नियंत्रण की सारी तैयारी, फिर भी प्रदेश में डेंगू का कहर जारी
नियंत्रण की सारी तैयारी, फिर भी प्रदेश में डेंगू का कहर जारीSyed Dabeer Hussain - RE

नियंत्रण की सारी तैयारी, फिर भी प्रदेश में डेंगू का कहर जारी

भोपाल, मध्यप्रदेश : केंद्र सरकार द्वारा मप्र को भेजी गई 13 लाख 56 हजार 300 मच्छरदानियां प्रदेश के विभिन्न जिलों में रहने वाले लोगों को बांटी गई, फिर भी प्रदेश में डेंगू का कहर जारी।

हाइलाइट्स :

  • केंद्र से भेजी गई साढ़े 13 लाख से ज्यादा मच्छरदानियां बांटी

  • 70.19 लाख लार्वाभक्षी मछलियां खरीद कर पानी में छोड़ी

  • मलेरिया माह जून में कीटनाशक दवा का छिड़काव भी हुआ

  • 2020 में मिले थे 806 मामले, 2021 में अब तक 950 से अधिक

  • मप्र मच्छर जनित रोग डेंगू के फैलने की गति डराने वाली हुई

भोपाल, मध्यप्रदेश। केंद्र सरकार द्वारा मप्र को भेजी गई 13 लाख 56 हजार 300 मच्छरदानियां प्रदेश के विभिन्न जिलों में रहने वाले लोगों को बांटी गई है। वहीं 70.19 लार्वाभक्षी गम्बूसिया और गप्पी मछलियां खरीद कर पानी में छोड़ा गया। जून माह में मलेरिया माह मानते हुए कीटनाशी दवा का भी छिड़काव हुआ, फिर भी प्रदेश में डेंगू कहर बरपा रहा है। जबकि मच्छर जानित रोगों को नियंत्रित करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने कई तरह के इंतजाम किए हैं, इसके बाद भी डेंगू के मरीज मिल रहे हैं।

स्वास्थ्य विभाग के ही अनुसार साल 2020-21 में केंद्र सरकार ने मप्र को 13 लाख 56 हजार, 300 मच्छरदानियां बांटने के लिए भेजी थी। कीटनाशी युक्त इन मच्छरदानियों को उन इलाकों के लोगों को बांटना तय किया गया था जहां डेंगू, मलेरिया या मच्छर जनित रोग का अधिक प्रकोप होता है। स्वास्थ्य विभाग ने मलेरिया विभाग के माध्यम से मच्छरदनियां बांटने की रिपोर्ट भी प्रस्तुत कर दी। इसी तरह 70.19 लाख लार्वाभक्षी गम्बूसिया और गप्पी मछलियां को मत्स्य विभाग या अन्य एजेंसियों से खरीद कर पानी में छोड़ा गया और अल्फासाइपटमिथ्रिन, डीटीटी कीटनाशाक दवा का छिड़काव घरों में किया गया है। इस सब के बाद भी मप्र में इस साल डेंगू का खतरा तेजी से बढ़ रहा है, अब प्रदेश के अलग-अलग शहरों में 950 से भी अधिक मामले आ चुके हैं और अस्पतालों में बुखार के मरीज भी काफी तदाद में इलाज के लिए पहुंच रही है। जहां कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर को स्वास्थ्य विभाग सतर्कता बनाए हुए है, वहीं डेंगू, चिकनगुनिया और स्वाई फ्लू को लेकर लपरवाह है। डेंगू को लेकर अब तक प्रदेश में कोई अभियान शुरू नहीं किया गया है। वहीं साल 2020 में प्रदेश में जापानीज़ इन्सिफेलाईटिस के कुल 11 मामले पाए गए थे।

डेंगू के अब तक आए मामले :

इंदौर में - 73 , भोपाल -80, जबलपुर -179, ग्वलियर -25, सागर -20 , रीवा -18 , धार -26 मंदसौर -318 , रतलाम -200, आगर मालवा -102, छिंदवाड़ा -62 और नीमच में 30 सहित प्रदेश के अन्य जिलों में अब तक कुल 950 से अधिक डेंगू के मरीजों की पुष्टि हुई है। वहीं खरगौन, भोपाल, धार, आगर मालवा में पीड़ित मरीजों की मौत हो गई हैं। भोपाल में स्वाइन फ्लू से एक व्यक्ति की मौत हुई है। अब तक चिकनगुनिया के प्रकरण की पृष्टि नहीं की गई है।

मप्र में डेंगू की स्थिति :

  • वर्ष 2016 में 3340 पॉजिटिव मिले

  • वर्ष 2017 में 2666 पॉजिटिव मिले

  • वर्ष 2018 में 4997 पॉजिटिव मिले

  • वर्ष 2019 में 4120 पॉजिटिव मिले

  • वर्ष 2020 में 806 पॉजिटिव मिले

  • वर्ष 2021 में 950 पॉजिटिव मिले अभी तक

चिकनगुनिया की स्थिति :

  • वर्ष 2016 में 932 पॉजिटिव केसेस मिले

  • वर्ष 2017 में 858 पॉजिटिव केसेस मिले

  • वर्ष 2018 में 1616 पॉजिटिव केसेस मिले

  • वर्ष 2019 में 802 पॉजिटिव केसेस मिले

  • वर्ष 2020 में 806 पॉजिटिव केसेस मिले

  • वर्ष 2021 में 00 केसेस मिले

मलेरिया की स्थिति :

  • वर्ष 2016 में 68,539 मरीज मिले 03 मौतें हुई

  • वर्ष 2017 में 47, 541 मरीज मिले 05 मौतें हुई

  • वर्ष 2018 में 22, 279 मरीज मिले 01 मौत हुई

  • वर्ष 2019 में 14,147 मरीज मिले 03 मौतें हुई

  • वर्ष 2020 में 6,760 मरीज मिले 00 मौत हुई

मच्छर लार्वा मिलने 500 रुपए जुर्माने का प्रावधान :

मच्छर जनित विभिन्न रोगों पर नियंत्रण के लिए मप्र नगर पालिका अधिनियम 1961 और नगर पंचायत की उपविधियां 1999 के अंतर्गत किसी भी घर, दुकान, कार्यालय में मच्छर का लार्वा मिलने पर उस जगह के मालिक पर 500 रुपए जुर्माना करने का प्रावधान है। इस प्रावधान के तहत अब किसी से भी जुर्माना वसूल नहीं किया गया है। जुर्माने की जानकारी नहीं होने से लोग मच्छर के लार्वा के पनपने के कारणों को नजरअंदाज कर रहे हैं। हालांकि जबलपुर में नगर निगम ने 200 रुपए जुर्माना वसूल किया है।

इनका कहना है :

डेंगू सहित अन्य मच्छरजनित रोग के नियत्रंण के लिए स्वास्थ्य विभाग ने पर्यात उपाय किए हैं। इस समय लगातार हर स्थिति पर नजर रखी जा रही है। मलेरिया विभाग मच्छरदानियां बांटने का कार्य कर रहा है।

आकाश त्रिपाठी, अयुक्त, स्वास्थ्य विभाग मप्र

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co