कृषि मंत्री जोगीटिकरिया घाट में माँ नर्मदा की महा-आरती में हुए शामिल
कृषि मंत्री जोगीटिकरिया घाट में माँ नर्मदा की महा-आरती में हुए शामिलSocial Media

कृषि मंत्री जोगीटिकरिया घाट में माँ नर्मदा की महा-आरती में हुए शामिल

डिंडौरी, मध्य प्रदेश : प्रदेश के किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने बुधवार को डिंडौरी जिले के जोगीटिकरिया घाट पहुंचकर नर्मदा मैया के दर्शन किए।

भोपाल, मध्य प्रदेश। प्रदेश के किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने बुधवार को डिंडौरी जिले के जोगीटिकरिया घाट पहुंचकर नर्मदा मैया के दर्शन किए। वे नर्मदा मैया की महा-आरती में भी शामिल हुए। मंत्री श्री पटेल ओम्कारेश्वर से नर्मदा परिक्रमा प्रारंभ कर बुधवार को 6वें दिन जोगीटिकरिया घाट डिंडौरी पहुंचे। बुधवार को उनकी यात्रा का पढ़ाव अमरकंटक रहा।

मंत्री श्री पटेल ने मार्ग में किसानों से चर्चा करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्म-निर्भर भारत और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के संकल्प को पूरा करना है। उन्होंने कहा कि हमारा देश कृषि प्रधान है। किसानों की खुशहाली में ही राष्ट्र की खुशहाली है। मंत्री श्री पटेल ने कहा कि नर्मदा नदी का जोगीटिकरिया घाट भव्य एवं सुंदर है। जोगी टिकरिया घाट में नर्मदा जी के दर्शन, पूजा-अर्चना एवं श्रद्धालुओं के लिए समस्त सुविधाएं उपलब्ध हैं। नर्मदा मैया के दर्शन मात्र से हमारा जीवन धन्य हो जाता है। नर्मदा मैया के कंकर-कंकर में शंकर जी विराजमान हैं। मंत्री श्री पटेल ने कहा कि "नर्मदा नदी के परिक्रमा-पथ पर सांकेतिक बोर्ड लगाए जाएं, इससे नर्मदा मैया की परिक्रमा करने वाले श्रद्धालुओं को सुविधा होगी।" उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों को नर्मदा नदी के उत्तरी एवं दक्षिणी तट पर निर्धारित स्थान में सांकेतिक बोर्ड लगाने के लिए निर्देश दिए।

किसानों को समर्थन मूल्य दिलाने प्रदेश सरकार ने बढ़ाया बजट :

मंत्री श्री पटेल ने कहा कि किसानों को खुशहाल एवं समृद्ध बनाने के लिए ही केंद्र सरकार द्वारा नए कृषि कानून लाए गए हैं। इससे किसानों को उनकी फसलों का उचित मूल्य मिलेगा। प्रदेश सरकार की अधिकांश योजनाएं किसान केंद्रित हैं। उन्होंने कहा कि किसानों को खरीफ फसलों का समर्थन मूल्य दिलाने के लिए प्रदेश सरकार ने अपना बजट बढ़ाया है। मंत्री श्री पटेल ने कहा कि प्रदेश की मंडियों को स्मार्ट बनाया जाएगा। मंडियों में किसानों को सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी। मंडियों में स्टॉक करने की सीमा भी बढ़ाई जाएगी। उन्होंने कहा कि डिंडौरी जिले में कृषि एवं सिंचाई का रकबा बढ़ाया जाएगा। उन्होंने डिंडौरी जिले में किसानों द्वारा जैविक फसलें उगाई जाने पर प्रसन्नता व्यक्त की। श्री पटेल ने कहा कि डिंडौरी जिले की कोदो-कुटकी की फसल पूरे देश में प्रसिद्ध है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

AD
No stories found.
Raj Express
www.rajexpress.co