दिल्ली में ब्लैक फंगस से अब तक जा चुकी इतनों की जान, सरकार ने दी जानकारी
दिल्ली में ब्लैक फंगस से अब तक जा चुकी इतनों की जान, सरकार ने दी जानकारीSyed Dabeer Hussain - RE

दिल्ली में ब्लैक फंगस से अब तक जा चुकी इतनों की जान, सरकार ने दी जानकारी

आज देश में कोरोना के साथ ही ब्लैक फंगस (म्यूकरमाइकोसिस) नाम की गंभीर बीमारी भी जन्म ले चुकी है। ऐसे में सिर्फ देश की राजधानी दिल्ली से ब्लैक फंगस से हुई मौतों का आंकड़ा हैरान कर देने वाला है।

दिल्ली, भारत। आज देशभर में कोरोना का आंकड़ा बेकाबू होता जा रहा है। देश में हर दिन हजारों लोगों की जान जा रही हैं। ऐसे में देश में ब्लैक फंगस (म्यूकरमाइकोसिस) नाम की गंभीर बीमारी भी जन्म ले चुकी है। अब तक कई राज्यों से इसके कुछ एक मामले सामने आचुके हैं। इस प्रकार पूरे देश से अब तक ब्लैक फंगस के हजारों मामले सामने आचुके हैं। इसी बीच देश के कई राज्यों की सरकार ने भी ब्लैक फंगस को महामारी, नोटिफाइड डिजीज यानी गंभीर रोग घोषित कर दिया है। ऐसे में सिर्फ देश की राजधानी दिल्ली से ब्लैक फंगस से हुई मौतों का आंकड़ा हैरान कर देने वाला है।

ब्लैक फंगस के चलते दिल्ली में हुईं इतनी मौते :

दरअसल, देश में धीरे-धीरे अपने पैर पसारते हुए ब्लैक फंगस ने कई राज्यों में एंट्री ले ली है। इतना ही नहीं कई राज्यों से तो तेजी से ब्लैक फंगस के मामले सामने आरहे हैं। इन्हीं राज्यों में शुमार राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्ली में ब्लैक फंगस के चलते अब तक कुल 252 लोगों की मौत हो चुकी हैं। जबकि, ब्लैक फंगस से ग्रसित 900 से ज्यादा लोगों की हालत अभी भी गंभीर बताई जा रही है। ये आंकड़े सरकार द्वारा जारी किए गए है। साथ ही सरकारी द्वारा जारी रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि, 'कोरोना संक्रमण की तुलना में ब्लैक फंगस 13 गुना अधिक जानलेवा है। इसलिए दिल्ली वासियों को सतर्क रहने की जरूरत है।'

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट :

बता दें, पिछले दिनों स्वास्थ्य विभाग द्वारा एपिडेमिक डिजीज एक्ट-1897 के तहत ब्लैक फंगस को महामारी घोषित कर दिया है। इसके बाद दिल्ली, बिहार, उत्तराखंड और हरियाणा जैसे कई राज्यों की सरकार भी इसे महामारी, गंभीर बीमारी या नोटिफाइड डिजीज का नाम दे चुकी है। इसी बीच स्वास्थ्य विभाग ने बताया है कि, 'ब्लैक फंगस को लेकर तैयार सरकारी रिपोर्ट में 252 लोगों की मौत होने की पुष्टि की है। जबकि, इससे पहले दिल्ली सरकार ने ब्लैक फंगस की वजह से 89 लोगों की मौत होने की जानकारी दी थी। इसके अलावा दिल्ली में अब तक 1734 मरीजों में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई है। इनमें से 519 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं, जिनमें से करीब 300 से ज्यादा मरीजों को आंख या नाक की सर्जरी करानी पड़ी।' वर्तमान समय की बात करें तो, दिल्ली में अभी सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में ब्लैक फंगस के कुल 928 मरीजों का इलाज जारी है।

वरिष्ठ अधिकारी ने बताया :

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट से यह बात भी सामने आई है कि, 'दिल्ली के अस्पतालों में भर्ती ब्लैक फंगस के 35 मरीजों ने तो इलाज कराने से ही मना कर दिया था, जिसके चलते इन्हें लामा श्रेणी में रखा गया है। फ़िलहाल, यह मरीज उपचाराधीन न होने के कारण इसकी जानकारी सरकारी रिपोर्ट में मौजूद नहीं है। इस बारे में जानकारी देते हुए स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि, 'दिल्ली में अभी तक कोरोना संक्रमण की वजह से 1.74% मरीजों की मौत हुई है, लेकिन ब्लैक फंगस के 14.53% मरीजों की मौत हुई है। इससे पता चलता है कि कोरोना संक्रमित मरीज या रिकवर हो चुके लोगों में ब्लैक फंगस काफी जानलेवा है। इससे बचने के लिए संक्रमित मरीज और अन्य लोगों को सावधानी रखनी चाहिए।'

दिल्ली AIIMS के डॉक्टर ने बताया :

दिल्ली AIIMS के डॉक्टर विकास ने जानकारी देते हुए बताया है कि, 'ब्लैक फंगस के अलावा अन्य तरह के फंगस भी कोरोना संक्रमित और इससे ठीक हो चुके व्यक्तियों में मिल रहा है। यह फंगस शरीर में इतनी तेजी से फैलता है कि डॉक्टरों को मरीज की आंख तक निकालनी पड़ीं। कई मरीज ऐसे भी मिले जिनकी आंत, पेट और अन्य हिस्सों में फंगस की पहचान हुई। दिल्ली में अभी तक ब्लैक के अलावा येलो, पिंक और रेड फंगस के मामले सामने आ चुके हैं।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co