Raj Express
www.rajexpress.co
एम्स मेडिकल कॉलेज में 9 सीटें रिक्त हैं।
एम्स मेडिकल कॉलेज में 9 सीटें रिक्त हैं।|Social Media
भारत

मध्यप्रदेश के एक्टिविस्ट के कारण एम्स मेडिकल कॉलेज का सच आया सामने

हाल ही में मिली जानकारी से पता चला है कि एम्स मेडिकल कॉलेज की प्रवेश परीक्षा और काउंसलिंग की प्रक्रिया खत्म होने के बाद भी 9 सीटें रिक्त हैं

रवीना शशि मिंज

राज एक्सप्रेस। AIIMS यानी अखिल भारत आयुर्विज्ञान संस्थान ( एम्स) में मेडिकल की पढ़ाई करना हर उस विद्यार्थी का सपना है जो डॉक्टर बनने का ख्वाब देखता है। विद्यार्थी एम्स मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश के लिए रात-दिन एक कर देते हैं। लेकिन ऐसे मेहनतकश विद्यार्थियों की उम्मीद तब टूटती है जब उनकी मेहनत पर कोई पानी फेर देता है।

हाल ही में मिली जानकारी से पता चला है कि एम्स मेडिकल कॉलेज की प्रवेश परीक्षा और काउंसलिंग की प्रक्रिया खत्म होने के बाद भी 9 सीटें रिक्त हैं।

इस भूल के लिए विद्यार्थी किसे कसूरवार ठहराए?

क्या है पूरा मामला

आप को बता दें एम्स मेडिकल कॉलेज की प्रवेश परीक्षा 25 और 26 मई को हुई थी। मध्यप्रदेश नीमच जिले के एक्टिविस्ट चंद्रशेखर गौड़ के बेटे भी प्रवेश परीक्षा में सम्मिलित थे, और उन्हें आशंका थी कि काउंसलिंग और मॉप-अप राउंड के बाद भी सीटें खाली हो सकती हैं। इसी कारण उन्होंने 12 सितंबर को एम्स से सीटें भरे जाने के संदर्भ में जानकारी मांगी।

एम्स की ओर से गौड़ को दी गई जानकारी में पता चला कि, एम्स काउंसलिंग प्रक्रिया 26 अगस्त, 2019 को पूरी हो गई है। काउंसलिंग के समय तक कोई भी सीट रिक्त नहीं थी। उसके बाद देशभर के एम्स मेडिकल कालेजों में नौ सीटें खाली रह गईं।

साथ ही एम्स ने सर्वोच्च न्यायालय के एक आदेश का हवाला देते हुए बताया कि सर्वोच्च न्यायालय के एक नियम के अनुसार दाखिले की अंतिम तिथि 31 अगस्त 2019 थी। इसलिए ये सीटें अभी भी खाली पड़ी हैं।