सरकारी माल की 201 बोरियां की गई जप्त
सरकारी माल की 201 बोरियां की गई जप्त |Deepika Pal - RE
मध्य प्रदेश

अधिकारी के घर मिला कई क्विंटल सरकारी धान, घोटाले की जाँच शुरू

मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले में धान खरीदी की अनियमितताओं के खुलासे होने के साथ घोटाला सामने आया है, मामले पर जांच शुरू।

Deepika Pal

Deepika Pal

राज एक्सप्रेस। मध्यप्रदेश में जबलपुर में धान घोटाले का ताजा मामला सामने आया है जहां धान खरीदी केंद्र के प्रभारी के घर से बड़ी संख्या में सरकारी माल की 201 बोरियां जप्त की गईं। मामले की शिकायत मिलने पर पुलिस ने कार्रवाई के दौरान तलाशी के तहत इन बोरियों को जप्त किया। फिलहाल मामले पर पुलिस द्वारा आगे की कार्रवाई जारी है वहीं कलेक्टर ने भी केंद्र प्रभारी पर कड़ी कार्रवाई और जांच कराने की बात कही है।

क्या है पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक, यह मामला जबलपुर जिले से सटे पनागर का है जहां छतरपुर धान खरीदी केंद्र प्रभारी जयनरेश के खिलाफ लोकायुक्त की टीम को शिकायत मिली थी, जिस पर कार्रवाई करते हुए टीम के साथ सहायक आपूर्ति अधिकारी मौके पर प्रभारी के घर पहुंचे और कार्रवाई करते हुए तलाशी के दौरान अवैध रूप से रखी धान की 201 बोरियां बरामद की। मामले में पूछताछ के दौरान प्रभारी ने इन बोरियों का संबंध रिश्तेदार से होना बताया, बहरहाल लोकायुक्त की टीम ने आगे की कार्रवाई में प्रभारी के घर से धान की बोरियों को जब्त कर घर सील कर दिया। इसके बाद जांच टीम पनागर स्थित कृषि उपज मंडी पहुंची, जहां स्टॉक की जांच के दौरान उसमें 69 बोरी धान कम मिलने पर मामले को आगे की कार्रवाई के लिए जबलपुर के कलेक्टर के पास भेज दिया है।

कलेक्टर ने कही कार्रवाई की बात

मामले को गंभीरता से लेते हुए कलेक्टर ने कहा कि, मामले की रिपोर्ट खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के पास से मिली है जिस पर साक्ष्य के आधार पर आगे की कार्रवाई और जांच की जाएगी, दोषी के खिलाफ कार्रवाई करते हुए भविष्य में ऐसी गड़बड़ी और अनियमितता सामने ना आए इस पर अंकुश लगाने के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को सख्ती से कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co