Raj Express
www.rajexpress.co
बाढ़ से प्रभावित हुए किसानों से मिलने पहुंचे कृषि मंत्री
बाढ़ से प्रभावित हुए किसानों से मिलने पहुंचे कृषि मंत्री|Nilesh Dhariwal
मध्य प्रदेश

बाढ़ प्रभावित किसानों से मिलने पहुंचे कृषि मंत्री

भीषण बारिश के कारण बाढ़ से कई मकान और किसानों की फसल को नुकसान हुआ, जिसका आंकलन करने कृषि मंत्री पहुंचे और उनकी समस्या सुनी।

Nilesh Dhariwal

हाइलाइट्स :

  • भीषण बारिश के चलते नदियों और तालाबों के उफान पर होने से गांव में बाढ़ की समस्या पैदा हो गई है

  • कई मकान और किसानों की फसल को नुकसान हुआ

  • बाढ़ से हुए नुकसान का आंकलन करने कृषि मंत्री जावरा पहुंचे

  • चौपाल लगाकर कृषि मंत्री ने ग्रामीणों की सुनी समस्या

  • कांग्रेस के दोनो गुटों में हुआ विवाद

  • सुखाने के लिए फैली उपज पर से गुजरा काफिला

राज एक्सप्रेस। रतलाम जिले में भीषण बारिश के चलते नदियों और तालाबों के उफान पर होने से गांवों में बाढ़ से कई मकान नष्ट हो गए, किसानों की खेत में खड़ी सोयाबीन की फसल खराब हो गई। बाढ़ से हुये नुकसान का आंकलन करने जिले के प्रभारी मंत्री तथा प्रदेश के कृषि मंत्री सचिन यादव बुधवार को सुबह जावरा पहुंचे। यहां से बाढ़ से प्रभावित हुए किसानों से मिलने पिपलिया जोधा, हनुमंतिया की और निकले। जहां प्रभारी मंत्री यादव ने चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्या सुनी, तो कहीं पैदल ही पूरा गांव घूमकर नुकसान का आंकलन किया। इस दौरान कांग्रेस नेता के.के. सिंह कालूखेड़ा तथा विधायक डॉ. राजेन्द्र पाण्डेय ने प्रभारी मंत्री यादव से क्षेत्र में हुई नुकसानी और फसलों का उचित मुआवजा दिलाने की मांग की। प्रभारी मंत्री के दौरे के दौरान जब कांग्रेस के ही दो गुट आपस में उलझे, तो प्रभारी मंत्री स्वयं ही कार चलाकर काफिले से अलग हो गए और निकल गए। जब मंत्री के निकलने की सूचना प्रशासनिक अधिकारियों को मिली तो, उनके पीछे-पीछे मंत्री कारकीट और प्रशासनिक अमला लगा। मंत्री गांव से जावरा सर्किंट हाऊस तक स्वयं ही अपना वाहन चलाकर लाए। इधर गांव में कांग्रेस और भाजपा के लोगों के बीच भी उलझन हुई।

बाढ़ से प्रभावित हुए किसानों से मिलने पहुंचे कृषि मंत्री
बाढ़ से प्रभावित हुए किसानों से मिलने पहुंचे कृषि मंत्री
Nilesh Dhariwal

बुधवार को सुबह करीब साढ़े 10 बजे जिले के प्रभारी मंत्री सचिन यादव जावरा सर्किंट हाऊस पहुंचे। जहां कांग्रेस नेता के. के. सिंह कालूखेड़ा के नेतृत्व में कांग्रेसजनों ने उनका स्वागत किया। यहां से प्रभारी मंत्री सीधे ग्राम पिपलिया जोधा पहुंचे। जहां मंत्री ने पैदल ही पूरे गांव का निरीक्षण किया, गांव में चौपाल लगाई और किसानों की समस्या सुनी।

कालूखेड़ा व पाण्डेय से मंत्री ने की चर्चा :

प्रभारी मंत्री यादव ने पिपलिया जोधा नई आबादी में भी अवलोकन किया। यहां से वे हनुमंतिया की और निकले जहां मंत्री ने निरीक्षण किया, इस दौरान विधायक डॉ राजेन्द्र पाण्डेय भी मौके पर पहुंचे और क्षतिग्रस्त हुए मकानों के साथ खराब फसलों का अवलोकन किया। यहां विधायक और कांग्रेस नेता कालूखेड़ा ने नुकसानी और फसलों के मुआवजे को लेकर चर्चा की, यहां विवाद होने के बाद मंत्री ने कालूखेड़ा और विधायक को अपने साथ कार में बैठाया और स्वयं कार चलाकर पिपलौदी पहुंचे। जहां प्रभावित फसलों और घरों का निरीक्षण किया।

बाढ़ से प्रभावित हुए किसानों से मिलने पहुंचे कृषि मंत्री
बाढ़ से प्रभावित हुए किसानों से मिलने पहुंचे कृषि मंत्री
Nilesh Dhariwal

