शहडोल : शिक्षक, वन रक्षक, सरपंच, मैकेनिक ने युवक को उतारा मौत के घाट

शहडोल, मध्य प्रदेश : साधूलाल की मौत नहीं षड़यंत्र के तहत की थी हत्या। जयसिंहनगर पुलिस के दलाल लखपत व बाबा का नाम भी संदेह के दायरे में। मृतक के परिजनों ने की सीआईडी जांच की मांग।
शहडोल : शिक्षक, वन रक्षक, सरपंच, मैकेनिक ने युवक को उतारा मौत के घाट
शिक्षक, वन रक्षक, सरपंच, मैकेनिक ने युवक को उतारा मौत के घाटSocial Media

शहडोल, मध्य प्रदेश। जयसिंहनगर थाने के ग्राम पेडऱा में रहने वाले साधूलाल बैगा अपने घर से 19 जुलाई को परमलाल बैगा की बाईक से डीजल पंप सुधारने के लिए निकला था, लेकिन 21 जुलाई को उसका शव खेत के कुएं में पाया गया। पुलिस ने मर्ग कायम करते हुए जांच में लिया था। कई मामलों में संदेह और पुरानी दुश्मनी होने चलते परिजनों ने इस मामले में शिकायत देते हुए पुलिस अधीक्षक से गोपनीय तरीके से जिला स्तरीय सीआईडी के अधिकारियों से जांच कराने की मांग की है।

परमलाल ले गया था बाईक से :

मृतक के पिता जगदीश बैगा ने अपने पुत्र साधूलाल की मौत नहीं बल्कि सुनियोजित तरीके से की गई हत्या करार देते हुए आरोप लगाया कि 19 जुलाई की शाम मृतक मोबाइल चार्ज करने परमलाल के घर गया था, जहां परमलाल ने मृतक को बाईक में बैठाकर नये घर ले गया। मृतक ने अपनी पत्नी मालती को अपने पुराने घर की चाभी देते हुए बताया था कि वह डीजल पंप सुधारने देविनडोल जा रहा है। दूसरे दिन 20 जुलाई को वह वापिस नहीं आया। परमलाल के घर जाकर जब परिजनों ने पूछताछ की तो, उसने बताया कि इस बारे में उसे कोई जानकारी नहीं है।

कुएं में तैरती मिली थी लाश :

21 जुलाई को सुबह 10 बजे कमालुद्दीन उर्फ बाबा और सरपंच अकाली दास सिंह गोड़ निवासी झिरिया मृतक के घर पड़ेरा पहुंचे, जहां उन्होंने बताया कि सुखलाल बैगा के खेत के कुएं में अज्ञात लाश तैर रही है। जगदीश बैगा जब दोनों के साथ मौके पर गया तो, उसने साधूलाल की लाश को पहचान लिया। परिजनों ने यह भी आरोप लगाया है कि कमालुद्दीन व सरपंच अकाली दास को यह कैसे पता चल गया कि उसके पुत्र का शव सुखलाल के कुएं में पड़ा हुआ है, दोनों ही संदेह के दायरे में है।

शासकीय सेवकों के गिरोह ने की हत्या :

पिता का आरोप है कि धन-बल से सक्षम गिरोह में शामिल परमलाल बैगा प्रयोग शाला परिचारक, भारत लाल बैगा प्रयोग शाला शिक्षक, राम सजीवन बैगा वन रक्षक, उदय शंकर बैगा डीजल पंप मैकेनिक, राम प्रसाद बैगा सभी निवासी पेडऱा ने एक राय होकर पुरानी रंजिश और जमीनी विवाद के चलते एक राय होकर सुनियोजित तरीके से उसके पुत्र को मौत के घाट उतार दिया।

शव पर थे चोट के निशान :

शिकायत में यह भी उल्लेख किया गया है कि शव को जब कुएं से बाहर निकाला गया तो, शरीर पर मारपीट के निशान थे। अगर इस मामले की जांच सीआईडी के द्वारा की जाये तो, सच सामने आ जायेगा और कातिल सलाखों के पीछे होंगे, जिन संदेहियों के नाम शिकायत में दिये गये हैं, अगर उनसे गहनता से पूछताछ की जाये तो, परिजनों की मांग है कि इस हत्या काण्ड का पर्दाफाश होगा और गरीब बैगा परिवार को न्याय मिलेगा।

दलाल व वर्दीधारी ने की कोरमपूर्ति :

शिकायतकर्ता जगदीश बैगा ने जयसिंहनगर थाने में पदस्थ प्रधान आरक्षक गुलाब सिंह और पुलिस के दलाल लखपत यादव पर भी सवाल खड़े किये हैं, आरोप लगाया गया है कि मौके पर पहुंचने के बाद औपचारिकता के लिए पंचनामा तैयार कर उसके व ग्रामवासियों से हस्ताक्षर करवाकर शव को पीएम के लिए ले गये। संदेहियों के कई बार नाम स्थानीय पुलिस को बताने के बावजूद बयान तक नहीं लिये गये, बल्कि पीड़ित परिवार को ही भयभीत करने का काम किया गया, इसलिए मृतक के पिता ने पुलिस अधीक्षक से सीआईडी जांच की मांग की है।

इनका कहना है :

मर्ग में अभी जांच चल रही है, सीडीआर भी निकाला जा रहा है। लखपत नाम का कोई दलाल नहीं है। विवेचना में जिनके खिलाफ भी सबूत मिलेंगे, उन पर कार्यवाही होगी, एसडीओपी ब्यौहारी भी इस मामले में जांच कर रहे हैं।

योगेन्द्र सिंह परिहार, थाना प्रभारी, जयसिंहनगर

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co