भोपाल : आगर व भिंड से दूल्हा बनकर भोपाल आए युवक, तब पता लगा हो गए ठगी का शिकार
आगर व भिंड से दूल्हा बनकर भोपाल आए युवक, तब पता लगा हो गए ठगी का शिकारसांकेतिक चित्र

भोपाल : आगर व भिंड से दूल्हा बनकर भोपाल आए युवक, तब पता लगा हो गए ठगी का शिकार

भोपाल, मध्यप्रदेश : राजधानी के नारियलखेड़ा में रहने वाले माहिला-पुरुषों का एक बड़ा गिरोह शादी के नाम पर अब तक लाखों की ठगी कर चुका है।

भोपाल, मध्यप्रदेश। राजधानी के नारियलखेड़ा में रहने वाले माहिला-पुरुषों का एक बड़ा गिरोह शादी के नाम पर अब तक लाखों की ठगी कर चुका है। गिरोह का खुलासा कल हुआ, भिंड और आगर जिले से चार युवक दूल्हा बनकर बारात लेकर ठगों के बताए स्थान पर पहुंचे तो वहां ताला लगा मिला। पड़ताल की तो जिस मकान में कार्यालय था, उसमें भी ताला लगा मिला। पुलिस ने आरोपियों के मोबाइल नंबर के आधार पर एक महिला सहित तीन लोगों को हिरासत में लिया है। सभी से पूछताछ की जा रही है।

कोलार पुलिस के अनुसार केशव बघेल पिता सुखलाल बघेल (35) भिंड जिले के डंगर का रहने वाला है। उसने पुलिस को बताया कि कुछ दिन पहले रोशनी तिवारी, कुलदीप तिवारी और रिंकू सेन से मुलाकात हुई थी। तीनों ने गरीब बेटियों की शादी कराने की संस्था चलाना बताया था। फोन से बात होने के बाद तीनों ने उन्हें भोपाल बुलाया। फरियादी से कुछ माह पहले 20 हजार रुपए रजिस्ट्रेशन के नाम पर लेने के बाद एक लड़की दिखाई थी। लड़की पसंद आने पर जालसाजों ने फरियादी को 25 मार्च को सीमित संख्या में बारात लेकर आने को कहा गया था। फरियदी जब कल बारात लेकर कोलार पहुंचा तो वहां कोई नहीं मिला। इसके बाद विनीत कुंज स्थित कार्यालय पहुंचा तो वहां भी ताला लगा मिला। इस बीच तीन अन्य दूल्हे पूरी बारात के साथ उक्त जालसाजों को ही तलाश करते मिल गए, जिनमें एक दूल्हा आगर-मालवा और दूसरा श्योपुर का रहने वाला बताया जा रहा है। पुलिस ने फरियादी की शिकायत पर कुलदीप तिवारी, रोशनी तिवारी और रिंकू सेन के खिलाफ धोखाधड़ी प्रकरण दर्ज कर लिया है। थाना प्रभारी चंद्रकांत पटेल ने बताया कि कुलदीप तिवारी खुद को मेट्रोमोनियल साइट्स का संचालक बताता था और रिंकू सेन संस्था का कर्मचारी बनता था। रोशनी तिवारी लड़कियों की मां बनकर फरियादियों को ठगती थी। गिरोह के सदस्यों के निशाने पर ऐसे लोग होते थे जिनकी शादी नहीं हो रही हो। अन्य जिलों में आरोपी घूम-घूमकर लोगों से संपर्क करने के साथ चौक-चौराहों और बस स्टैंड पर शादी कराने वाले पर्चे चस्पा कर अपना मोबाइल नंबर लिखते थे।

ऐसे फंसाया था फरियादियों को :

फरियादी भिंड का रहने वाला है। उसने बस स्टैंड पर एक पर्चा पढ़ा, जिसमें कुलदीप तिवारी का मोबाइल नंबर था। संपर्क करने पर फरियादी को भोपाल स्थित विनीत कुंज कार्यालय बुलाया। जहां केशव बघेल से 20 हजार रुपए जमा कराने के बाद 25 मार्च को बारात लेकर आने को कहा गया था। इस मामले में रिंकू आरोपी रोशनी तिवारी लड़की की मां बनी थी। फरियादी को एक गरीब परिवार की लड़की दिखाई थी।

कई लड़कियों को दिखाते थे आरोपी :

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार गिरोह में कई और लोग शामिल हैं। रिंकू, कुलदीप तिवारी और रोशनी तिवारी ग्राहक की तलाश कर उसे जाल में फंसाते थे। जबकि रिंकू सेन नाम का युवक भोपाल और आसपास के जिलों में गरीब बस्तियों में शादी की उम्र की लड़कियों की तलाश करता था। जिसके घर में शादी लायक लड़की होती थी, उस परिवार को सस्ते में अच्छे घर में लड़की का रिश्ता कराने का झांसा देकर लड़की को दिखाने के बहाने भोपाल लाता था। यहां कुलदीप और रोशनी तिवारी द्वारा जाल में फंसाए गए लड़के और उसके परिवार को रिंकू सेन द्वारा जाल में फंसाई गई लड़की को दिखाकर रिश्ता तय कर वर पक्ष से रुपए ऐंठ लेते थे। कुछ दिन बाद जिस लड़की को दिखाते थे, उसके परिवार को यह कहकर मना कर देते थे कि लड़के वालों ने शादी करने से मना कर दिया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co