एस.एस. राजामौली 'ब्रह्मास्त्र - पार्ट वन’ का साउथ लैंग्वेज संस्करण प्रस्तुत करेंगे
एस.एस. राजामौली 'ब्रह्मास्त्र - पार्ट वन’ का साउथ लैंग्वेज संस्करण प्रस्तुत करेंगेPankaj Pandey

एस.एस. राजामौली 'ब्रह्मास्त्र - पार्ट वन’ का साउथ लैंग्वेज संस्करण प्रस्तुत करेंगे

एस.एस. राजामौली ने घोषणा की है कि वह अयान मुखर्जी की महान कृति ब्रह्मास्त्र को दक्षिण की चार भाषाओं- तमिल, तेलुगु, कन्नड़ और मलयालम में पूरी दुनिया के सामने प्रस्तुत करेंगे।

राज एक्सप्रेस। कुछ दोस्तियां और कुछ फिल्में वाकई खास होती हैं। एस.एस. राजामौली के 'लेबर ऑफ लव’- बाहुबली को प्रस्तुत करके करण जौहर को गर्व और सम्मान महसूस हुआ था... और आज हम उसी दोस्ती को फूलता-फलता देख रहे हैं। एस.एस. राजामौली ने घोषणा की है कि वह अयान मुखर्जी की महान कृति ब्रह्मास्त्र को दक्षिण की चार भाषाओं- तमिल, तेलुगु, कन्नड़ और मलयालम में पूरी दुनिया के सामने प्रस्तुत करेंगे। इंडियन माइथोलॉजी और आधुनिक दुनिया से प्रेरणा लेकर रची गई महाकाव्यात्मक ‘ब्रह्मास्त्र’ 2022 की सबसे बहुप्रतीक्षित फिल्मों में शामिल है। फिल्म को रिलीज करने की तारीख घोषित कर दी गई है और हाल ही में लॉन्च किया गया इसका मोशन पोस्टर हर जगह वायरल हो रहा है। इससे बड़ी चीज देखने को नहीं मिलेगी!

आने वाली 09.09.2022 को भारतीय सिनेमाई इतिहास का एक नया अध्याय लिखा जाएगा। ब्रह्मास्त्र का विजन और पैमाना इतना विशाल है कि इस फिल्म को बहुत बड़े-बड़े बाजारों में प्रस्तुत करने के लिए कई टॉप पावरहाउस एकजुट होने जा रहे हैं। इस ट्रिलजी के पहले भाग को रणबीर कपूर और आलिया भट्ट ने अपने कंधों पर संभाल रखा है। दिलचस्प बात यह है कि ये दोनों नागार्जुन अक्किनेनी, मौनी रॉय और अमिताभ बच्चन के साथ पहली बार स्क्रीन स्पेस साझा कर रहे हैं‌। अमिताभ बच्चन की इस फिल्म में केंद्रीय भूमिका है।

क्रांतिकारी सिनेमा की इस दुनिया में एस.एस. राजामौली का प्रवेश यकीनन इसकी कीर्ति व महिमा को बढ़ाएगा। बाहुबली जैसी फिल्म सीरीज अपने खाते में डालकर यह फिल्ममेकर दुनिया भर में आदरणीय और पूजनीय बन चुका है।

इस अवसर पर बात करते हुए एस.एस. राजामौली कहते हैं, "मैं बोर्ड पर आकर और दुनिया भर की ऑडियंस के लिए दक्षिण की चार भाषाओं में ‘ब्रह्मास्त्र’ को पेश करके बेहद खुश हूं। ब्रह्मास्त्र का कॉन्सेप्ट अनोखा है, जो इसकी स्टोरी और प्रेजेंटेशन में झलकता है। कई मायनों में यह फिल्म मुझे अपने लेबर ऑफ लव और जुनून ‘बाहुबली’ की याद दिलाती है। मैंने अयान को ब्रह्मास्त्र बनाने में समय खपाते देखा है, सही नतीजे हासिल करने के लिए इसे धैर्यपूर्वक जमाते हुए देखा है- ठीक उसी तरह, जैसा कि मैंने बाहुबली के लिए किया था।”

