भोपाल : सौतेली मां ने सिर पर लोहे की रॉड मारकर बेटे को उतारा मौत के घाट

भोपाल, मध्य प्रदेश : पति की गैरमौजूदगी में सौतेली मां से करता था छेड़छाड़। मृतक के कई महिलाओं से थे अवैध संबंध। हत्या के बाद छोटे बेटे ने हथियार छिपाकर गढ़ी हत्या की झूठी कहानी।
भोपाल : सौतेली मां ने सिर पर लोहे की रॉड मारकर बेटे को उतारा मौत के घाट
सौतेली मां ने सिर पर लोहे की रॉड मारकर बेटे को उतारा मौत के घाटRaj Express

भोपाल, मध्य प्रदेश। अवधपुरी थाना क्षेत्र स्थित वेदवती कॉलोनी बीडीए इलाके में मंगलवार सुबह एक रिटायर्ड पुलिसकर्मी के बेटे की लोहे की रॉड से सिर पर वार कर हत्या कर दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस को युवक का खून से लथपथ शव घर के हॉल में पड़ा मिला। घटना के समय युवक की सौतेली मां और छोटा भाई घर में मौजूद थे। छोटे भाई ने हत्या की झूठी कहानी गढ़ते हुए पुलिस को गुमराह किया कि नकाबपोश तीन अज्ञात बदमाश घर में घुसे और लोहे की रॉड से हमला कर बड़े भाई की हत्या कर दी। पूछताछ के दौरान संदेह होने पर पुलिस ने जब सख्त रवैया अपनाया तब सौतेली मां ने लोहे की रॉड से हमला कर बेटे की हत्या करना कुबूल कर लिया। पुलिस ने आरोपी सौतेली मां और उसके बेटे को हिरासत में ले लिया है।

घटना का विवरण :

पुलिस के मुताबिक एचआईजी 381ए वेदवती कॉलोनी बीडीए अवधपुरी निवासी कैलाश नारायण परसोंधिया रिटायर्ड पुलिसकर्मी हैं। वह प्रधान आरक्षक के पद पर राजगढ़ से रिटायर्ड हुए थे। परिवार में पत्नी और तीन बेटे हैं। पहली पत्नी की मौत के बाद साल 2000 में कैलाश नारायण ने नीलू नामक महिला से दूसरी शादी की थी। पहली पत्नी से कैलाश नारायण के तीन पुत्र और एक पुत्री थे जबकि दूसरी पत्नी से उन्हें एक पुत्र सौरभ परसौदिया, उम्र 19 हुआ था। मंगलवार 29 सितम्बर की सुबह किसी काम की वजह से कैलाश नारायण राजगढ़ जाने के लिए निकल गए थे। घर में सिर्फ मां नीलू, उसका बेटा सौरभ और सौतेला बेटा विजेंद्र परसौदिया, उम्र 35 थे। विजेन्द्र निजी वाहन चालक था और इन दिनों एमव्हीएम कॉलेज की महिला प्रोफेसर की गाड़ी चला रहा था। सुबह करीब सवा नौ बजे विजेंद्र घर के हॉल में सोफे पर बैठकर नाश्ता कर रहा था। नाश्ते के बाद उसे ड्यूटी पर जाना था। इसी दौरान सौतेली मां नीलू ने पीछे से विजेंद्र के सिर पर लोहे की रॉड से हमला कर हत्या कर दी। चीख सुनकर बाहर आया सौरभथाना प्रभारी ने बताया कि घटना के समय नीलू का सगा बेटा और विजेंद्र का सौतेला भाई सौरभ हाल के बगल वाले कमरे में सो रहा था। विजेंद्र की चीख सुनकर उसकी नींद खुल गई। बाहर आकर देखा कि विजेंद्र की खून से लथपथ लाश पड़ी है। उसकी मां भी वहीं खड़ी थी। उसने मां से कहा कि यह क्या किया मां। माजरा समझ में आते ही उसने मां से खून से सनी लोहे की रॉड लेकर छत पर छिपा दी। सौरभ ने ही पुलिस को घटना की सूचना दी थी।

काम-तमाम करने का बना लिया था मन :

आरोपी मां नीलू ने पुलिस को बताया कि मौका मिलते ही या अकेला पाते ही विजेंद्र उसके साथ अश्लील हरकतें करने लगता था। उसने यह बात पति को भी बताई थी लेकिन उन्होंने नजऱअंदाज़ कर दिया। विजेंद्र अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आ रहा था और लगातार उसके साथ छेड़छाड़ कर रहा था। मंगलवार को जब कैलाश नारायण राजगढ़ जाने के लिए निकले तो नीलू समझ गई थी कि अकेला पाकर विजेंद्र फिर उसके साथ छेड़छाड़ करेगा। लिहाज़ा उसने मन बना लिया था कि यदि आज विजेंद्र ने उसके साथ कोई हरकत की तो वह उसकी हत्या कर देगी। इसके लिए उसने लोहे के सरिए का भी इंतज़ाम कर लिया था।

मां-बेटे ने सुनाई मनगढ़ंत कहानी :

सौरभ और उसकी मां नीलू शुरू से ही पुलिस को गुमराह कर झूठी कहानी सुनाते रहे। सौरभ ने बताया कि पिता कैलाश नारायण किसी काम से राजगढ़ जाने के लिए निकल गए थे। विजेंद्र को नाश्ता देने के बाद मां नीलू कपड़े धोने बाथरूम चली गई थीं जबकि वह खुद बगल वाले कमरे में सो रहा था। विजेंद्र सोफे पर बैठकर नाश्ता कर रहा था। इसी दौरान मुंह पर कपड़ा बांधे तीन अज्ञात बदमाश धड़धड़ाते हुए घर में घुसे और लोहे के सरिये से सिर पर कई वार कर विजेंद्र की हत्या कर दी। सौरभ ने पुलिस को बताया था कि तीनों आरोपी एक मोटरसाइकिल और एक स्कूटी पर सवार होकर आए थे। उसने तीनों को पंचवटी की ओर जंगल की तरफ भागते हुए देखा था। ऐसे हुआ पुलिस को संदेहपुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज कर विवेचना शुरू की तो हर लिहाज से उन्हें नाकामी ही हासिल हो रही थी। पड़ोसियों से पूछताछ करने पर पता चला कि उनके घर से किसी तरह की चीखने-चिल्लाने या शोर सुनाई नहीं दिया। किसी ने मोटरसाइकिल और स्कूटी पर सवार तीन नकाबपोश लोगों को भी नहीं देखा। घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे चैक करने पर उसमें भी सौरभ के बताए हुलिए और गाड़ी वाले व्यक्ति कहीं नजऱ नहीं आए। लिहाज़ा संदेह होने पर पुलिस ने मां-बेटे से पूछताछ की तो नीलू ने वारदात को अंजाम देना कुबूल कर लिया।

शराब पीकर करता मारपीट :

आरोपी महिला नीलू ने पुलिस को बताया कि सौतेले बेटे विजेंद्र ने उनका जीना मुहाल कर दिया था। उसके कई महिलाओं से अवैध संबंध थे। उस पर भी वह बुरी नजऱ रखता था। शराब पीकर झगड़ा और मारपीट करना उसका रोज का शगल हो गया था। अपने पिता से भी झगड़ा करता था। घटना के समय भी उसने छेड़छाड़ की थी। तंग आकर उसने विजेंद्र को मौत के घाट उतार दिया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co