरण में नाबालिग लड़की के साथ हुए दुष्कर्म और हत्या की गंभीरता को लेकर पुलिस द्वारा पूर्ण सजगता और तकनीकी संसाधनों के साथ-साथ अन्य पहलुओं पर भी सूक्ष्मता से जांच की जा रही थी। इसी दौरान मृतिका के परिजनों से सूक्ष्मता से जानकारी लेने पर बताया गया कि, ग्राम ठेगरहा निवासी शंकरिया यादव के परिवार से उनके परिवार का पुराना विवाद रहा है। उसके परिवार के लड़के उस विवाद का बदला लेने के लिए कुछ भी कर सकने का संदेह व्यक्त किया गया। सूत्रों की मानें तो नाबालिग और आरोपी परिवार से लगभग 20 साल पुराना विवाद था।

जुर्म किया स्वीकार :

गांव के लोगों एवं मुखबिर से गोपनीय रूप से जानकारी लेने पर यह तथ्य प्रकाश में आया कि सूरज घटना की दिनांक से ही गायब है। जब सूरज के परिजनों से जानकारी ली गई तो सूरज के परिजनों द्वारा गुमराह किया गया और बताया गया कि वह विगत 5-6 माह से काम करने बाहर गया है। इस संबंध में आगे की विवेचना करने पर मुखबिर व तकनीकी संसाधनों से यह पता चला कि घटना की दिनांक को सूरज यादव घटना स्थल के पास देखा गया है। पुन: सूरज के परिवार वालों से पूछताछ की गई एवं गांववालों के सहयोग से सूरज को पकड़कर पूछताछ के लिए लाया गया। पूछताछ में उसके द्वारा अपना जुर्म स्वीकार किया गया, आरोपी को गिरफ्तार कर, घटना से संबंधित वैज्ञानिक साक्ष्य जप्त कर गिफ्तारशुदा आरोपी को न्यायालय पेश किया गया।

विशेष टीम का हुआ था गठन :

प्रकरण की गंभीरता को दृष्टिगत रखते हुए अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक दिनेश चन्द्र सागर, पुलिस अधीक्षक अवधेश कुमार गोस्वामी एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मुकेश कुमार वैश्य द्वारा घटना स्थल का मौका मुआयना किया जाकर दिशा निर्देश दिये गये थे। घटना की संवेदनशीलता को देखते हुए फॉरेंसिक विशेषज्ञ डॉ. आर. पी. शुक्ला द्वारा घटना स्थल का निरीक्षण किया गया। अनुविभागीय अधिकारी पुलिस ब्यौहारी भविष्य भास्कर के नेतृत्व में थाना प्रभारी जयसिंहनगर विनय सिंह गहरवार, थाना प्रभारी ब्यौहारी अनिल पटेल, विजेन्द्र मिश्रा थाना प्रभारी सीधी एवं सायबर सेल के साथ एक विशेष टीम का गठन किया गया। प्रकरण में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक द्वारा 30,000 हजार रूपये के ईनाम की उद्घोषणा की गई।

इनकी रही भूमिका :

प्रकरण के पर्दाफाश करने में सुश्री सोनाली गुप्ता, उप पुलिस अधीक्षक (महिला सुरक्षा), एसडीओपी ब्यौहारी भविष्य भास्कर, थाना प्रभारी जयसिंहनगर विनय सिंह गहरवार, उप निरीक्षक प्रीति कुशवाहा एवं उनकी टीम, थाना प्रभारी ब्यौहारी अनिल पटेल, उपनिरीक्षक नेहा उईके एवं उनकी टीम, थाना प्रभारी सोहागपुर योगेन्द्र सिंह परिहार, थाना प्रभारी सीधी विजेन्द्र मिश्रा एवं उनकी टीम तथा सउनि अमित दीक्षित समेत सायबर सेल टीम का विशेष योगदान रहा है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co