GST का पैसा लेने वाला केंद्र राज्यों को भुगतान नहीं कर रहा
GST का पैसा लेने वाला केंद्र राज्यों को भुगतान नहीं कर रहाSocial Media

GST का पैसा लेने वाला केंद्र राज्यों को भुगतान नहीं कर रहा : ममता बनर्जी

तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को केंद्र सरकार पर आरोप लगाया है कि वह जीएसटी के रूप में पैसे ले रही है, लेकिन राज्यों को उसका भुगतान नहीं कर रही है।

झारग्राम। तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को केंद्र सरकार पर आरोप लगाया है कि वह जीएसटी के रूप में पैसे ले रही है, लेकिन राज्यों को उसका भुगतान नहीं कर रही है। सुश्री बनर्जी आज यहां स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुंडा की प्रतिमाओं के अनावरण और विकास परियोजनाओं का शुभारंभ के मौके पर आयोजित कार्यक्रमों को संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा , “ मुझे मालूम है कि 100 दिनों की कार्य योजना के संबंध में लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। केंद्र सरकार हमारे द्वारा दिये गये राज्य के धन का भुगतान नहीं कर रही है। केंद्र जीएसटी के रूप में राज्य से पैसा ले रहा है, लेकिन हमें भुगतान नहीं कर रहा है। ऐसा लगता है कि केंद्र सरकार यह भूल गयी है कि संवैधानिक अधिकार, केंद्र के लिए राज्य को वापस भुगतान करना अनिवार्य है।

उन्होंने कहा , “ एक साल पहले मैं इस संबंध में प्रधानमंत्री से मिली थी ,लेकिन कुछ भी नहीं हुआ। क्या वह यह चाहते हैं कि मैं उनके पैर छूऊं और पैसे मांगूं? मैं उनसे एक बात कहती हूं, हमें हमारा पैसा दे दें आप अपनी सत्ता छोड़ दें।” उन्होंने कहा , “ हम बांग्लाबारी बनाने में लगे हैं , लेकिन केंद्र ने उसके लिए भुगतान करना बंद कर दिया है,जबकि अभी 50 लाख से अधिक मकान बनने बाकी हैं। हम ग्रामीण रास्ता योजना के तहत सड़कें बनाने में लगे थे, उन्होंने फंड रोक दिया। हमारे अधिकार छीने जा रहे हैं और हमें यह बिल्कुल भी मंजूर नहीं है। अगर केंद्र हमें पैसा नहीं दे सकता है, तो हम जीएसटी कर देना भी बंद कर सकते हैं। मैं उन्हें बताना चाहती हूं, यह भाजपा का पैसा नहीं है, यह जनता का पैसा है।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज बिरसा मुंडा की छह प्रतिमाओं का अनावरण किया गया तथा झारग्राम में कई विकास परियोजनाओं का शुभारंभ और उद्घाटन भी किया गया है। उन्होंने कहा “हम यहां स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुंडा के जीवन का जश्न मनाने के लिए इकट्ठे हुए हैं। हम उन्हें सलाम करते हैं। हमारे 11 साल के शासन में 18 लाख से ज्यादा आदिवासियों को जाति प्रमाणपत्र उपलब्ध कराया गया है तथा करीब तीन लाख आदिवासियों को राज्य सरकार से जय जौहर पेंशन का लाभ दिया है।” उन्होंने कहा कि सरकार ने कोलकाता के राजरहाट में आदिवासी भवन की स्थापना की है। वहीं झारग्राम विश्वविद्यालय का नाम बदलकर रामचंद मुर्मू विश्वविद्यालय कर दिया गया है। राज्य में बिरसा मुंडा और रघुनाथ मुर्मू की जयंती पर राजकीय अवकाश घोषित है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co