प्रोफेसर ने की ईश्वर के प्रति अमर्यादित पोस्ट, सोशल मीडिया पर विरोध
प्रोफेसर ने की ईश्वर के प्रति अमर्यादित पोस्टSocial Media

प्रोफेसर ने की ईश्वर के प्रति अमर्यादित पोस्ट, सोशल मीडिया पर विरोध

अनूपपुर, मध्यप्रदेश: इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय अमरकंटक के प्रोफेसर के द्वारा सोशल मीडिया के फेसबुक पेज पर ईश्वर के प्रति अभद्र टिप्पणी की गई।

अनूपपुर, मध्यप्रदेश। वैश्विक महामारी कोरोना संकट काल के बीच इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय अमरकंटक के सामाजिक विज्ञान संकाय में बतौर प्रोफेसर पदस्थ राकेश सिंह के द्वारा सोशल मीडिया के फेसबुक पेज पर ईश्वर के प्रति अभद्र टिप्पणी करते हुए शनिवार को पोस्ट किया गया था, जिसको लेकर लोगों ने कमेंट के माध्यम से विरोध करना शुरू कर दिया था, फिर बाद में प्रोफेसर ने पोस्ट को डिलीट करते हुए द्वितीय पोस्ट के माध्यम से खेद प्रकट किया था।

प्रोफेसर का भटकाव

हजारों विद्यार्थियों के भाग्य का निर्माण करने वाले भाग्यविधाता शनिवार को कुछ इस तरह मानसिक रूप से भटक गए की ईश्वर को ही सारे जमाने का दोषी ठहरा दिया, हद तो तब हो गई जब प्रोफेशर राकेश सिंह ने शब्दों की गरिमा को गिराते हुए इतने नीचे चले गए की करोड़ों लोगों के आस्था का भी ध्यान नहीं रखा, ऐसे गुणवान और ज्ञानवान प्रोफेसर को विश्वविद्यालय का विकास और बागडोर दे दिया गया है, जो अपनी समस्याओं का दोषी ईश्वर को माने और जमाने की आस्था को ठोकर मार दें।

प्रोफेसर की अमर्यादित पोस्ट वायरल
प्रोफेसर की अमर्यादित पोस्ट वायरलRaj Express

फिर चला शिकायत का दौर

ईश्वर पर आस्था रखने वाले सैकड़ों लोगों ने सोशल मीडिया पर विरोध जताया, इतना ही नहीं ईश्वर के अनुयाईयों ने इस पोस्ट को लेकर शिकायत भी करने की तैयारी में थे, दर्जनों भक्तों ने कमेंट के माध्यम से प्रोफेसर राकेश सिंह को जवाब स्वरूप कड़े शब्दों का भी चयन किया, तो किसी ने ऐसे प्रोफेसर को विश्वविद्यालय से हटाने की मांग भी की।

फिर मांगी ऑनलाईन माफी

प्रोफेसर राकेश सिंह के द्वारा ईश्वर के प्रति किए गए शब्दों का प्रयोग हम अखबार में नहीं लिख सकते हैं, लेकिन समय रहते प्रोफेसर को अहसास हुआ कि यह गलत है, तो उन्होंने दूसरे पोस्ट में माफी मांगते हुए लिखा कि ''मैंने कल फेसबुक वाल पर एक पोस्ट लिखा था। लिखते समय मेरे उपर विगत दिनो विश्वविद्यालय में घटित सहियोगियों के एक के बाद एक लगातार घटित असमायिक अवसानों का गहन अवसादत्मक प्रभाव था। किन्तु, कुछ ही समय बाद मुझे अहसास हुआ कि इन घटनाओं के लिए ईश्वर या अन्य किसी को आधिभौतिक सत्ता को दोष देना गलत है। तत्काल मैने अपनी पोस्ट को तत्काल हटा लिया। मेरा उद्देश्य किसी के भावना को आहत करना नहीं था, मेरी अभिव्यक्ति तात्कालिक मानसिक पीड़ा का परिणाम थी। फिर भी यदि इससे किसी की भावना को चोट पहुंची है तो खेद है।

प्रोफेसर पर दर्ज हुई एफआईआर

धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुचाने वाले व हिन्दू धर्म विरोधी पोस्ट पर अमरकंटक थाने में शांति कुटी के महंत श्री रामभूषण दास, स्वामी लवलीन जी महाराज, स्वामी चैतन्य, अभिषेक द्विवेदी, रोशन पनारिया, प्रकाश द्विवेदी, राधेरमन परिहार, अंकित साहू व दिनेश साहू ने शिकायत करते हुए कड़ी कार्यवाही की मांग की है, जिस पर पुलिस ने प्रोफेसर राकेश सिंह के ऊपर धारा 153-ए, 505(2), 295-ए के तहत मामले को कायम कर विवेचना में लिया गया है। वहीं बजरंग दल के द्वारा थाना प्रभारी को शिकायत पत्र सौंपते हुए 7 दिवस के अंदर कार्यवाही की मांग की है, उन्होंने यह भी लिखा कि अगर कार्यवाही नहीं की गई तो विश्वविद्यालय के सामने धरना प्रदर्शन किया जाएगा, जिसकी जवाबदारी प्रशासन एवं विश्वविद्यालय प्रबंधन की होगी।

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

No stories found.
Top Hindi News Bhopal,Trending, Latest viral news,Breaking News - Raj Express
www.rajexpress.co