PM के विजन के अनुसार राष्ट्रीय जनजातीय अनुसंधान संस्थान आखिरकार अस्तित्व में आ रहा है: अमित शाह
अमित शाहSocial Media

PM के विजन के अनुसार राष्ट्रीय जनजातीय अनुसंधान संस्थान आखिरकार अस्तित्व में आ रहा है: अमित शाह

दिल्ली में अमित शाह ने उद्घाटन समारोह को संबोधित कर कहा, आज का दिन महत्वपूर्ण है। पीएम मोदी के विजन के अनुसार, राष्ट्रीय जनजातीय अनुसंधान संस्थान आखिरकार अस्तित्व में आ रहा है।

दिल्ली, भारत। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आज मंगलवार को राष्ट्रीय जनजातीय अनुसंधान संस्थान (NTRI) के उद्घाटन कार्यक्रम का आयोजन हुआ, जिसमें केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह एवं केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू शामिल हुए और उद्घाटन समारोह को संबोधित किया।

हमारी जनजातीय समाज में बहुत सारी विविधता है :

राष्ट्रीय जनजातीय अनुसंधान संस्थान के उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित कर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अपने संबोधन में कहा- आज का दिन महत्वपूर्ण है, पीएम मोदी के विजन के अनुसार, राष्ट्रीय जनजातीय अनुसंधान संस्थान आखिरकार अस्तित्व में आ रहा है। हमें यह लग सकता है कि यह केवल एक और संस्था है, मगर ऐसे संस्थानों की राष्ट्र निर्माण में भूमिका होती है। 2 दर्जन से भी ज़्यादा जनजातीय अनुसंधान संस्थान अलग-अलग नाम से काम कर रहे हैं लेकिन उसको राष्ट्रीय रूप से जोड़ने वाली कड़ी नहीं है। हमारी जनजातीय समाज में बहुत सारी विविधता है।

इन विविधताओं को अगर एक कड़ी नहीं जोड़ती है तो समग्र देश के जनजातीय समाज के विकास का सपना अधूरा ही रहता है। आज राष्ट्रीय जनजातीय अनुसंधान संस्थान जो बन रहा है, वो एक कड़ी बनने वाला है और हमारी कल्पना का जनजातीय विकास को साकार करने में बड़ी भूमिका निभाने वाला है।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह

प्रधानमंत्री का लक्ष्य पिछड़ी जाति और आदिवासी को मुख्यधारा में लाना है :

तो वहीं, राष्ट्रीय जनजातीय अनुसंधान संस्थान के उद्घाटन कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि, "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना है कि जब तक आदिवासी पहले पंक्ति में नहीं आएंगे तब तक भारत विकसित नहीं हो सकता। प्रधानमंत्री का लक्ष्य पिछड़ी जाति और आदिवासी को मुख्यधारा में लाना है।"

बता दें कि, सरकारी बयान के अनुसार, यह संस्थान प्रतिष्ठित अनुसंधान संस्थानों, विश्वविद्यालयों, संगठनों, शैक्षणिक निकायों एवं संसाधन केंद्रों के साथ सहयोग करेगा। एनटीआरआई जनजातीय अनुसंधान संस्थानों (टीआरआई), उत्कृष्टता केंद्रों (सीओई) एवं शोध विद्वानों की परियोजनाओं की निगरानी करेगा और अनुसंधान एवं प्रशिक्षण की गुणवत्ता में सुधार के लिए मानदंड स्थापित करेगा।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co