सीधी : अंधी हत्या का बहरी पुलिस ने किया खुलासा

सीधी, मध्य प्रदेश : आरोपी द्वारा पहले 11 हजार केव्ही करंट से किया चोंटिल फिर युवक का गला दबा कर की हत्या, साक्ष्य मिटाने के उद्देेश्य से शव को किया गया था आग के हवाले।
सीधी : अंधी हत्या का बहरी पुलिस ने किया खुलासा
हत्या का आरोपी पुलिस गिरफ्त मेंSanjeev Mishra

सीधी, मध्य प्रदेश। पुलिस अधीक्षक पंकज कुमावत द्वारा पदभार ग्रहण करते ही पुरानी धूल फॉक रही फाईलों को निकलवा कर नये सिरे से घटना के आरोपियों की तलाश प्रारंभ की गयी। सबसे खास बात उभर कर सामने यह आयी कि श्री कुमावत के द्वारा पीड़ितों को त्वरित न्याय प्रदान कराने के मंशा से टीम के साथ प्रतिदिन हर प्रकरण पर प्रगति एवं उत्कृष्ट कार्य हेतु निरंतर मार्गदर्शन दिया गया। जिसका परिणाम सामने यह आया कि एक-एक कर के अनसुलझी गुत्थी सुलझने लगी और घटना को कारित करने वाले अज्ञात आरोपी भी सलाखों के पीछे पहुॅचने लगे। ऐसा ही एक प्रकरण सोमवार को बहरी थाना में देखा गया जहॉ अंजुलता पटले अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एवं आरएस पाण्डेय डीएसपी के मार्गदर्शन मे बहरी थाना प्रभारी कपूरचंद्र त्रिपाठी द्वारा अंधी हत्या के अज्ञात आरोपी को खोजकर सलाखों के पीछे तक पहुॅचाया गया।

10 हजार का इनामी पुलिस गिरफ्त में :
घटना की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक द्वारा अज्ञात आरोपी पर 10 हजार रूपए के इनाम की घोषणा की गयी थी। घटना के संदर्भ मे बहरी थाना प्रभारी कपूर चंद त्रिपाठी द्वारा बताया गया कि जंगली सूअर का शिकार करने की मंशा से आरोपी अनुज प्रताप सिंह चंदेल पिता जगभुवन चंदेल 42 वर्ष तरका बहरी द्वारा 11 हजार केव्ही मेन लाईन से जीआई तार के द्वारा मार्ग मे करंट फैलाया गया था। जिसका शिकार रामनिवास उर्फ राजा कोरी पिता रामावतार कोरी 20 वर्ष हुए, और इस घटना मे आप का पैर बुरी तरह से जख्मी हो गया। आप के द्वारा दर्द पीड़ा से कराहते हुए मदद की गुहार लगाई गयी तो आरोपी सामने आया और पुलिस की विधिक कार्यवाही से बचने के लिये आरोपी द्वारा रामनिवास का गला दबा कर हत्या कर दी गयी। आरोपी की दरींदगी यहीं पर नहीं थमी। आरोपी द्वारा पुलिस की विधिक कार्यवाही से बचने की मंशा के साथ समस्त साक्ष्य मिटाने के उद्देश्य से पास के सूनसान क्षेत्र मे जाकर पत्ते एवं लकड़ी संग्रहित कर मृतक के शव को आग के हवाले करते हुए घटना स्थल से रफू चक्कर हो गया। वहीं पुलिस की मेहनत रंग लाई और अज्ञात आरोपी को खोज कर सोमवार को न्यायालय के समक्ष्य पेश किया गया।

अधजली लाश की शिनाख्त और आरोपी की तलाश बनी चुनौती :
बताया गया कि बहरी पुलिस द्वारा अधजली लास की पहचान करना व हत्या की गुत्थी को सुलझाना एक चुनौती के रूप मे थी। वहीं नवागत थाना प्रभारी कपूरचंद्र त्रिपाठी द्वारा पदभार ग्रहण करते ही वर्षो से बंद फाईलों को खोल कर वरिष्ट अधिकारियों के कुशल मार्गदर्शन मे आरोपियों को न्यायालय तक पहुॅचाने का बड़ा ही सराहनीय कार्य किया गया है। थाना प्रभारी श्री त्रिपाठी द्वारा बताया गया कि पहले तो पुलिस द्वारा शव की शिनाख्त कराने मे मृतक के हॉथ मे बने टैटू की मदद मिली और जब मृतक की पहचान हो गयी तो मुखबिरों की मदत से क्षेत्र मे सूचना तंत्र का एक जाल बिछाया गया जहॉ घटना दिनांक से आज दिनांक तक हर संदिग्ध पर पैनी नजर बनाई गयी और सार्थक परिणाम निकल कर सामनें आयें। देखते ही देखते मुखबिर की मदत से आरोपी अनुज प्रताप सिंह जो आदतन शुअर का शिकारी एवं असमाजिक गतिविधियों मे संलिप्तता की बात उजगर हुई साथ ही मुखबिर द्वारा बताया गया कि उक्त दिनांक से आरोपी लगातार फरार चल रहा है। थाना प्रभारी द्वारा आनन फानन मे टीम गठित कर फरार चल रहे आरोपी को पकड़ कर थाना लाया गया और कड़ाई से पॅूछ तॉछ करने पर आरोपी ने अपना जुर्म कबूल करने के साथ ही बताये गये स्थल से घटना में प्रयुक्त जीआई तार को भी बरामद किया गया।

इनका रहा सराहनीय योगदान :
अंधी हत्या के आरोपी को पकड़ने मे बहरी थाना प्रभारी कपूर चन्द्र त्रिपाठी, इंद्राज सिंह एसआई, आरक्षक दिनेश सिंह, विजय, राजू, महिला आरक्षक प्रिया तिवारी, खुशाली तिवारी का विशेष योगदान रहा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co