Raj Express
www.rajexpress.co
शिवपुरी ओवरलोड वाहन
शिवपुरी ओवरलोड वाहन|Mukesh Choudhary
मध्य प्रदेश

शिवपुरी: फर्राटे से दौड़ रहे ओवरलोड वाहन, नहीं है प्रशासन का खौफ

शिवपुरी: मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिलेे में लोगों को लाने ले जाने के लिये शहर के सवारी वाहन, आटो-रिक्‍शा नियमों को दरकिनार कर फर्राटे से ओवरलोड वाहन दौड़ा रहे हैं।

Mukesh Choudhary

राज एक्‍सप्रेस। मध्यप्रदेश का शिवपुरी जिला, जो शिव की नगरी व पर्यटन नगरी के नाम से विख्यात है। यहां के पर्यटक स्थल पर सार्वजनिक स्थल बस स्टैण्ड, रेल्वे स्टेशन आदि शहर से काफी दूरी पर है, साथ ही आसपास का क्षेत्र ग्रामीण अंचल के ग्रामों से लगा हुआ है। जहां का ग्रामवासी प्रतिदिन शिवपुरी में अपना व्यापार करने आता है और रोजी-रोटी चलाता है। इन सब स्थानों पर लोगों को लाने ले जाने के लिये शिवपुरी शहर के चलित सवारी वाहन, आटो-रिक्‍शा आदि चलाते हैं।

सवारियों से खचाखच भरी गाडियां :

परंतु गंतव्य स्थान की ओर जाने वाले इन सवारी वाहनों में कुछ सवारी वाहन ऐसे भी देखने को मिल जाते हैं, जिनकी गाडियां सवारियों से खचाखच भरी होकर ओवरलोड हो रही होती हैं। प्रभावशील व्यक्तित्व व प्रशासन से खौफ से परे ये सवारी वाहन 3 व 4 पहिया वाहन ओवरलोड होने के बाबजूद भी फर्राटे भरते हुये देखी जाती हैं, जिससे इनमें बैठी सवारियों को भी अपनी जानमाल की चिंता होने लगती है, इन वाहनों के चालकों को सवारियों की जानमाल का कोई अंतर महसूस नहीं होता।

शिवपुरी से आसपास के ग्राम करई, कोटा, भगोरा, सुरवाया, सिरसौद, सतनवाडा, बडोदी, सेसई, पडोरा, आदि स्थानों के लिये बसों का आवागमन भी होता है। परंतु आजकल के इस दौर में यात्रियों को बसों का इंतजार करना समझ नहीं आता, उन्हें तो समय की कीमत महसूस होती है और वे जो भी वाहन मौके पर मिला उससे चलना पसंद करते हैं, जिसके चलते मौके पर खडे़ 3 पहिया व 4 पहिया वाहन लगातार उपलब्ध हो जाते हैं।

अधिक सवारियों को गाड़ी में भरते हैं :

आलम यह होता है, इन गंतव्य स्थानों पर सवारियों को भरने वाले ये वाहन क्षमता से अधिक सवारियों को गाड़ी में भरते हैं। यहां तक कि, गाड़ी की छतों पर भी बैठाने से नहीं चूकते और जब गाड़ी ओवरलोड हो जाती है, तो फिर अगला नंबर जल्दी आने के फेर में तेज रफ्तार से गाड़ी को दौड़ाते हुये गंतव्य स्थान की ओर वाहन तेजी से चलाते देखे जाते हैं। इस समय ना तो इन्हें प्रशासन के चालाान का खौफ रहता है और ना ही सवारियों के जानमाल की परवाह। ये तो बस अपना उल्लू सीधा करते हुये गाड़ी में गियर लगाकर फर्राटा भरते हैं।

गुरूद्वारा चौराहा पर बत्ती सिग्रल का नहीं होता पालन :

