Raj Express
www.rajexpress.co
सुरों की मलिका लता मंगेशकर से जुड़ी खास बातें
सुरों की मलिका लता मंगेशकर से जुड़ी खास बातें|Sudha Choubey - RE
मनोरंजन

क्या आप जानते हैं सुरों की मलिका लता मंगेशकर से जुड़ी ये खास बातें ?

बॉलीवुड: आज यानी 28 सितंबर को स्वर कोकिला और भारत रत्न से नवाज़ी जा चुकीं, हर दिल अज़ीज़ गायिका लता मंगेशकर 90 साल की हो गईं हैं। हिंदुस्तानी सिनेमा में गायकी में लता जी का नाम सबसे ऊपर है।

Sudha Choubey

Sudha Choubey

हाइलाइट्स :

  • स्वर कोकिला के नाम से मशहूर लता मंगेशकर का जन्मदिन

  • गायकी के क्षेत्र में लता मंगेशकर का नाम सबसे ऊपर

  • लता मंगेशकर का जन्म 28 सितंबर 1929

  • 90 साल की हो गईं हर दिल अज़ीज़ गायिका लता मंगेशकर

  • कई भाषाओं में गाये गाने

राज एक्सप्रेस। स्वर कोकिला के नाम से मशहूर लता मंगेशकर का आज जन्मदिन है। हिंदुस्तानी सिनेमा में गायकी के क्षेत्र में लता मंगेशकर का नाम सबसे ऊपर है। महिला सिंगर्स में लता मंगेशकर की आवाज़ का कोई तोड़ नहीं। उनकी आवाज़ का जादू कई सालों से लोगों के सिर चढ़कर बोल रहा है। अब वो फिल्मी गाने नहीं गातीं, लेकिन फिर भी उनकी आवाज़ हर तरफ सुनाई देती है। आज यानी 28 सितंबर को स्वर कोकिला और भारत रत्न से नवाज़ी जा चुकीं, हर दिल अज़ीज़ गायिका लता मंगेशकर 90 साल की हो गईं हैं।

ये लाइनें रहेंगी याद :

साल 1977 में आई फिल्म 'किनारा' में लता मंगेशकर ने भूपिंद्र सिंह के साथ एक गाना गाया था, जिसके बोल थे 'नाम गुम जायेगा, चेहरा ये बदल जायेगा, मेरी आवाज़ ही, पहचान है, गर याद रहे।' लता मंगेशकर की ये लाइने उनके हर चाहने वाले को हमेशा याद रहेंगी।

लता मंगेशकर से जुड़ी खास बातें-

1. पाकिस्तान स्कूलों में लता जी गाने गाये जाते हैं:

अकेली लता मंगेशकर ऐसी भारतीय गायिका हैं, जिनका गाया हुआ गाना 'ऐ मालिक तेरे बंदे हम' पाकिस्तान के कई स्कूलों में प्रार्थना गीत के रूप में गाया जाता है।

2. चप्पल और सफेद साड़ी कब पहनतीं हैं :

गाने को पूजा मानने वाली लता मंगेशकर कभी भी रिकॉर्डिंग रूम में चप्पल पहनकर नहीं जाती हैं। रिकॉर्डिंग के समय साड़ियां भी सिर्फ सफेद रंग की ही पहनती हैं।

3. सबसे पसंदीदा खेल :

लता मंगेशकर का सबसे पसंदीदा खेल क्रिकेट है, शायद आपको पता ना हो क्रिकेट का मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स क्रिकेट स्टेडियम में उनके लिए हमेशा गैलरी रिजर्व रखी जाती है, ताकि वो अपना पसंदीदा खेल देख सकें।

4. सचिन और सोनू को मानती है बेटा :

मास्टर ब्लास्टर के नाम से मशहूर क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर लता जी के बेहद करीब हैं। जब भी मौका मिलता है वह अपनी पत्नी अंजलि के साथ उनसे मिलने जाते हैं। इसी तरह लता जी मशहूर सिंगर सोनू नुगम को भी अपने बेटे जैसा मानती हैं। एक बार खैर के शो में सोनू निगम ने बताया था कि, वह कई बार सुबह उठते हैं और लता जी के मैसेज आए रहते हैं।

5. कई भाषाओं में गाए हैं गाने :

लता जी ने सिर्फ हिंदी नहीं, बल्कि अंग्रेजी, असमिया, बांग्ला, ब्रजभाषा, डोंगरी, भोजपुरी, कोंकणी, कन्नड़, मगधी, मैथिली, मणिपुरी, मलयालम, सिंधी, तमिल, तेलुगु, उर्दू, मराठी, नेपाली, उड़िया, पंजाबी, संस्कृत आदि भाषाओं में गाने गाए हैं।

6. सिंगिंग के साथ एक्टिंग भी :

लता मंगेशकर ने बतौर अभिनेत्री कई हिंदी और मराठी फिल्मों में काम किया है। हिंदी में वे बड़ी माँ, जीवन यात्रा, सुभद्रा, छत्रपति शिवजी जैसी फिल्मों में काम कर चुकी हैं। वे अभी तक 30 हजार से ज्यादा गाने गा चुकी हैं।

7. रह चुकी हैं सांसद :

1999 में लता मंगेशकर की राज्यसभा का सदस्य बनाया गया, लेकिन तबियत खराब होने के कारण वे संसद नहीं जा पाती थीं। उन्होंने इस दौरान सैलरी के रूप में एक रुपया भी नहीं लिया। इतना ही नहीं उन्होंने दिल्ली में सांसद को मिलने वाला कोई बंगला भी नहीं लिया था।

8. जब दिया गया ज़हर :

1962 में एक बार लता जी को ज़हर देकर मारने की कोशिश की गई थी। उन्हें ठीक होने में तीन महीने से भी ज्यादा का समय लगा था। कहा जाता है कि, उन्हें उनके नौकर ने ज़हर दिया था। हालांकि इस मामले की पूरी सच्चाई कभी सामने नहीं आई है।

9. शुरूआती सुपरहिट गीत :

'आएगा आने वाला...आएगा' गाना लता मंगेशकर का शुरूआती सुपरहिट गीत था, लेकिन इस गीत के रेकॉर्ड के बाज़ार में आने से पहले संगीतकार खेमचंद प्रकाश का निधन हो गया था। इस बात का जिक्र लता मंगेशकर दुखी मन से करती हैं कि, काश उनके करियर में पहली बार सुर्खियों में आया और प्रसिद्ध हुआ गीत रचनेवाला व्‍यक्ति उसे देखने के लिए मौजूद होता।

पुरस्कार और सम्मान :

  • पद्म भूषण (1969)

  • दादासाहेब फाल्के (1989),

  • पद्म विभूषण (1999),

  • भारत रत्न (2001),

  • तीन बार राष्ट्रपति पुरस्कार (1972, 1974 व 1990),

  • चार बार फिल्मफेयर पुरस्कार

  • फिल्मफेयर का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार