Anuppur : किरर घाट जल्द नहीं हुआ प्रारंभ तो होगा आंदोलन
किरर घाट जल्द नहीं हुआ प्रारंभ तो होगा आंदोलनRaj Express

Anuppur : किरर घाट जल्द नहीं हुआ प्रारंभ तो होगा आंदोलन

अनूपपुर, मध्यप्रदेश : आवागमन का मुख्य मार्ग रीवा-अमरकंटक पर किरर घाट में बारिश के कारण भुस्खलन से टूटे सड़क को बनाने में कई महीने लग रहे हैं।

हाइलाइट्स :

  • मंथर गति से हो रहा निर्माण, तीन महीने से ठप्प है रीवा-अमरकंटक मार्ग।

  • राजस्व की क्षति के साथ कारोबारियों के लाखों रूपए का नुकसान।

  • धीमी गति के साथ गुणवत्ताविहीन निर्माण कार्य कर रहा ठेकेदार।

Summary

आवागमन का मुख्य मार्ग रीवा-अमरकंटक पर किरर घाट में बारिश के कारण भूस्खलन से टूटे सड़क को बनाने में कई महीने लग रहे हैं, मंथर गति से चल रहे मरम्मत कार्य के कारण सर्वजन का गुस्सा अब आंदोलन का रूप धारण करने वाली है, शासन-प्रशासन द्वारा ठेके पर देकर कर्तव्यों से तो छुटकारा पा लिया गया, लेकिन आम व खास इस कार्यगति से परेशान हो चुका है और अब लगातार प्रशासन को चेतवानी दे रहे हैं।

अनूपपुर, मध्यप्रदेश। जनपद पुष्पराजगढ़ व पवित्र नगरी अमरकंटक सहित अन्य जिलों तक पहुंचने का एक मात्र मुख्य सड़क रीवा-अमरकंटक कई मार्गो को जोड़ते हुए लोगों के लिए आवागमन का साधन है। हजारो यात्रियों के साथ कई राज्यों के श्रद्धालुओं का इस मार्ग से आना-जाना प्रतिदिन लगा रहता है, कारोबारियों के साथ ही सब्जी व्यापारी व अन्य वस्तुओं का आवागमन के लिए यही एक सुचारू मार्ग है। बरसात में भारी बारिश के कारण भूस्खलन होने से सड़क टूट गई थी, लेकिन प्रशासनिक उदासीनता व ठेकेदार की कार्यगति को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह पूर्ण होने में कई महीनों का समय लेगा। जिसके कारण अब लोगों के द्वारा नाराजगी जाहिर करते हुए ज्ञापन व आंदोलन की ओर मुखर हो रहे हैं।

धरना प्रदर्शन कर एसडीएम को सौंपा ज्ञापन :

रीवा अमरकंटक मुख्य मार्ग पर स्थित किरर घाट जो विगत तीन माह से भू स्खलन के कारण वाहनों का आवागमन पूरी तरह से बंद पड़ा हुआ है इन ज्वलंत मुद्दों को लेकर आज जनता मजदूर यूनियन के बैनर तले चचन्डीह बाक्साइड खदान के सैकड़ों मजदूर जनपद ग्राउंड में तंबू लगाकर धरना प्रदर्शन कर प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए रैली निकालकर प्रदर्शन करते हुए अनुविभागीय अधिकारी राजस्व अभिषेक चौधरी के समक्ष अपनी बात रखी।

कछुए की चाल से भी धीमी निर्माण :

रखते हुए बताया कि विगत तीन माह से क्षतिग्रस्त किरर घाट की ओर शासन प्रशासन द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है कछुए की चाल में धीमी गति से चल रहे घाट निर्माण का कोई माई बाप नहीं है ठेकेदार द्वारा अपनी मनमानी कर आमजन की गंभीर समस्याओं को दरकिनार कर चंद लेवर मजदूरों से कार्य कराकर लीपापोती की जा रही है जिससे नाराज होकर पुष्पराजगढ़ ग्राम गडीदादर में स्थापित चचान्डीह बाक्साइड खदान जो मध्यप्रदेश स्टेट माइनिंग व कटनी बाक्साइड के संयुक्त तत्वाधान में संचालित है इसका उत्पादित माल अनूपपुर साइडिंग तक नही पहुँच पा रहा है खदान से बाक्साइड परिवहन न होने कारण वर्षो से कार्यरत सैकड़ों आदिवासी श्रमिकों को कार्य नहीं करने दिया जा रहा है जिससे मजदूरों के सामने रोजीरोटी के लाले पड़ गये हैं।

एक माह पूर्ण नही तो आमरण अनशन :

उक्त धरना प्रदर्शन कर रहे जनता मजदूर संघ के प्रांतीय सचिव विनय सिंह एचएमएस के वरिष्ठ नेता किशोरी मोहन सिंह रामदयाल शर्मा असलम खान भजन सिंह परस्ते सहित सैकड़ों मजदूर उपस्थित होकर एसडीएम पुष्पराजगढ़ को ज्ञापन सौंपकर मांग की गई की क्षतिग्रस्त किरर घाट के कार्य में तेजी लाकर एक माह के भीतर कार्य पूर्ण कर रीवा अमरकंटक मार्ग पुन: चालू कराया जाये जिससे भूख के अभाव में जी रहे मजदूरों को मजदूरी मिल सके अन्यथा हम सब मजदूर जनता मजदूर संघ के साथ एकजुट होकर आमरण अनशन करने के लिऐ मजबूर होंगे जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।

कांग्रेस कार्यवाहक अध्यक्ष भी दे चुके हैं चेतवानी :

जिला कांग्रेस कमेटी के कार्यवाहन अध्यक्ष संतोष पांडेय के द्वारा बीते माहों में किरर घाट की कार्य प्रगति को लेकर नाराजगी व्यक्त करते हुए प्रशासन को आंदोलन की चेतवानी दे चुके हैं, गौरतलब हो कि यह मार्ग बहुत ही उपयोगी है, जबकि इसके पहले भी ऐसा हुआ था, लेकिन महज एक सप्ताह में सड़क पूर्णत: शुरू कर दिया गया था, लेकिन इस बार तीन महीने बीत जाने के बाद भी शुरू नहीं किया जा सका है, जिसके कारण आम व खास में नाराजगी देखी जा रही है।

इनका कहना है :

मजदूर संघ द्वारा किरर घाट चालू कराने के संबंध में ज्ञापन सौंपा गया है मैं संबंधित विभाग को तत्काल निर्देशित करता हूं कि कार्य में तेजी लाकर अतिशीघ्र कार्य पूर्ण कराया जाये।

अभिषेक चौधरी, एसडीएम, पुष्पराजगढ़

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

No stories found.