जावेद अख्तर के खिलाफ FIR दर्ज, की थी तालिबान से RSS की तुलना
जावेद अख्तर के खिलाफ FIR दर्ज, की थी तालिबान से RSS की तुलनाSocial Media

जावेद अख्तर के खिलाफ FIR दर्ज, की थी तालिबान से RSS की तुलना

बॉलीवुड के जाने माने गीतकार जावेद अख्तर (Javed Akhtar) से जुड़ी एक खबर सामने आई है। खबर है कि, जावेद अख्तर के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

बॉलीवुड के जाने-माने गीतकार जावेद अख्तर (Javed Akhtar) अक्सर अपने बयानों के चलते सुर्खियों में बने रहते हैं। वह हर मुद्दे पर अपनी राय रखने से पीछे नहीं हटते हैं, जिसकी वजह से उन्हें कई बार मुश्किलों का सामना भी करना पड़ता है। एक बार फिर कुछ ऐसा ही हुआ हैं। जावेद अख्तर के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें, तो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के खिलाफ टिप्पणी करने को लेकर मुंबई पुलिस ने जावेद अख्तर के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। उन्होंने आरएसएस और तालिबान को एक जैसा बताया था।

ये है मामला:

दरअसल, मुंबई के एक वकील संतोष दुबे ने जावेद अख्तर के खिलाफ मुलुंड पुलिस स्टेशन में दर्ज करवाई है। अख्तर ने पिछले महीने अपने एक इंटरव्यू के दौरान आरएसएस (RSS) के खिलाफ बयान दिया था। उन्होंने आरएसएस की तालिबान और हिंदू चरमपंथियों के बीच समानताएं बताई थीं। उनके इसी बयान के चलते अब वकील ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई है।

इस मामले में वकील ने बताया कि, मैंने पहले जावेद अख्तर को कानूनी नोटिस भेजा था और उनसे माफी मांगने को कहा था, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया और अब उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

वकील ने किया ये दावा:

इस मामले पर बात करते हुए एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि, मुंबई के एक वकील संतोष दुबे ने मुलुंड पुलिस थाने में इंडियन पीनल कोड की धारा 500 (मानहानि के लिए दंड) की एफआईआर दर्ज कराई है। वकील ने पिछले महीने जावेद अख्तर को लीगल नोटिस भी भेजा था, जिसमें उनसे अपने कॉमेंट पर माफी मांगने की बात कही थी। दुबे ने अपने नोटिस में दावा किया था कि, जावेद अख्तर का कॉमेंट इंडियन पीनल कोड की धारा 499 और 500 के अंतर्गत आता है।

जावेद अख्तर ने दिया था ये बयान:

रिपोर्ट्स के मुताबिक जावेद अख्तर ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि, आरएसएस का सपोर्ट करने वाले लोगों की मानसिकता भी तालिबानियों जैसी ही है। इस संघ का सपोर्ट करने वालों को आत्मपरीक्षण करना चाहिए। आप जिनका सपोर्ट कर रहे हैं उनमें और तालिबानियों में क्या अंतर है। बता दें, ये पहली बार नहीं है, जब जावेद अख्तर ने ऐसा कोई बयान दिया है वो अक्सर अपने बयानों के चलते चर्चा में रहते हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.