भोपाल : ओपीडी में अव्यवस्थाओं के चलते आए दिन बन रही विवाद की स्थिति

भोपाल, मध्यप्रदेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान भोपाल में इलाज कराने आए मरीजों ने जमकर हंगामा किया, मरीजों के हंगामे का मूल कारण यहां लगने वाली लंबी-लंबी लाइनें हैं।
भोपाल : ओपीडी में अव्यवस्थाओं के चलते आए दिन बन रही विवाद की स्थिति
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान भोपालSocial Media

भोपाल, मध्यप्रदेश। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान भोपाल में सोमवार को इलाज कराने आए मरीजों ने जमकर हंगामा किया। मरीजों के हंगामे का मूल कारण यहां लगने वाली लंबी-लंबी लाइनें हैं। पहले टोकन के लिए लंबी लाइन, फिर काउंटर से ओपीडी पर्चा बनवाने के लिए लाइन, इसके बाद डॉक्टर के कक्ष के बाहर लंबी लाइन अंत में दवा जांच के लिए लाइन। इस पूरे चैनल में मरीजों को आधा दिन गुजर जाता है। इसलिए सोमवार को जब यहां पहुंचे मरीजों ने अव्यवस्था देखी तो एम्स प्रशासन के खिलाफ हंगामा शुरू कर दिया। पब्लिक को हंगामा करता देख वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने सभी को शांत कराया। मौके पर एम्स की पुलिस चौकी में उपस्थित पुलिसकर्मी भी वहां पहुंच गए।

गर्भवती और गंभीर मरीजों को जाता देख भड़के लोग :

एम्स में सोमवार को हंगामे का कारण यहां लोगों में अधूरी जानकारी थी। दरअसल में एम्स में ओपीडी के समय लोगों को अस्पताल भवन के बाहर लाइन में लगाया जा रहा है, जो कि शेड के नीचे खड़े होते हैं। नियमानुसार गर्भवती महिलाओं और इमरजेंसी मरीजों को लाइन में नहीं रोका जा सकता, उन्हें सीधे अस्पताल में जाने की इजाजत है। इसलिए जब ऐसे मरीज सीधे अस्पताल में अंदर जा रहे थे तो दूसरे मरीजों को यह बात नागवार गुजरी और उन्होंने हंगामा खड़ा कर दिया।

डॉक्टर देख रहे कम मरीज, इससे बढ़ी परेशानी 

एम्स में इलाज कराने पहुंचे कटारा हिल्स निवासी चरण ने बताया कि इन दिनों एम्स में 50 प्रतिशत ओपीडी चल रही हैं। सीमित संख्या में टोकन दिए जा रहे हैं और सीमित सेवाएं चालू हैं। जबकि मरीजों की संख्या दिनों दिन बढ़ती जा रही है। इसके बाद ओपीडी में बैठने वाले डॉक्टर 12 बजे अपने केबिन से उठ जाते हैं, कई मरीज ऐसे हैं जो बीते तीन चार दिन से आ रहे हैं, लेकिन डॉक्टर से नहीं मिल पा रहे। इसलिए सोमवार को हंगामा खड़ा हो गया।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co