Gwalior : 1 करोड़ की राशि से खरीदे जाएंगे 80 एसी, जेएएच के विभिन्न वार्ड में लगेंगे
जेएएच के विभिन्न वार्ड में लगेंगे एसीSocial Media

Gwalior : 1 करोड़ की राशि से खरीदे जाएंगे 80 एसी, जेएएच के विभिन्न वार्ड में लगेंगे

ग्वालियर, मध्यप्रदेश : एसी खरीदने के लिए चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने दिया बजट। बर्न यूनिट सहित अन्य वार्डों में भर्ती मरीजों को मिलेगी राहत।

ग्वालियर, मध्यप्रदेश। जयारोय अस्पताल व उससे जुड़े विभागों और वार्डों में अब नए एसी लगाए जायेंगे। एसी खरीदने के लिए चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने बजट और अनुमति दोनों ही दे दी हैं। वार्डों और विभागों में नए एसी लगने से मरीजों को राहत मिलेगी। खासकर बर्न यूनिट के मरीजों को।

जेएएच प्रबंधन की समस्या जल्द हल होने वाली है, क्योंकि जेएएच के अस्पतालों के साथ ही जीआरएमसी में नए एसी लगाने की परमिशन शासन से मिल चुकी है। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने नए एसी खरीदने के लिए 1 करोड़ रूपए की राशि स्वीकृत कर दी है। इस राशि से करीब 80 नए एसी पीडब्ल्यूडी के द्वारा खरीदकर लागये जाएंगे। अब देखना यह है कि यह नए एसी अस्पतालों में कब तक लग पाते हैं। जानकारी के मुताबिक जेएएच व जीआरएससी में एसी व कूलर मेंटेनेंस का काम पीडल्यूडी विभाग देखता है, लेकिन बजट के अभाव में यह कार्य लंबे समय से स्थिति खराब हो चुकी है।

मरीज घर से ला रहे पंखा :

अन्य वर्षों की स्थिति में इस साल शहर में अधिक गर्मी रही है। दूसरी ओर जेएएच के अस्पतालों में अधिकतर एसी खराब और कूलर बंद होने के कारण अस्पताल में भर्ती मरीजों को घर से पंखा-कूलर लाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। अस्पताल के वार्डों में आपको कई जगह मरीज घर के पंखे की हवा लेते हुए मिल जाएंगे।

अधीक्षक लिख चुके हैं पत्र :

बजट के अभाव जेएएच के अस्पताल की खराब स्थिति को लेकर जेएएच के अधीक्षक संभागायुक्त आशीष सक्सेना तक से गुहार लगा चुके हैं। उन्होंने हाल ही में संभागायुक्त को जो पत्र लिखा उसमें यह लिखा गया है चिकत्सालय में स्थापित कूलर, पंखे एवं एसी आदि के रख-रखाव एवं रिपेयरिंग कार्य के लिए लोक निर्माण विभाग को अधिकृत किया था। विभाग द्वारा कई वार्डों एवं विभागों का निरीक्षण किया गया। इसमें बर्न वार्ड, ऑपरेशन थ्रेटर, आईसीयू सहित अन्य स्थानों पर कूलर एवं एसी क्रय किएजाने का प्रस्ताव डीन ऑफिस भेजा गया था, लेकिन स्वीकृति नहीं मिली।

देखरेख के अभाव में हो जाते हैं कंडम :

अभी कुछ वर्ष पहले ही जयारोग्य सहित विभिन्न विभागों व वार्ड में नए एसी लगे थे। लेकिन समय पर मेटेनेंस व देखरेख के अभाव में वह कंडम हो गए। अस्पताल में एसी रिपेयरिंग का काम देखने वाले ने बताया कि अस्पताल के एसी 24 घंटे चलते हैं और दरवाजे भी खुले रहते हैं। इस वजह से वह जल्दी खराब हो जाते हैं।

इनका कहना :

नए एसी खरीदने की अनुमित व बजट मिल गया है। जल्द ही अस्पताल के विभिन्न विभागों व वार्डों में नए एसी लग जायेंगे। यह अनुमति चिकित्सा शिक्षा मंत्री मंत्री द्वारा दी गई है। करीब 1 करोड़ रूपए का बजट मिला है।

डॉ.अमित निरंजन, जनसम्पर्क अधिकारी, जीआर मेडिकल कॉलेज

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co