नाबालिक के साथ होमगार्ड ने की अभद्रता
नाबालिक के साथ होमगार्ड ने की अभद्रता|Shrisitaram Patel
मध्य प्रदेश

अनूपपुर : नाबालिग के साथ होमगार्ड ने की अभद्रता

अनूपपुर, मध्य प्रदेश : धमकी के साये में शिकायत करने आये पीड़ित परिवार मुख्यालय से लौटे। समाज का डर और अशिक्षा के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी है अंधविश्वास।

Shrisitaram Patel

अनूपपुर, मध्य प्रदेश। 28 जुलाई को आदिवासी अंचल पुष्पराजगढ़ में जो घटना घटी वह किसी भी समाज के लिए बेहतर संदेश नहीं है, नाबालिग लड़की के साथ होमगार्ड का जवान अभद्रता करता है, परिजन दूसरे दिन मुख्यालय शिकायत करने पहुंचते हैं, पत्र हाथ में रख कप्तान के कार्यालय में पहुंचने से पहले वापस आ जाते हैं और उस बालिका को न्याय नहीं मिल पाता है, फोन की धमकी या समाज का डर परिजनों में ऐसा समाया कि सीधे लौटकर अपने घर ही चले गये और मामला वहीं दफन हो गया।

थाना राजेन्द्रग्राम अंतर्गत ग्राम धोपाटोला निवासी चेतराम सिंह पिता कोदू सिंह की 14 वर्षीय पुत्री के साथ अनूपपुर होमगार्ड में पदस्थ होमगार्ड अखिलेश कनौजिया के द्वारा अभद्रता की शिकायत करने गांव से चलकर मुख्यालय तक पहुंचे थे, जहां बालिका के परिजनों ने शिकायत पत्र लिखकर पुलिस अधीक्षक कार्यालय जा रहे थे, तभी अचानक उनका मन बदल जाता है और समाज की दुहाई के साथ डर भरे लहजे से शिकायत न करने की बात कहते हुए वापस घर को लौट गये। शिकायत पत्र हाथ में लेकर पुलिस अधीक्षक कार्यालय के बाहर खड़े होने के बाद ऐसा क्या होता है या फिर किनका फोन उनके मोबाइल पर आ जाता है, जिससे पीड़ित परिवार इतना डर गया कि अपनी नाबालिग बच्ची के लिए न्याय भी नहीं मांग सका।

परिजनों में समाया समाज का डर :

चेतराम ने संवादातदा को बताया कि अगर हम शिकायत करते हैं तो हमें समाज से बाहर कर दिया जायेगा, इसलिए अब हमारा मन शिकायत करने का नहीं है, इतना ही नही चेतराम जिस हिसाब से 50 किलोमीटर दूर चलकर मुख्यालय पहुंचा था और शिकायत पत्र लिखकर अपनी पीड़ा पुलिस अधीक्षक को बताने जा ही रहा था कि कार्यालय के पहले ऐसा कौन से डर उनके मन में समा जाता है जो उसको वापस कर देता है।

पुष्पराजगढ़ का ही है होमगार्ड :

अनूपपुर में पदस्थ होमगार्ड अखिलेश कनौजिया जो कि ग्राम कोहका जनपद पुष्पराजगढ़ का निवासी है और अनूपपुर होमगार्ड में पदस्थ है, अखिलेश वर्दी में 28 जुलाई को पुष्पराजगढ़ के तिवारीटोला रास्ते में गया हुआ था, जहां नाबालिग बच्ची को रास्ते से बहला फुसला कर अपनी मोटर सायकल में बैठाया था। सत्र बताते हैं कि अखिलेश हल्का लंगड़ा कर चलता है और उसके कार्य भी हमेशा विवादित रहे है, कई सिम का प्रयोग करता है व शराब के नशे में अक्सर दिखाई देता है।

यह घटी घटना :