कांग्रेस के दोनो गुटों में हुआ विवाद :

प्रभारी मंत्री का काफिला जब ग्राम हनुमंतिया पहुंचा, तो यहां कांग्रेस से मोहम्मद युसूफ कड़पा भी अपने समर्थकों के साथ पहुंचे तो कालूखेड़ा समर्थकों ने नारेबाजी करना शुरु कर दी। जिससे कांग्रेस के ही दोनो गुटों के बीच विवाद की स्थिति बनी। विवाद के दौरान प्रभारी मंत्री कारकीट काफी पीछे छूट गया था, तो मंत्री ने स्पॉट पर रखी एक कार ली और स्वयं ही चलाकर कांग्रेस नेता कालूखेड़ा और विधायक डॉ पाण्डेय को साथ लेकर पिपलौदी पहुंच गए।

सूखी उपज पर से गुजरा काफिला :

प्रभारी मंत्री का काफिला जब ग्राम पिपलिया जोधा पहुंचा, तो यहां गांव में बारिश से भीगे गेंहु ग्रामीणों ने सड़क पर सुखा रखे थे, जिस पर मंत्री का काफिला गुजरा, वहीं हनुमंतिया में भी अपनी लहसुन को सुखा रही महिला ने मंत्री को देखकर अपनी लहसुन को हटाना शुरु किया, लेकिन तब तक मंत्री जी का काफिला लहसुन के समीप तक पहुंच चुका था, हालांकि मंत्री जी ने यहां साईड से निकलकर फसल को बचा लिया।

कोई भी प्रभावित छूटे नहीं, सरकार किसानों के साथ :

पिपलौदी से स्वयं कार चलाकर जावरा पहुंचे प्रभारी मंत्री ने सर्किंट हाऊस पर पहुंचकर मीडिया से चर्चा की। मंत्री ने कहा कि, सभी अधिकारियों को सरकार ने स्पष्ट निर्देश दिए है कि, बाढ़ से एक भी प्रभावित छूटना नहीं चाहिए। हर व्यक्ति को हर संभव मदद करना है, प्रदेश में 100 करोड़ से अधिक की नुकसानी की भरपाई कर दी गई है, सर्वे के आधार पर जो भी रिपोर्ट आयेंगी सभी प्रभावितों को राहत दी जाएगी। संकट की इस घड़ी में सरकार किसानों के साथ है, बीमा कंपनी के लोगों को भी लगातार दिशा निर्देश दिए जा रहे हैं, जो भी बीमा कंपनी क्षेत्र में कार्यरत है, वे उनकी नुकसानी के लिए सीधे बीमा कंपनी के टोल फ्री नम्बर पर कॉल करें। यदि सुनवाई नहीं होती है, तो अपने क्षेत्र की सोसायटी पर जाकर लिखित शिकायत करें। विपरीत परिस्थितियों में भी सरकार अपना काम कर रही है। प्रभावितों की हर संभव मदद सरकार कर रही है। सर्वे के आधार पर अगले तीन से चार दिनों में सभी प्रभावितों को राशि उपलब्ध हो जाएगी।

सर्किंट हाऊस पर लगाया जनता दरबार :

पिपलौदी से जावरा सर्किट हाऊस पहुंचने के बाद प्रभारी मंत्री ने भोजन किया, भोजन के बाद सर्किट हाऊस पर ही बाहर जनता दरबार लगाया, जहां लोगों से विभिन्न समस्याओं संबंधी आवेदन लिए। वहीं किसानों से उनकी समस्याओं को लेकर चर्चा की, इस दौरान किसानों ने कर्ज माफी नहीं होने को लेकर शिकायत की, बड़ायला माताजी के किसान नेताओं ने आपातकालीन स्थिति में तहसीलदार के गांव में नहीं पहुंचने की शिकायत की और उसे तत्काल प्रभाव से हटाने की मांग की, वहीं एसडीएम एमएल आर्य से भी गांव में आने के लिए कहा।

विधायक ने नहीं बनाने दिया वीडियो :

प्रभारी मंत्री जब किसानों से चर्चा करने लगे तो आलोट विधायक और अन्य कांग्रेस नेताओं ने किसी भी कार्यकर्ता को वीडियो बनाने से मना कर दिया। ताकि किसानों की नाराजगी और मंत्रीजी के जवाब वायरल ना हो सकें। सर्किंट हाऊस पर प्रभारी मंत्री के साथ कांग्रेस नेता केके सिंह कालूखेड़ा, आलोट विधायक मनोज चांवला, जिलाध्यक्ष राजेश भरावा, महेन्द्र गोखरू, अशोक कोठारी, कलेक्टर रूचिका चौहान, एसपी गौरव तिवारी, एएसपी सुनील पाटीदार, एसडीएम एमएल आर्य, सीएसपी अगम जैन के साथ समूचा प्रशासनिक अमला मौजूद रहा।