भोपाल : विधायक डागा के यहां 450 करोड़ की अघोषित आय उजागर
विधायक डागा के यहां 450 करोड़ की अघोषित आय उजागरSocial Media

भोपाल : विधायक डागा के यहां 450 करोड़ की अघोषित आय उजागर

कांग्रेस के बैतूल से विधायक निलय डागा एवं उनके परिजनों के यहां आयकर विभाग को बड़ी सफलता हाथ लगी है। विभाग की टीम को अब तक की जांच में 450 करोड़ रुपए से अधिक की अघोषित आय उजागर हुई है।

हाइलाइट्स :

  • 44 लाख की विदेशी मुद्रा जप्त

  • आयकर को मिली बड़ी सफलता

भोपाल, मध्य प्रदेश। कांग्रेस के बैतूल से विधायक निलय डागा एवं उनके परिजनों के यहां आयकर विभाग को बड़ी सफलता हाथ लगी है। विभाग की टीम को अब तक की जांच में 450 करोड़ रुपए से अधिक की अघोषित आय उजागर हुई है। शेल कंपनियों से ही करीब 375 करोड़ रुपए का खेल करने की बात सामने आ रही है। विगत दिवस आठ करोड़ रुपए नगद के अलावा विभिन्न देशों की 44 लाख रुपए की करेंसी विभाग ने जब्त की है। जिसकी जानकारी डागा ग्रुप के लोग नहीं दे पाए हैैं। उक्त जानकारी सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस (सीबीडीटी) की प्रवक्ता व इनकम टैक्स कमिश्नर सुरभि अहलुवालिया ने दी है।

कर्मचारियों के नाम खोली कंपनी :

सीबीडीटी ने जानकारी दी है कि ग्रुप ने अपने कमचारियों के नाम से ही शेल कंपनियां खोल रखी थीं। यहां तक कि इन कपनियों के बारे में उनके डॉयरेक्टर को भी पता नहीं था। यह शेल कंपनियां काली कमाई के लिए खोली गई। यह सभी कंपनियां कोलकाता में खोली गईं। विभाग की जांच में सामने आया कि कोलकाता में जिन पतों पर कंपनियां होना बताया गया, वहां से ऐसी कोई कंपनी संचालित नहीं हो रही थी। ग्रुप भी इन कागजी कंपनियों और इसके डायरेक्टर्स की पहचान की पुष्टि नहीं कर पाया। अधिकांश कंपनियों को कॉर्पोरेट अफेयर्स मंत्रालय बंद कर चुका है।

कागजी कंपनियों से की 90 करोड़ की कमाई :

ग्रुप ने अपनी ही बनाई हुई कागजी कंपनियों से आपस में सौदेबाजी की। कागजों पर हुए निवेश को एक शेल कंपनी से दूसरी को बेचना दिखाया। इस तरह खाते में 90 करोड़ रुपए की आय होना बताया। ऐसा कोलकाता स्थित कंपनियों के जरिए किया गया, जबकि इनका वजूद ही नहीं था।

शेयर कैपिटल से दिखाई 259 करोड़ की आय :

ग्रुप ने 259 करोड़ रुपए की अघोषित कमाई की जानकारी छिपाने की कोशिश की। दिखाया यह गया कि कोलकाता की शेल कंपनियों के शेयर कैपिटल से काफी ज्यादा प्रीमियम मिला है।विभाग की छानबीन में सामने आया कि ग्रुप ने अघोषित कमाई छिपाने के लिए 52 करोड़ रुपए के बोगस नुकसान का दावा किया। इसके लिए ग्रुप की कंपनियों में ही सेटलमेंट के लिए हुए करार का उपयोग किया।

27 करोड़ की छूट पाने किया गलत दावा :

ग्रुप ने लांग टर्म कैपिटल गैन्स टैक्स में 27 करोड़ रुपए की छूट पाने के लिए गलत दावा पेश किया। ग्रुप के शेयर बेचने से ही यह कमाई होना दिखाया गया। जांच में सामने आया कि इन शेयरों की खरीदी सही नहीं थी। इसकी वजह डायरेक्टरों ने कोलकाता की जिस शेल कंपनी से ये शेयर खरीदे, उसका कोई अस्तित्व ही नहीं है। सारे शेयर बेहद कम कीमत में खरीदे गए।

चैट्स से खुलासा, हवाला से 15 करोड़ से अधिक का ट्रांजेक्शन :

आयकर विभाग ने विगत 18 फरवरी को जिन पांच स्थानों के 22 ठिकानों पर छापा मारा था। वहां से जप्त की गई लैपटॉप्स, हाई ड्राइव, पैन ड्राइव व अन्य ई डिवाइस खंगाली गई है। इनको सीज भी किया। इससे फिलहाल सामने आ रहा है कि हवाला के जरिए 15 करोड़ रुपए से अधिक का ट्रांजेक्शन किया गया। इन सबूतों से ही 450 करोड़ से अधिक की अघोषित आय का दावा विभाग कर रहा है। वहीं नौ लॉकर भी मिले हैं।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co