शिवपुरी नगर के मध्य गुरूद्वारा चौराहे पर एक मात्र यातायात प्रबंधन व्यवस्था के तहत सिग्रल बत्ती चालू रहता है। परन्तु यदि चौराहे पर लगे सीसी कैमरों के फुटेज पर खंगाला जाये तो स्पष्ट हो सकता है कि यहां कितना पालन इस बत्ती सिग्रल का किया जाता है। कुछ समझदार लोगों को छोड़कर बाकी दो पहिया, तीन पहिया व चार पहिया वाहनों को अक्सर सिग्रल तोड़ते देखा जाता है। यहां खड़ा पुलिस ट्रेफिक मैन बीकानेर स्वीटस के पास महज अपना समय पास करते देखा जा सकता है। ना तो पुलिस द्वारा यातायात को कंट्रोल किया जाता है और ना ही सिग्रल तोड़ने वाले को रोका जाता है। इस चौराहे पर जो भी चलता है, वह सब कुछ अपनी मर्जी के मुताबिक यातायात नियमों के धता बताते हुये गाड़ियां दौड़ती दिखाई देती हैं।

कहीं भी हो जाती है पार्किंग :

शिवपुरी नगर में कुछ समय पूर्व यातायात व्यवस्था पर सख्ती बरतते हुये नगर की पार्किंग व्यवस्था को दुरूस्त करने का प्रयास किया गया था। परन्तु आज जब बारिश का दौर चल रहा है। सड़कों पर बड़े-बड़े गड्ढे हैं जिनमें पानी भरा हुआ है। तब ऐसे में सड़क किनारे अव्यवस्थित खड़े वाहनों के कारण आमजन व वाहनों का निकलना मुश्किल हो जाता है। हाल फिलहाल तो शहर में सड़क किनारे व सार्वजनिक स्थलों पर यातयात व्यवस्था प्रबंधन के पहरे पर प्रशासन का ध्यान ना होने से हालात अव्यवस्थित व बदहाल बने हुये हैं।

चौराहों पर खड़ी 100 डायल का नहीं दिखता खौंफ

शिवपुरी शहर में यातायात व्यवस्था एवं कानून के नियमों का पालन करने हेतु साथ ही अपराध के नियंत्रण हेतु जगह-जगह चौराहों पर 100 डायल की गाडिय़ां तो खड़ी देखी जाती है। परन्तु उनकी नजर न तो यातायात नियम तोड़ने वालों पर रहती है और न ही किसी संदिग्ध पर। इनके सामने से ही ओवर लोड दो पहिया, तीन पहिया वाहन फर्राटे भरते चले जाते हैं। परन्तु इन्हें रोकने टोकने वाला कोई नहीं होता। इससे नियमों का उल्लघंन करने वाले इन वाहन चालकों के हौसले बुंलद होकर वे आगे भी अपनी हरकतों को जारी रखते हैं। चौराहों पर खड़े इन पुलिस वाहनों के साथ तैनात पुलिसकर्मी यदि सुरक्षा को लेकर सख्ती व सावधानी रखें तो निश्चित तौर पर शहर में व्यवस्थित यातायात व सुरक्षा देखने को मिल सकती है।

यातायात प्रभारी रणवीर यादव का कहना है :

हम जल्द ही यातायात व्यवस्था में सुधार कर ऐसे वाहन चालकों के खिलाफ कार्यवाही करेंगे, जो ओवर लोड होकर वाहन चलाते है तथा जो शहर में यातायात नियमों का उल्लघंन करते है। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्र में बिना परमिट के चल रहे सवारी वाहनों पर जिला परिवहन कार्यालय द्वारा अंकुश लगाने की बात कही। वहीं पार्किंग व्यवस्था पर उन्होंने बताया कि यदि नगरपालिका प्रशासन हमारा साथ दें तो हम मिलकर शहर की पार्किंग व्यवस्था को पूरी तरह से दुरूस्त कर सकते हैं।

ऑटो चालक दिनभर सवारियों का इंतजार करते हैं एवं ऑटों चालकों को अपने खर्च पानी व्यवस्थापन हेतु कभी-कभी ओवर लोड भी करना पड़ता है। लेकिन यह गलत है। जो लोग ओवर लोड करते है और लापरवाही पूर्वक वाहन चलाते पाये जाते हैं। उन पर प्रशासन अपने स्तर से कार्यवाही कर सकता है।