Raj Express
www.rajexpress.co
रिव्यू - औसत दर्जे की फिल्म है 'बागपत का दूल्हा'
रिव्यू - औसत दर्जे की फिल्म है 'बागपत का दूल्हा'|Pankaj Pandey
मनोरंजन

रिव्यू - औसत दर्जे की फिल्म है 'बागपत का दूल्हा'

इस हफ्ते कॉमेडी फिल्म 'बागपत का दूल्हा' भी सिनेमाघरों में रिलीज हो रही है। कैसी है फिल्म चलिए जानते हैं।

Pankaj Pandey

Pankaj Pandey

फिल्म से जुड़ी जानकारी :

फिल्म - बागपत का दूल्हा

स्टारकास्ट - जय सिंह, रूचि सिंह,‌ रजा मुराद, अमिता नांगिया, ललित परिमू, पुनीत वशिष्ठ

डायरेक्टर - करन कश्यप

प्रोडूयसर- कृष्ण कुमार भूत व रक्षा बारिया

रेटिंग- 2 स्टार

राज एक्सप्रेस। इस हफ्ते कॉमेडी फिल्म 'बागपत का दूल्हा' भी सिनेमाघरों में रिलीज हो रही है। कैसी है फिल्म चलिए जानते हैं।

स्टोरी :

फिल्म की कहानी बागपत में रहने वाले शिवा शुक्ला (जय सिंह)और अंजली मिश्रा (रुचि सिंह) की है। दोनों एक-दूसरे को बिल्कुल भी पसंद नहीं करते हैं, क्योंकि दोनों के परिवार वालों के बीच काफी गहरी दुश्मनी है। शिवा और रुचि दोनों केबल का बिजनेस करते हैं और दोनों के बीच हमेशा क्षेत्र को लेकर झगड़ा होता रहता है। इन दोनों परिवार के झगड़े से शहर के विधायक विनोद चौधरी (रजा मुराद) काफी परेशान हैं। अब विधायक चाहते हैं कि, शिवा और अंजली शादी कर लें, ताकि यह दुश्मनी खत्म हो सके, लेकिन फिल्म में ट्विस्ट तब आता है, जब विधायक के भतीजे कल्लन भाई (पुनीत वशिष्ठ) अपने चाचा को बताते हैं कि, वो अंजली से शादी करना चाहते हैं। अब क्या शिवा और अंजली की शादी हो पाएगी और क्या विधायक अपने भतीजे की बात मानकर उसकी शादी अंजली से करवाएंगे। इन सभी सवालों के जवाब आपको फिल्म देखने के बाद पता चलेंगे।

डायरेक्शन :

फिल्म को डायरेक्ट करन कश्यप ने किया है और फिल्म देखने के बाद यह कहा जा सकता है कि, करन कश्यप को अभी डायरेक्टर के तौर पर काफी मेहनत करनी होगी। फिल्म में ऐसे कई सीन्स हैं, जिनकी जरूरत नहीं थी फिर भी उन्हें शामिल किया गया है। फिल्म के स्क्रीनप्ले में दम नहीं है और सिनेमेटोग्राफी भी कुछ खास नहीं है। फिल्म की लंबाई थोड़ी कम होनी चाहिए थी। फिल्म का म्यूजिक भी औसत दर्जे का है।

परफॉर्मेंस :

परफॉर्मेंस की बात करें तो, फिल्म के हीरो जय सिंह का अभिनय इम्प्रेस नहीं करता है। उन्हें अभी अपनी एक्टिंग पर और ध्यान देना चाहिए। फिल्म की हीरोइन रुचि सिंह ने भी औसत दर्जे का काम किया है। रजा मुराद का अभिनय भी सामान्य है। अमिता नांगिया और ललित परिमू ने भी ठीक-ठाक काम किया है। सिर्फ एक्टर पुनीत वशिष्ठ ने बढ़िया अभिनय किया है।

क्यों देखें :

वैसे तो फिल्म 'बागपत का दूल्हा' को देखने की कोई खास वजह नहीं है, फिर भी अगर आप हल्की-फुल्की कॉमेडी फिल्म देखना पसंद करते हैं तो आप यह फिल्म देखने जा सकते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर ।