दमोह में गुस्साए पिता ने कुल्हाड़ी से काटा बेटे का हाथ
दमोह में गुस्साए पिता ने कुल्हाड़ी से काटा बेटे का हाथSocial Media

दमोह में गुस्साए पिता ने कुल्हाड़ी से काटा बेटे का हाथ, फिर कटा हाथ लेकर पहुंचा थाने

दमोह, मध्य प्रदेश। दमोह जिले में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है, यहां एक पिता ने अपने ही बेटे पर कुल्हाड़ी से हमला कर दिया, जिससे उसकी मौत हो गई।

दमोह, मध्य प्रदेश। एमपी में अपराध की घटनाओं का ग्राफ बढ़ता ही जा रहा है। अब दमोह जिले में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है, यहां एक पिता ने अपने ही बेटे पर कुल्हाड़ी से हमला कर दिया, जिससे उसकी मौत हो गई। इस मामले में पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।

पिता ने कुल्हाड़ी से काटा बेटे का हाथ :

ये घटना मध्यप्रदेश के दमोह की है, मध्यप्रदेश के दमोह जिले के पथरिया थाना क्षेत्र के जेरठ चौकी के ग्राम बोबई में मोटर साइकिल की चाबी ना देने पर पिता और छोटे भाई ने मिलकर बड़े भाई का बाया हाथ कुल्हाड़ी से काटकर अलग कर दिया। गंभीर रूप से घायल बेटे ने जबलपुर ले जाते समय रास्ते में दमतोड़ दिया।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने बताया-

गांव बोबई में मोती पटेल के बेटे संतोष पटेल के पास मोटर साइकिल थी, जिसे उसके पिता मोती पटेल और छोटा भाई राम किशन कल शाम कहीं जाने के लिए संतोष से मांग रहे थे। संतोष ने बाइक देने से इंकार कर दिया। इस बात को लेकर पिता मोती और रामकिशन ने मिलकर संतोष पर हमला बोल दिया। विवाद के बीच पिता मोती ने संतोष का बायां हाथ लकड़ी के पट्टे पर रखा और उसे कुल्हाड़ी से काटकर अलग कर दिया।

कटा हाथ देखकर पुलिसवाले चौंके-

इस क्रूरता के बाद पिता मौके से भागा नहीं बल्कि कुल्हाड़ी कंधे पर रखकर और हाथ में कटा हुआ हाथ लेकर पुलिस चौकी पहुंचा। जैसे ही पुलिस ने मोती के हाथ में कटा हुआ हाथ देखा तो स्टाफ भी दंग रह गया। तुरंत पुलिस ने उसे पकड़ लिया। संतोष की पत्नी ने पुलिस को बताया- उसने बचाव का प्रयास किया, लेकिन ससुर और देवर ने उसे धक्का देकर अलग कर दिया, ससुर हाथ काटने के बाद उसे अपने साथ लेकर गए और नदी में फेंकने जा रहे थे। लेकिन बाद में पुलिस चौकी लेकर चले गए।

बता दें, पुलिस द्वारा तत्काल ही गंभीर रूप से घायल संतोष को पथरिया के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में लाया गया। वहां पर डॉक्टर ने उसके हाथ के बारे में जानकारी ली तो पुलिस ने बताया कि कटा हुआ हाथ चौकी में रखा है। इस पर डॉक्टर ने उस हाथ को बुलवाया, लेकिन इस बीच अधिक समय हो गया था। इस कारण से उसे जोड़ने में असंभव महसूस हो रहा था, जिससे संतोष को दमोह के जिला अस्पताल रेफर किया गया। जहां से उसकी हालत गंभीर होने पर उसे जबलपुर रेफर किया गया। लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गयी। पुलिस द्वारा हत्या के आरोप में पिता मोती एवं भाई राम किशन को गिरफ्तार कर लिया है।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.
| Raj Express | Top Hindi News, Trending, Latest Viral News, Breaking News
www.rajexpress.co