ब्यौहारी : 13 माह बाद महिला ने उगले आशिक के हत्या के राज
ब्यौहारी : 13 माह बाद महिला ने उगले आशिक के हत्या के राज|Afsar Khan
मध्य प्रदेश

ब्यौहारी : 13 माह बाद महिला ने उगले आशिक के हत्या के राज

शहडोल, मध्य प्रदेश : ब्यौहारी पुलिस ने उठाया अंधेहत्याकाण्ड से पर्दा, 13 माह बाद सुलझा अंधे हत्याकांड का मामला।

Afsar Khan

शहडोल, मध्य प्रदेश। बीते वर्ष 19 जून को उत्तरप्रदेश के फतेहपुर जिला अंतर्गत ग्राम बानवासी में रहने वाला युवक अपने घर से पूना बताकर निकला और फिर घर नहीं लौटा, परिजन उसे तलाशते रहे, गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज हुई, लेकिन उसकी खबर लगभग 13 माह बाद परिजनों को लगी, तो उनके होश उड़ गये, पुलिस द्वारा 20 जून 2019 को मिली लाश की शिनाख्त न होने के कारण उसे दफना दिया गया व उसके कपड़े व अन्य वस्तुएं पुलिस ने रखी थी, पुलिस लगातार उक्त लाश से मिले सुरागों व वस्तुओं को एक-दूसरे से जोड़कर मध्यप्रदेश सहित पड़ोस के प्रदेशों में भी सुराग रसी में लगी थी। आखिरकार कंधई लाल साहू निवासी उत्तरप्रदेश से पुलिस का संपर्क हुआ, वह अपने गुमशुदा लड़के को ढूंढ रहा था, पुलिस ने जब उसे मृतक के कपड़े और अन्य सामग्री दिखाई तो, अंधे हत्याकाण्ड की गुत्थी सुलझ सकी।

गड्ढे में मिला था शव :

20 जून की दोपहर करीब 12 बजे दिन ग्राम मऊ थाना ब्यौहारी में रामू चर्मकार के साथ देखा गया है। जिसकी तलाश ग्राम मऊ में कि गई, जिसका कोई पता नही चला रामू जांच तलाश कि जा रही थी। इस दौरान पुलिस ने गुम इंसान कायम कर तलाश शुरू कर दी, पुलिस ने धारा 174 जाफौ जिसके अज्ञात मृतक पुरुष का शव ग्राम देवगांव इमलिहा टोला रेल्वे लाइन के पास गड्डे में पाया गया था। जो 27 जून 2019 को सूचनाकर्ता रामसोरित पटेल निवासी भोगिया टोला कि सूचना पर धारा 174 जाफी कायम हुआ था।

आया था काम करने :

वर्ष 2019 में उसका भतीजा संतोष साहू ने ब्यौहारी रेल्वे लाइन फाउडेशन बनाने का ठेका लिया था, जिस में गुम इंसान अनिल साहू तथा ग्राम झरौसी के बिहारी लाल चर्मकार, रामपाल चर्मकार वगैरहा साथ में काम करते थे, अनिल साहू ग्राम झरौसी में भरत पटेल के यहां किराये का कमरा लेकर रहता था और बिहारी लाल चर्मकार के घर मऊ से लापता हो गया है।

20 दिन रखा था अपने साथ :

मृतक अनिल साहू का बिहारीलाल चर्मकार कि पत्नी कविता चर्मकार से संबंध बन गया था, मृतक बीते वर्ष अप्रैल में बिहारीलाल चर्मकार कि पत्नी कविता चर्मकार को अपने साथ झरौसी से उत्तर प्रदेश ले जाकर लालगंज में किराये से मकान लेकर करीब 20 दिन रखा था, बिहारी लाल चर्मकार के द्वारा अपनी पत्नी कविता कि गुमने कि रिपोर्ट करने पर पुलिस के द्वारा अनिल साहू के पिता के कहने पर अनिल ने कविता को 20 दिन बाद उसके मायके ग्राम तेदुआड़ भेज दिया था। 19 जून 2019 को पुन: अनिल साहू कविता को लेने ग्राम तेदुआड़ आया था।

लाठी-डंडे से मारकर की हत्या :

वह 20 जून 2019 से लापता हो गया, फरियादी के कथन के आधार पर बिहारीलाल चर्मकार कि पत्नी कविता चर्मकार को तलब कर पूछताछ कर कथन लिया गया। जो बताई कि 20 जून 2019 कि रात्रि 10-11 बजे अनिल साहू उसे ग्राम देवरांव इमलिहा टोला व लाइन के पास मिला और साथ में चलने को कह रहा था, उसी दौरान उसका पति बिहारी लाल चर्मकार तथा रामपाल चर्मकार दोनों डण्डा लाठी लेकर आये और अनिल साहू को पकड़ कर लाठी डंडे से मारमार कर हत्या कर लाश को गड्डे में फेंक दिये और धमकी दी कि किसी को बताना नहीं, नहीं तो जान से मार देंगे। इसी डर के कारण आज तक किसी को नहीं बताई थी।

इन पर दर्ज हुआ अपराध :

गुम इंसान के फरियादी कंधईलाल साहू तथा साक्षी कविता चर्मकार के कथन व मृतक कि फोटो कपड़े कड़ा, जूता, बेल्ट आदि कि पहचान से आरोपी बिहारीलाल उर्फ मुन्नू चर्मकार पिता श्यामसुन्दर चर्मकार उम्र 26 वर्ष, रामपाल पिता रामकुमार चर्मकार उम्र 22 वर्ष दोनो निवासी झरौसी के विरुद्ध प्रथम दृष्टिया अपराध घटित करना पाये जाने पर धारा 302, 201, 34 ताहि पंजीबद्ध कर उक्त आरोपीगणों को गिरफ्तार कर आरोपीगणों से घटना में प्रयुक्त टार्च व डण्डा बरामद किया, आरोपीगणों को न्यायालय पेश किया गया है।

इनकी रही भूमिका :

उक्त जघन्य अंधी हत्या का पर्दाफाश पुलिस अधीक्षक सतेन्द्र शुक्ला, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रतिमा एस. मैथ्यू, के कुशल निर्देशन एवं एसडीओपी भविष्य भास्कर के मार्ग दर्शन पर थाना प्रभारी अनिल कुमार पटेल, उपनिरीक्षक आशीष झारिया, सहायक उपनिरीक्षक जी.डी. तिवारी, सी.बी. त्रिपाठी, आरक्षक मंलिकट्ट भट्ट, केदार सिंह, अरशद खान, अजय उपाध्याय की भूमिका रही।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co