चेतराम सिंह पिता कोद सिंह निवासी धोपाटोला थाना राजेन्द्र ग्राम ने बताया कि मेरी 14 वर्षीय पुत्री जो कि मीडिल स्कूल तिवारीटोला में कक्षा-7वीं में पढ़ती है, मंगलवार 28 जुलाई को सुबह विद्यालय में पुस्तक लेने पैदल गई थी, स्कूल से जब लगभग 11 बजे वापस आ रही थी, तो स्कूल के कुछ ही दूरी में सड़क पर एक युवक पुलिस की वर्दी में खड़ा हुआ था, जब वहां पर बेटी पहुंची तो उसने कहा पैदल जा रही हो आओं मै उधर ही जा रहा हूं घर छोड दूंगा, जब बच्ची नही बैठी तो अपने मोटर सायकल में बहलाकर बैठाने लगा और बोला की बैठो मैं घर छोड़ दूंगा, जिसके बाद बच्ची बैठ जाती है।

20 किलोमीटर नही रोका बाईक :

लगभग 20 किलोमीटर दूर मेढाखार तक मोटर होमगार्ड अखिलेश कनौनिया सांयकल को रोका ही नहीं, जब अचानक पानी गिरने लगा तो उसने मोटर सायकल खडी कर दी, जानकारी के अनुसार मेढाखार में अखिलेश के रिस्तेदार रहते है, जहां उसने बारिश के दौरान गाड़ी रोगी थी, वहां से बच्ची भाग कर गांव की तरह चली गई, जिसके बाद गांव वालों ने बच्ची की सहायता की, परिजनों को जानकारी लगी है कि वह युवक अखिलेश कनौजिया है जो कोहका पुष्पराजगढ़ का निवासी है और पुलिस विभाग के होम गार्ड में है।

आखिर किसने उन्हे डरा दिया :

50 किलोमीटर दूर अपनी बच्ची को लेकर मुख्यालय तक शिकायत करने पहुंचे चेतराम को आखिर किसने फोन में क्या बोल दिया कि शिकायत पत्र को वापस ही ले गया, समाज के वो कौन से लोग होंगे जो नाबालिग बच्ची के साथ हुए अभद्रता को भी बर्दाश्त कर गये, इतना ही नहीं जब चेतराम घर पहुंचा तो वहां कुछेक पत्रकार भी पहुंचे जो ज्ञान स्वरूप उन्हे समझाईश देने लगे कि जब हम कहेंगे तभी शिकायत करना अन्यथा न करना, एकाध दिन रूक जाओं, जबकि वीडियों के माध्मय से उनकी बाइट ले ली गई, ऐसे लोग भी समाज में है तो चंद फायदे के लिए नाबालिक बच्ची को भी न्याय नही दिला सकते।

तो कौन करेगा पड़ताल :

इस पूरे घटनाक्रम को देखकर ऐसा लगता है कि जब तक परिजन शिकायत नहीं करेंगे तब तक न तो ये समाज कुछ करेगा और न ही किसी को इतनी फुरसत है कि इस पर विचार भी किया जायेगा, न जाने ऐसे कितने मामले होंगे जो रास्ते में ही दफन हो जाते होंगे, जिस तरह से चेतराम के साथ हुआ है वह डर किसने दिया और समाज की ढोंग का ठोकर किसने मारा यह तो वही जानेगा, लेकिन यह कृत्य अगर दफन हो जाती है तो आगे का घटनाक्रम समाज के लिए कौन सा संदेश देकर जायेगा यह विचारणीय प्रश्न है।

इनका कहना है :

हमारे पास ऐसी कोई शिकायत नही पहुंची है, अगर शिकायत आयेगी तो जांच कार्यवही अवश्य की जायेगी, होमगार्ड अखिलेश के विषय में काफी शिकायतें आती रहती हैं, उनकी कार्यप्रणाली सही नहीं रही है, लेकिन जब तक शिकायत न आ जाये तब तक कुछ कहना उचित नहीं होता।

बी.एम. मिश्रा. प्लाटून कमांडर, होमागार्ड अनूपपुर

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Raj Express
www.rajexpress.co