नाबालिग से रेप के मामले में आरोपी हुए गिरफ्तार
नाबालिग से रेप के मामले में आरोपी हुए गिरफ्तार|Shashikant Kushwaha
मध्य प्रदेश

सिंगरौली: नाबालिग से रेप के मामले में आरोपी हुए गिरफ्तार

सिंगरौली, मध्य प्रदेश: मामला मध्यप्रदेश की उर्जाधानी कही जाने वाली सिंगरौली के मोरवा थाना क्षेत्र का है जहाँ पर नाबालिग को दरिंदों की दरिंदगी का शिकार होना पड़ा। हालांकि आरपियों को गिरफ्तार कर लिया गया

Shashikant Kushwaha

सिंगरौली, मध्य प्रदेश। नाबालिग के साथ हुए रेप के मामले में जिले ने एक बार फिर मानवता को शर्मसार कर दिया। ये वाक्या मध्यप्रदेश की उर्जाधानी कही जाने वाली सिंगरौली के मोरवा थाना क्षेत्र का है, जहाँ पर नाबालिग को दरिंदों की दरिंदगी का शिकार होना पड़ा। हालांकि नाबालिग के साथ दुष्कर्म करने वाले दरिन्दों को मोरवा पुलिस ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया है।

क्या है मामला :

पीड़िता 23 जून को जब सिंगरौली बाजार से वापस अपने घर जा रही थी तभी चतरी चौराहे पर इंसान के भेष में छुपे 2 दरिन्दों ने नाबालिग के साथ दुष्कर्म किया। पीड़िता ने परिजनों के साथ मोरवा थाने में जाकर दरिन्दों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाते हुए न्याय की गुहार लगाई।

शिकायत प्राप्त होते ही हरकत में आई पुलिस :

बलात्कार की घटना में मोरवा थाना प्रभारी ने मामले को गम्भीरता से लेते हुए आरोपी के विरुद्ध अ. क्र. 278/20 धारा 376, 376 डी, 506 ता. हि. 5-जी 6 पॉक्सो एक्ट के तहत मामला पंजीबद्ध कर तत्काल अलग-अलग टीम बनाकर आरोपी संजय साकेत पिता सिंघलाल साकेत उम्र 24 वर्ष निवासी बछनार एंव विनोद साकेत पिता रामकिशुन साकेत उम्र 23 वर्ष निवासी बछनार को गिरफ्तार कर लिया।

बेटियाँ कब होंगी सुरक्षित :

नाबालिग के साथ बलात्कार करने वाले आरोपी को तो पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है पर बड़ा सवाल यह है कि आखिर कब तक इस तरह की परिस्थितियों में बेटियों को जीना पड़ेगा। सत्तादल का गढ़ कही जाने वाली सिंगरौली में घटित हुई घटना ने लॉक डाउन की खामोशी पर खलल डाल दिया है। जनप्रतिनिधियों की बात करें तो सिंगरौली जिले के जन प्रतिनिधियों की उदासीनता ही है संबंधित मामले में किसी नेता के स्वर बुलंद नही हो पाए। एक तरफ भाजपा का गढ़ व दूसरी तरफ राज्य के मुखिया बेटी बचाव बेटी पढ़ाओ का नारा एवम खुद को बच्चों का मामा बताने वाले नेता भी रेप जैसे मामलों को लेकर कोई ठोस पहल करते नजर नही आ रहे हैं। ऐसे में ये सवाल उठना भी लाजमी है कि आखिर बेटियाँ कब होंगी सुरक्षित?

बहरहाल मोरवा पुलिस की सक्रियता पर सवाल खड़े करना उचित नहीं होगा क्योंकि अधिकतर मामलों में पाया गया है कि जिले भर में ज्यादा व ताबड़तोड़ कार्यवाही करने में मोरवा थाना प्रभारी का विशेष नाम है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co