मंदिर सियासत में कंगना की एंट्री-गुंडों ने बार, रेस्तरां खोले पर मंदिर नहीं

महाराष्ट्र में मंदिरों को खोलने पर हो रही सियासत में बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना की एंट्री, उद्धव सरकार को गुंडा सरकार बताया और बाबर की सेना से तुलना कर बोलीं, बार-रेस्त्रां खोल दिए, लेकिन मंदिर बंद।
मंदिर सियासत में कंगना की एंट्री-गुंडों ने बार, रेस्तरां खोले पर मंदिर नहीं
मंदिर सियासत में कंगना की एंट्री-गुंडों ने बार, रेस्तरां खोले पर मंदिर नहींPriyanka Sahu -RE

महाराष्ट्र: महाराष्ट्र में धार्मिक स्थलों को दोबारा खोलने पर हो रही सियासत में अब बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने एंट्री कर अपनी प्रतिक्रिया दी। हर बार की तरह इस बार भी कंगना रनौत अपनी बेबाकी से एक बार फिर सुर्खियों में आ गई हैं, क्‍योंकि उन्‍होंने महाराष्‍ट्र की सत्‍ता संभाल रहे उद्धव सरकार को गुंडा बताते हुए जमकर बरसीं हैं।

गुंडों ने बार-रेस्तरां खोले, लेकिन मंदिरों को बंद :

जी हां, बॉलीवुड की क्वीन कंगना रनौत ने उद्धव सरकार पर वार करते हुए गुंडा सरकार बता दिया और बाबर की सेना से तुलना कर दी। इस बारे में कंगना रनौत ने ट्वीट भी किया, जिसमें उन्‍होंने लिखा- यह जानकर अच्छा लगा कि माननीय गवर्नर महोदय ने गुंडा सरकार से पूछताछ की है, गुंडों ने बार और रेस्तरां खोले हैं, लेकिन मंदिरों को बंद रखा है. सोनिया सेना, बाबर सेना से भी बद्तर व्यवहार कर रही है।

इस दौरान कंगना रनौत ने अपने ट्वीट में हैशटैग गवर्नर लगाया और उस ट्वीट को भी रिट्वीट किया, जिसमें महाराष्ट्र के गर्वनर भगत सिंह कोश्यारी ने CM उद्धव ठाकरे को पत्र लिखा है और उनसे कोरोना काल में पूजा-अर्चना के स्थलों को खोलने को लेकर सवाल किया है।

महाराष्ट्र में मंदिर न खोलने पर विरोध प्रदर्शन :

मालूम हो कि, महाराष्ट्र में मंदिर नहीं खोलने पर बीजेपी विरोध प्रदर्शन कर रही है। इसी को लेकर यानी महाराष्ट्र में धार्मिक स्थलों को खोले जाने पर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने CM उद्धव ठाकरे को खत लिखा था। इस पर CM ठाकरे ने राज्यपाल को जवाब में चिट्ठी लिखी थी।

दरअसल, महामारी कोरोना से प्रभावित राज्‍यों में महाराष्‍ट्र टॉप पर है, यहां सबसे ज्यादा एक्टिव केस आ रहे हैं। हालांकि, इस दौरान महाराष्ट्र सरकार द्वारा कई तरह की छूट तो दी हैं, लेकिन यहां अभी भी कई तरह की पाबंदियां लागू हैं, जिसमेंं धार्मिक स्थलों को भी अभी तक बंद रखा गया है। इसी को लेकर बीजेपी के एक प्रतिनिधिमंडल ने राज्यापाल कोश्यारी से मिलकर मंदिरों को खोलने की अपील की थी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co