आंध्र प्रदेश: स्वर्ण भारत ट्रस्ट के 20वीं वर्षगांठ समारोह में अमित शाह का संबोधन
स्वर्ण भारत ट्रस्ट के 20वीं वर्षगांठ समारोह में अमित शाह का संबोधनSocial Media

आंध्र प्रदेश: स्वर्ण भारत ट्रस्ट के 20वीं वर्षगांठ समारोह में अमित शाह का संबोधन

आंध्र प्रदेश के वेंकटचलम में स्वर्ण भारत ट्रस्ट की 20वीं वर्षगांठ समारोह में अमित शाह ने अपने संबोधन में भाजपा की तारीफ करते हुए कहा- वेकैंया जी अध्यक्ष रहते हुए पार्टी का ग्राफ ऊपर बढ़ता गया।

आंध्र प्रदेश, भारत। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज रविवार को आंध्र प्रदेश के वेंकटचलम में स्वर्ण भारत ट्रस्ट की 20वीं वर्षगांठ समारोह में शामिल हुए। इस दौरान उन्‍होंने समारोह को संबोधित भी किया। यहां देखें अमित शाह के संबोधन में की बातें...

मैंने भाजपा की गतिविधियों को करीब से देखा है :

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने स्वर्ण भारत ट्रस्ट की 20वीं वर्षगांठ समारोह में अपने संबोधन में कहा- मैं बचपन से ही भाजपा की विचारधारा से जुड़ा हूं और मैंने भाजपा की गतिविधियों को करीब से देखा है। मेरा सौभाग्य रहा कि मुझे भी पार्टी का अध्यक्ष बनने का मौका मिला। मैं नि:संकोच कह सकता हूं कि, वेकैंया जी अध्यक्ष रहते हुए पार्टी का ग्राफ ऊपर बढ़ता गया। वेंकैया जी अपने कर्तव्यों से सभी राजनीतिक दलों के लिए एक उदाहरण हैं। एक गरीब किसान परिवार में जन्म लेकर, भारत का उपराष्ट्रपति बनना, भाजपा अध्यक्ष बनना, अनेक विभागों में मंत्री बनना और सभी में अपना योगदान देना बहुत बड़ी बात है।

पद्म पुरस्कारों को लेकर बोले अमित शाह :

अमित शाह ने बताया- मैं 1981 से सार्वजनिक जीवन में हूं, पद्म पुरस्कारों को मैंने पहले भी देखा है और अब भी देख रहा हूं, गृह मंत्री होने के कारण उस प्रक्रिया को भी नजदीक से देख रहा हूं। पहले ज्यादातर जो दल सत्ता में होते थे उनके प्रभाव क्षेत्र को पद्म पुरस्कार मिलते थे। मोदी जी ने पद्म पुरस्कारों की प्रक्रिया को ऑनलाइन करके, मेरिट्स पर जिन्होंने जमीन पर काम किया है, भारत को आगे बढ़ाने के लिए, समाज को सुधारने और सुदृढ़ करने के लिए और समाज की दिक्कतों को कम करने के लिए काम किया है, उनकों पद्म पुरस्कार मिलने शुरू हुए हैं।

स्वर्ण भारत ट्रस्ट के वर्षगांठ समारोह में अमित शाह की बातें-

  • कई उतार--चढ़ाव से पार्टी को आगे बढ़ाना पड़ता है। अनुशासन के साथ वेंकैया जी ने पार्टी को आगे बढ़ाने का काम किया। इस यात्रा में वेंकैया जी को जो भूमिका मिली उन्होंने अनुशासन के साथ किया।

  • किसानों के लिए क्या करना चाहिए और क्या नहीं, यह वेंकैया नायडू जी के चेहरे पर साफ देखा जा सकता हैं। किसानों के प्रति जो छटपटाहट है, वह वेंकैया नायडू जी के चेहरे पर दिखती हैं।

  • ज़्यादातर दल जो सत्ता में होते हैं उनकी सिफारिश से पद्म पुरस्कार मिलते हैं, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऑनलाइन आवेदन के माध्यम से जिन्होंने ज़मीन पर कार्य किया उन्हें आगे रखा।

  • कर्नाटक की एक महिला जिसने कार्य किया वह अपना परिचय पत्र देती हैं और आज वो पद्म पुरस्कार से सम्मानित हैं। एक मुस्लिम सज्जन हैं, जिन्होंने लावारिस लाशों का अंतिम संस्कार किया उन्हें भी पद्म श्री दिया गया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co