मध्य प्रदेश स्थापना दिवस कार्यक्रम
मध्य प्रदेश स्थापना दिवस कार्यक्रम Kavita Singh Rathore - RE

MP Foundation Day : 'शंकर-एहसान-लॉय' के साथ पूरे भोपाल ने धूमधाम से मनाया 67वां मध्य प्रदेश स्थापना दिवस

राजधानी भोपाल के लाल परेड ग्राउंड में 67वें मध्य प्रदेश स्थापना दिवस के कार्यक्रम में समां बांधने पहुंचे तीन दिग्गज कलाकार 'शंकर-एहसान-लॉय'। इस दौरान पूरा भोपाल और भोपालवासी झूमते नज़र आए।

भोपाल, मध्यप्रदेश। जैसा कि, सभी को पता है, मंगलवार यानी 1 नम्बर को मध्य प्रदेश का 67वां मध्य प्रदेश स्थापना दिवस था। इस दिन को सभी ने धूमधाम से मनाया। इस मौके पर मंगलवार की देर रात तक भोपाल में मध्य प्रदेश के 67 वें स्थापना दिवस के कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यह कार्यक्रम प्रदेश की राजधानी भोपाल के लाल परेड ग्राउंड में आयोजित किया गया था। कार्यक्रम में प्रदेश के मामा यानी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, क्रष्णा गौर और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा सहित जनप्रतिनिधि और कार्यकर्ता ने भी मुख्य रूप से हिस्सा लिया। साथ ही इस कार्यक्रम में समां बांधने पहुंचे तीन दिग्गज कलाकार 'शंकर-एहसान-लॉय'। इस दौरान पूरा भोपाल और भोपालवासी झूमते हुए नज़र आए।

मध्य प्रदेश स्थापना दिवस का कार्यक्रम :

दरअसल, 1 नम्बर को मध्य प्रदेश के 67वें स्थापना दिवस के मौके पर शानदार कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम की शुरुआत शाम 7 बजे से हुई और यह कार्यक्रम देर रत करीबन 11 : 30 तक चला। इस दौरान बच्चों ने ट्रेडिशनल प्रस्तुतियां भी दी। कार्यक्रम की शुरुआत मुख्यमंत्री ने भारत माता की बड़ी सी फोटो पर दीप प्रज्जवलित कर की। साथ ही सभी को स्थापना दिवस की शुभकामनाएं भी दी। कार्यक्रम में 400 कलाकारों ने शिव महिमा की प्रस्तुति दी। मुख्य कार्यक्रम तो तब शुरू हुआ जब बॉलीवुड की प्रसिद्ध संगीत निर्देशक की दिग्गज जोड़ी 'शंकर महादेवन', 'एहसान नूरानी' और 'लॉय मेंडोंसा' ('शंकर-एहसान-लॉय') के बैंड की प्रस्तुति शुरू हुई।

कैसी रही 'शंकर-एहसान-लॉय' की प्रस्तुति :

इस कार्यक्रम के दौरान लगभग 10 बजे से शंकर महादेवन की एंट्री ने तो मानों धूम मचाकर रख दी। शंकर महादेवन ने अपने ही गाय गणेशजी के प्रसिद्ध गाने से कार्यक्रम की शुरुआत की। इसके बाद उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ मिलकर 'महामृत्युंजय मंत्र' की प्रस्तुति दी। जहां एक लाइन शंकर महादेवन ने गाई तो अगली लाइन शिवराज सिंह ने। CM शिवराज सिंह के इस अलग ही अंदाज को देखकर हर कोई हैरान था। वह इस दौरान काफी उत्साहित नज़र आए। इतना ही नहीं उन्होंने शंकर महादेवन को बेक टू बेक प्रस्तुति देते हुए देख बीच कार्यक्रम में उन्हें लाल गुलाब देकर सम्मानित किया। शंकर महादेवन के मात्र एक बार कह देने पर CM शिवराज सिंह ने शंकर महादेवन को मप्र में अकादमी प्रारंभ करने के लिए सहयोग करने का वादा भी किया। उन्होंने इस दौरान कहा कि,

हमारा मध्य प्रदेश कला और संगीत के लिए ही जाना जाता है। मेरे भांजे-भांजी नाचते गाते रहे, मुझे और क्या चाहिए......सब खुश रहे मुझे बस एक बात का डर सताता है कि, कोई नशा न करे। इसके अलावा मैं मध्य प्रदेश में शंकर महादेवन अकादमी खोलने में आपका सहयोग करूँगा।

शिवराज सिंह चौहान, मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री

कार्यक्रम में सुनाई दी इन गानों की गूंज :

इस कार्यक्रम के दौरान 'शंकर-एहसान-लॉय' के कई गानों की गूंज सुनाई दी। शंकर महादेवन ने गणेश जी के गीत से शुरुआत करते हुए प्रीटी बुमन, काल हो न हो, दिल चाहता है, सजदा, नाम मस्त मगन, सबको भुला के नाच, मेरी मां, हेल्लो और उनका सबसे फेमस सोंग ब्रेथलेस पर प्रतुती दी। इन गानों की गूंज के बाद तो कार्यक्रम में शामिल हुआ हर एक व्यक्ति झूमता नज़र आया। इसके बाद उन्होंने देशभक्ति गीत 'सुनो गौर से दुनिया वालो गीत के साथ कार्यक्रम का समापन किया। इन कुछ घंटों में लाल परेड ग्राउंड में उपस्थित हर एक वर्ग का व्यक्ति झूमता नज़र आया। यह सभी गानें मिशन कश्मीर (2000), दिल चाहता है (2001), कल हो ना हो (2003), बंटी और बबली (2005), कभी अलविदा ना कहना (2006), डॉन- द चेस बिगिन्स अगेन (2006), तारे जमीं पर (2007), रॉक ऑन (2008), वेक अप सिड (2009), माय नेम इस खान (2010), कार्तिक कॉलिंग कार्तिक (2010), हाउसफुल (2010) और सूरमा (2018) फिल्मों के लिए उन्होंने गए थे।

मुख्यमंत्री ने बताई प्रदेश की उपलब्धियां :

बताते चलें, कार्यक्रम की शुरुआत में मध्यप्रदेश गान होने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनता को संबोधित करते हुए बीते सालों में प्रदेश द्वारा हासिल की गई उपलब्धियां गिनाई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने साथ ही नशे और मध्य प्रदेश गन को लेकर दो संकल्प लेने की भी बात कही। उन्होंने कहा कि, 'आज से हम मध्य प्रदेश गान का सम्मान भी राष्ट्रगान की तर्ज पर करेंगे, आज से हम मध्य प्रदेश गान को भी हम खड़े होकर सम्मान देने की परंपरा शुरू कर रहे हैं। आज से जब भी मप्र गान होगा, हम सभी खड़े होकर इसे सम्मान देंगे। सभी लोग इसका संकल्प लें। भाषण खत्म होने के बाद उन्होंने एक बार फिर माइक हाथ में लेते हुए एक संकल्प की बात की।' उन्होंने कहा, 'मैं एक संकल्प और करवाना चाहता हूं कि, यहां मौजूद सभी लोग स्वयं को और अपने गांव को नशे से दूर रखने का संकल्प लें।'

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co