शहडोल : प्रशासन सहित क्या हम खुद हुए लापरवाह

शहडोल, मध्य प्रदेश : पॉजीटिव मरीज की ट्रेवल हिस्ट्री पर नहीं जा रहा किसी का ध्यान। परिजन खुद फैला रहे थोक में संक्रमण।
शहडोल : प्रशासन सहित क्या हम खुद हुए लापरवाह
प्रशासन सहित क्या हम खुद हुए लापरवाहSyed Dabeer-RE

शहडोल, मध्य प्रदेश। अगर आपकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो, आपको अपनी और अपने परिवार की जिम्मेदारी और सुरक्षा खुद ही करनी होगी। ऐसा इसलिए क्योंकि जैसे-जैसे कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं, प्रशासनिक लापरवाही भी बढ़ती जा रही है। नियमों के अनुसार पॉजिटिव आने वाले मरीज का घर सैनिटाइज कर इनके परिवार के सदस्यों के भी सैंपल लिए जाने चाहिए ताकि उनमें कोरोना के लक्षण विकसित होने से पहले ही पहचान हो जाए। इसके बावजूद इस नियम का पालन नहीं किया जा रहा है।

फैला रहे संक्रमण :

संभागीय मुख्यालय में पॉजिटिव आने वाले मरीजों के घर को न तो सैनिटाइज किया जा रहा है और न ही उनके परिवार के लोगों का सैंपल लेने टीम घर पहुंच रही है। यही कारण है कि घर का एक सदस्य कोरोना पॉजिटिव आने के बाद अस्पताल में तो भर्ती होता जा रहा है, लेकिन उस घर के अन्य सदस्य बाजार में घूम रहे हैं और कोरोना का संक्रमण फैला रहे हैं। खबर है कि प्रशासन ने पॉजिटिव मरीजों का बढ़ता हुआ आंकड़ा देखकर सैंपलिंग करना भी कम कर दिया है।

आमजन भी हुए लापरवाह :

कोरोना मरीजों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है, बढ़ते मरीज और संक्रमण को देखते हुए लोगों को अधिक सर्तकता बरतने की जरूरत है, किंतु इन दिनों कम सतर्कता देखी जा रही है। शहर के सड़कों से लेकर दुकानों तक पर कोरोना संक्रमण से बचने के उपायों के पालन को लेकर लापरवाही बरती जा रही है। स्थिति यह है कि बिना मास्क लगाए घूमते लोगों, वाहन चालकों, दुकानदारों और राहगीरों आदि को आसानी से देखा जा सकता है।

गाइडलाइन की उड़ी धज्जियां :

बीते महीनों की तुलना में सितंबर में कई गुना ज्यादा तेजी से मरीज मिले हैं। अब ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है, वहीं इसके विपरीत लोग पहले से अधिक लापरवाही दिखाने लगे हैं। दूध, सब्जी खरीदते समय जहां अब महिलाओं, पुरुषों के मुंह पर मास्क नजर नहीं आता तो खान-पान से लेकर अन्य दुकानों में भी लोग बिना किसी सुरक्षा के जा रहे हैं। महामारी से जिले के लोगों की आर्थिक स्थिति और ज्यादा खराब न हो, इसलिए शासन ने सशर्त छूट दी हुई है, लेकिन बाजार में गाइडलाइन की खुलेआम धज्जियां उड़ रही हैं।

आसानी से नहीं रूकेगा संक्रमण :

बाइक चलाने वाले मास्क नीचे करके शहर में घूम रहे हैं तो चाय-पान और नाश्ता की दुकानें वायरस फैलाने का काम कर रही हैं। शहर हो या गांव, दुकानें हों या मुख्य बाजार, लोग बिना मास्क के ही नजर आ रहे हैं। शहर में कुछ लोग कार्रवाई से बचने के लिए मास्क तो पहन रहे हैं, लेकिन वह नाक व मुंह के नीचे करके ही बातचीत कर रहे हैं, जो खतरनाक साबित हो रहा है। यदि अब भी लोग कोरोना महामारी को लेकर जागरूक नहीं हुए और शारीरिक दूरी का पालन नहीं किया, मास्क पहनने से परहेज किया तो यह संक्रमण आसानी से नहीं रुकेगा।

इनका कहना है :

किसी मरीज की अगर कोरोना पॉजीटिव रिपोर्ट आती है तो, अब पूर्व की भांति कांटेक्ट वालों की जांच विभाग उसको लाकर नहीं कराता, हां अगर किसी को अगर जांच करानी है तो, वह की जा रही है, यह लापरवाही नहीं है, ऊपर से जो निर्देश आते हैं, उसका पालन किया जा रहा है, सेनिटाइज का काम नगर पालिका है।

डॉ. राजेश पाण्डेय, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, शहडोल

ताज़ा ख़बर पढ़ने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। @rajexpresshindi के नाम से सर्च करें टेलीग्राम पर।

Related Stories

Raj Express
www.rajexpress.co