उन्होंने आगे बताया, "यह फिल्म प्राचीन भारतीय संस्कृति की विषय-वस्तु के साथ आधुनिक तकनीक का पूरी तरह से तालमेल कराती है। इसके अत्याधुनिक वीएफएक्स आपके होश उड़ा देंगे! यह फिल्ममेकिंग की एक ऐसी यात्रा है, जिससे मैं लगाव रखता हूं। अयान का विजन इंडियन सिनेमा का एक नया अध्याय है और ‘बाहुबली’ के बाद धर्मा प्रोडक्शंस के साथ एक बार फिर से जुड़ने पर मुझे गर्व है। करण के पास अच्छी फिल्मों की गहरी समझ और संवेदनशीलता मौजूद है। इस फिल्म को प्रस्तुत करने के लिए फॉक्स स्टार स्टूडियोज और करण के साथ फिर से साझेदारी करने पर मुझे गर्व महसूस हो रहा है।”

इस अवसर पर मौजूद रहे नागार्जुन अक्किनेनी कहते हैं, "अयान और ब्रह्मास्त्र की बेहद प्रतिभाशाली टीम के साथ काम करना एक शानदार अनुभव रहा। प्राचीन और आधुनिक भारत का यह संयोजन मुझे आकर्षक लगा तथा इस तरह के लार्जर दैन लाइफ प्रोजेक्ट का हिस्सा बनना मेरे लिए रोमांचक अनुभव है। मिस्टर राजामौली का साथ मिलना हम सभी के लिए अत्यंत सम्मान की बात है। मैं अपने प्रशंसकों के लिए 2022 में यह फिल्म पेश करने को लेकर बहुत उत्सुक हूं।“

"मैं जिन प्रोजेक्ट में शामिल रह चुका हूं, उनमें से ‘ब्रह्मास्त्र’ सबसे महत्वाकांक्षी और विजनरी प्रोजेक्ट है। ‘ब्रह्मास्त्र’ अयान का विजन है, उनका बेबी है जिसे उन्होंने पाला-पोसा है। नतीजा असाधारण है, प्रेजेंटेशन यूनिवर्सल है और यह यकीनन कई भारतीय भाषाओं में अपने पदचिह्न छोड़ने लायक फिल्म है। ‘बाहुबली’ ने न केवल रिकॉर्ड तोड़े थे, बल्कि भूगोल और भाषा की सीमाओं को पार करते हुए हमारी पहली असली नेशनल फिल्म भी बन गई थी। वही विजन हासिल करने हेतु ‘ब्रह्मास्त्र’ को लेकर साझेदारी करने के लिए जीनियस स्टोरीटेलर राजामौली गारू से बेहतर शख्स कोई नहीं है! इस बात से मेरा दिल भर आता है और मेरा आत्मविश्वास मजबूत होता है कि अब वह इस फिल्म का हिस्सा बन चुके हैं।“- कहना है करण जौहर का।

अयान मुखर्जी उत्साहित होकर कहते हैं, “ब्रह्मास्त्र वह सपना है, जिसे मैं वर्षों से पाले हुए था। यह एक महत्वाकांक्षी ट्रिलजी है और अब तक का सफर किसी रोमांच से कम नहीं रहा। मैंने इस फिल्म में अपना सब लगा दिया है और मैं इसमें अपना दिल उड़ेलना जारी रखूंगा। मैं एस.एस. राजामौली सर जैसे अद्भुत गुरु को साथ पाकर खुद को धन्य महसूस करता हूं। यह उनकी फिल्म ‘बाहुबली’ ही थी, जिसने मुझे अपने सपने को साहसपूर्ण ढंग से पूरा करने का आत्मविश्वास दिया। ‘ब्रह्मास्त्र’ के साथ उनका नाम जुड़ना सबसे बड़ी मुहर लगने जैसा है।"

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.